HBN News Hindi

Gold-silver coins पर बढ़ गया यह शुल्क, जानिये क्या हो गए सोने के रेट?

Gold Rate : एक ताजा अपडेट के अनुसार बता दें कि सरकार ने सोने व चांदी के सिक्कों पर आयात शुल्क बढ़ा दिया है। ऐसे में गौर करने वाली बात यह है कि इसका सोना व चांदी की धातु पर क्या असर पड़ा है। सिक्कों पर आयात शुल्क बढ़ने के बाद जानिये क्या हो गए हैं सोने के रेट इस खबर में विस्तार से।

 | 
Gold-silver coins पर बढ़ गया यह शुल्क, जानिये क्या हो गए सोने के रेट?

HBN News Hindi (ब्यूरो) : महंगाई के इस दौर में सोना-चांदी ही नहीं बल्कि इनसे बनी चीजों के रेट में लगातार उतार चढ़ाव में हैं। सरकार ने सोने और चांदी के सिक्के के आयात पर शुल्क को मौजूदा 10 प्रतिशत से बढ़ाकर 15 प्रतिशत कर दिया गया है। इतना ही नहीं सोने-चांदी की फाइंडिंग (gold and silver finding) पर भी आयात शुल्क में बढ़ोतरी की गई है।  बढ़ोतरी में 10% का मूल सीमा शुल्क और 5% का कृषि अवसंरचना और विकास उपकर (AIDC) शामिल है। इकोनॉमिक टाइम्स की खबर के मुताबिक, फाइंडिंग आइटम लाइन हुक, क्लिप हैं, जो आभूषण बनाने का एक कम्पोनेंट है। इसने खर्च किए गए उत्प्रेरकों पर शुल्क भी बढ़ा दिया, जिनका इस्तेमाल कीमती धातुओं को निकालने के लिए 14.35 प्रतिशत तक किया जाता है। नई दरें 22 जनवरी से प्रभावी हैं। सोने पर आयात शुल्क में कोई बदलाव नहीं किया गया।

 

Wheat Price 2024 : 2700 रुपये क्विंटल होगा गेहूं का भाव! केंद्र सरकार ने बढ़ाया न्यूनतम समर्थन मूल्य


जानें किस पर कितना शुल्क घटा-बढ़ा


खबर के मुताबिक, सरकार ने बजट 2023 के दौरान चांदी के डोर, बार और वस्तुओं पर आयात शुल्क बढ़ा दिया था, ताकि उन्हें सोने और प्लैटिनम के बराबर किया जा सके। चांदी पर मूल सीमा शुल्क 7.5 प्रतिशत से बढ़ाकर 10 प्रतिशत और आयात पर कृषि अवसंरचना और विकास उपकर (एआईडीसी) 2.5 प्रतिशत से बढ़ाकर 5 प्रतिशत कर दिया गया और चांदी डोर पर इसे बढ़ाकर 10 प्रतिशत मूल आयात शुल्क और 4.35 प्रतिशत एआईडीसी कर दिया गया। कीमती धातुओं से बनी वस्तुओं पर आयात शुल्क 22% से बढ़ाकर 25% कर दिया गया।

 

 

Property Document : प्रॉपर्टी पर मालिकाना हक के लिए होने चाहिए ये जरूरी डॉक्यूमेंट

 

 

जानिये इस रिपोर्ट को


वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल (World Gold Council)की रिपोर्ट के आंकड़ों के मुताबिक, साल 2023 की तीसरी तिमाही में भारत में बार और सिक्का निवेश 55 टन तक पहुंच गया, जो 2015 के बाद से तीसरी तिमाही में सबसे ज्यादा दर्ज किया गया। भारत में सोने की मांग आम तौर पर साल के आखिर में मजबूत होती है। तीसरी तिमाही में सोने की छड़ों और सिक्कों की मांग साल-दर-साल 20 फीसदी बढ़ी। नवरात्रि, दशहरा, धनतेरस और दिवाली जैसे त्योहारों के समय सोने के सिक्कों की डिमांड ज्यादा हो जाती है,क्योंकि सोने की खरीदारी इस समय शुभ मानी जाती है।