HBN News Hindi

Women Skills News : इस स्कीम के दम पर महिलाओं ने निखारा कौशल फिर छोड़ दिया पुरुषों को पीछे

Vishwakarma Yojana : महिलाओं ने ऐसी सरकारी (Skill Training)स्कीम का लाभ उठाया है न केवल उन्होंने (WOMEN)अपने कौशल को निखारकर अपने आप को आत्मनिर्भर (Vishwakarma Yojana)बनाया है अपितु पुरूषों को पछाड़ (Pradhan Mantri Vishwakarma Yojana)दिया है। ये हम नहीं सरकार द्वारा जारी आंकड़े (India skills training)में खुलासा हुआ है तो आइये जानते हैं कि कौन सी ये (PM Vishwakarma Yojana)सरकारी स्कीम है। जिसका लाभ उठाकर महिलाओं ने अपने आप इतना सक्षम बनाया है कि वे पुरूषों को पीछे छोड़ सकें। 

 | 
Women Skills News : इस स्कीम के दम पर महिलाओं ने निखारा कौशल फिर छोड़ दिया पुरुषों को पीछे 

HBN News Hindi (ब्यूरो) : समय तेजी से बदल रहा है। साथ-साथ (PM Vishwakarma Yojana beneficiaries)महिलाएं भी अपने आप को आत्मनिर्भर बनाने के लिए भरसक (PM Vishwakarma Yojana india)प्रयास कर रही है। खास बात है कि सरकारी आंकड़े के अनुसार महिलाएं अब पुरूषों से कंधे से कंधे मिलाकर (Skill Training Scheme)चलने की बजाय पुरूषों को पछाड़कर आगे निकलती जा रही है। सरकारी योजना के तहत (प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना)महिलाओं ने अपने कौशल का विकास किया। जबकि हम आपको (प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना के लाभार्थी)बताना चाहेंगे कि जब महिलाएं कौशल संबंधित प्रशिक्षण ले रही थी तो उस समय (प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना क्या है)पुरूषों व महिलाओं की कुल संख्या 3 लाख थी, जिनमें से महिलाओं की संख्या करीब ढाई लाख थी, जबकि शेष पुरूष थे। इसी आंकड़े से अंदाजा लगाया जा सकता है कि कौशल निखारने में महिलाएं कितनी ज्यादा पुरूषों से आगे हैं। 

68.76 प्रतिशत महिलाओं ने लिया था प्रशिक्षण 


सरकारी आंकड़ों के अनुसार, इस योजना के तहत अब तक 3.5 लाख लोगों को कौशल प्रशिक्षण का लाभ मिला है । उनमें (प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना का लाभ कैसे उठाएं)अकेले महिलाओं की संख्या 2.4 लाख है यानी अब तक जितने लोगों ने इस सरकारी योजना का लाभ उठाया है, उनमें 68.76 फीसदी महिलाएं हैं । वहीं प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना के तहत कौशल प्रशिक्षण पाने वाले पुरुषों की संख्या 1.1 लाख है, जो कुल लाभार्थियों के 31.3 फीसदी के बराबर है ।

इस काम का प्रशिक्षण ले रहीं महिलाएं


प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना के तहत प्रशिक्षण पाने वाली ज्यादातर (विश्वकर्मा योजना)महिलाएं टेलरिंग को पसंद कर रही हैं. आंकड़ों के अनुसार, अब तक प्रशिक्षण पाने वाली 2.4 लाख महिलाओं में से 2.3 लाख ने टेलरिंग की ट्रेनिंग ली है, जो कुल महिला लाभार्थियों के 95 फीसदी से भी ज्यादा है. पुरुषों में प्रशिक्षण पाने वालों में ज्यादातर राजमिस्त्री के काम को पसंद कर रहे हैं. इनकी संख्या 33,104 है । 

विश्वकर्मा योजना में मिलते हैं ये लाभ


प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना की शुरुआत पिछले साल सितंबर में हुई थी. इसके तहत लोगों को कौशल निखारकर (कौशल प्रशिक्षण योजना)अपना रोजगार शुरू करने या पसंद की नौकरी करने का अवसर मिलने मिलता है. योजना के तहत ट्रेनिंग के दौरान लाभार्थियों को 500 रुपये प्रति दिन का स्टाइपेंड मिलता है । प्रशिक्षण के बाद उन्हें विश्वकर्मा सर्टिफिकेट और आईडी दी जाती है. लाभार्थियों को टूल-किट खरीदने के लिए 15 हजार रुपये का प्रोत्साहन और रोजगार शुरू करने के लिए रियायती दर पर 2 लाख रुपये तक का लोन मिलता है ।

इन राज्यों में सबसे बढ़िया रिस्पॉन्स


योजना के तहत 18 पारंपरिक क्षेत्रों में प्रशिक्षण दिया जाता है. लाभार्थियों को पांच से सात दिनों की बेसिक ट्रेनिंग दी जाती है। दिल्ली, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल जैसे कुछ राज्यों को छोड़ दें तो बाकी राज्यों में योजना को अच्छा रिस्पॉन्स मिल रहा है। अभी तक सबसे ज्यादा 83,067 लोगों ने कर्नाटक में योजना का लाभ उठाया है. गुजरात और जम्मू कश्मीर में भी लाभार्थियों की संख्या 50-50 हजार से ज्यादा है ।