HBN News Hindi

जोमैटो के मोबाइल वॉलेट पर अब नहीं मिलेगी यह सुविधा, इस कारण कंपनी ने सौंपा यह लाइसेंस

Zomato Share Downfall : जोमैटो ने पेमेंट एग्रीगेटर लाइसेंस को सरेंडर कर दिया है और इसकी जानकारी कंपनी ने शेयर बाजार को भी दी है। इसी साल जनवरी में भारतीय (zomato payment licence) रिजर्व बैंक (RBI) ने यह लाइसेंस जोमैटो पेमेंट्स को दिया था। अब जोमैटो कंपनी ने इस लाइसेंस को पुरी तरह से सरेंडर कर दिया है।  अब जोमैटो कंपनी अपना पुरा ध्यान फूड पर ही रखना चाहती है।  आइए जानते हैं इसके बारे में विस्तार से इस खबर के माध्यम से।

 | 
जोमैटो के मोबाइल वॉलेट पर अब नहीं मिलेगी यह सुविधा, इस कारण कंपनी ने सौंपा यह लाइसेंस 

HBN News Hindi (ब्यूरो) : देश की जानी मानी कंपनी जोमैटो को हाल ही में आरबीआई की ओर से लाइसेंस मिला था और कंपनी अब इस लाइसेंस को स्वेच्छा (Zomato payment aggregator) से छोड़ने का फैसला किया है। इस फैसले के बाद जोमैटो कंपनी को 39 करोड़ रुपए का नुकसान हो सकता है।

 

 

कंपनी ने लिया चौंकाने वाला फैसला


देश की टॉप फूड एग्रीगेटर कंपनी जोमैटो ने बड़ा ही चौंकाने (RBI News) वाला फैसला लिया है।  फूड डिलिवरी करने वाली जोकैटो की सहायक कंपनी जोमैटो पेमेंट प्राइवेट लिमिटेड ने अपने पेमेंट एग्रीगेटर लाइसेंस को सरेंडर कर दिया है।  ये लाइसेंस कंपनी को हाल ही में आरबीआई की ओर से मिला था।  इस फैसले के बाद कंपनी के 39 करोड़ रुपए बर्बाद हो सकते हैं।  जो उसने जेडपीपीएल में निवेश के तौर पर डाले थे।  वैसे जेडपीपीएल ने ये साफ कहा है कि पेमेंट एग्रीगेटर के अलावा वो बाकी काम जारी रखेगी।  सोमवार को कंपनी के शेयर में करीब 4 फीसदी की गिरावट (Zomato Share Price) देखने को मिली थी।  आइए आपको भी इस खबर के बारे में विस्तार से जानकारी देने की कोशिश करते हैं। 

लाइसेंस को स्वेच्छा से छोड़ने का फैसला 


ऑनलाइन ऑर्डर लेकर खाना पहुंचाने वाली कंपनी जोमैटो ने सोमवार (Zomato payment Related issues) को शेयर बाजार को जानकारी देते हुए कहा कि उसकी सहायक कंपनी जोमैटो पेमेंट प्राइवेट लिमिटेड (जेडपीपीएल) ने भारतीय रिजर्व बैंक से मिले लाइसेंस को स्वेच्छा से छोड़ने का फैसला किया है।  यह प्रमाणपत्र ऑनलाइन पेमेंट एग्रीगेटर के रूप में काम करने की अनुमति देता है।  जोमैटो ने शेयर बाजार को बताया कि जोमैटो में, हम खुद को पेमेंट सेक्टर में काबिज प्लेटफॉर्म्स के मुकाबले कोई उल्लेखनीय प्रतिस्पर्धात्मक लाभ हासिल करते हुए नहीं देखते हैं।

 इसलिए इस स्तर पर पेमेंट सेक्टर में हमें व्यावसायिक रूप से व्यवहार्य व्यवसाय की उम्मीद नहीं है।  कंपनी को 24 जनवरी, 2024 से ऑनलाइन भुगतान एग्रीगेटर के रूप में काम करने के लिए केंद्रीय बैंक से लाइसेंस मिला था। 

जोमैटो के शेयर में बड़ी गिरावट 


शेयर बाजार में दी जानकारी के बाद जोमैटो के शेयर में सोमवार को बड़ी गिरावट (Zomato Share Downfall) देखने को मिली।  बीएसई से मिले आंकड़ों के अनुसार कंपनी का शेयर 3.82 फीसदी की गिरावट के साथ 193.70 रुपए पर बंद हुआ था।  वैसे कारोबारी सत्र के दौरान कंपनी का शेयर 186.90 रुपए के साथ दिन के लोअर लेवल पर भी पहुंच गया था।  वैसे जब बाजार ओपन हुआ था तो कंपनी के शेयर में मामूली तेजी देखने को मिली थी।

 

अगर बात मौजूदा साल की बात करें तो जोमैटो के शेयर ने निवेशकों करीब 58 फीसदी की कमाई कराई है।  वहीं बीते एक बरस में निवेशकों की कमाई 208 फीसदी से ज्यादा देखने को मिली है।