HBN News Hindi

Senior Citizen को टैक्स में मिलेंगे ये बेनिफिट, बच जाएगा मोटा पैसा

Senior Citizen Update: ताजा अपडेट के अनुसार आपको जानकर खुशी होगी कि सीनियर सिटिजन को टैक्स में आम आदमी से अधिक फायदे मिलते हैं। इसका एक कारण ये भी है कि उम्र के साथ-साथ उनके स्वास्थ्य पर होने वाला खर्चा बढ़ जाता है। अगर आप भी एक सीनियर सिटीजन (Senior Citizen tax burden news) हैं तो आइए जानते हैं इनकम टैक्स की धारा 80C के तहत सीनियर सिटीजन को मिलने वाले विशेष फायदों के बारे में।
 | 
Senior Citizen को टैक्स में मिलेंगे ये बेनिफिट, बच जाएगा मोटा पैसा

HBN News Hindi (ब्यूरो) : इनकम टैक्स विभाग सीनियर सिटीजन्स को कुछ स्पेशल टैक्स का फायदा (income tax news) देता है। अगर आप भी एक सीनियर सिटीजन हैं तो टैक्स पर मिलने वाले इन छूट का फायदा उठा सकते हैं। लेकिन इसके लिए टैक्सपेयर्स की आयु 60 साल से 80 के बीच में होनी चाहिए। आइए विस्तार से जानते हैं इनकम टैक्स द्वारा सीनियर सिटीजन (senior citizens ke liye khaas fayde) को दिए जाने वाले फायदों के बारे में।

 

senior citizens को ऐसे मिलेगा टैक्स बर्डन से छुटकारा

चुनाव के बाद 2024-25 का पूर्ण बजट अगले महीने के अंत तक आ जाएगा। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sithraman) इस बार बजट में कई ऐसे प्रावधान कर सकती हैं, जो इकोनॉमी में डिमांड को बढ़ाने का काम करें। इसमें टैक्स के बोझ को कम करना शामिल है। ऐसे में वो कौन से 4 तरीके हो सकते हैं, जो देश के सीनियर सिटीजंस (senior citizens) की आबादी पर टैक्स बर्डन को कम कर सकते हैं।

 

सीनियर सिटीजन को लेकर उठने वाला मुद्दा


भारत के टोटल टैक्सपेयर्स की संख्या में अच्छा खासा नंबर सीनियर सिटीजंस का भी है। इसकी वजह उनका अलग-अलग सोर्स से कमाई करना है। हालांकि जैसे-जैसे कॉस्ट ऑफ लिविंग बढ़ रही है, सीनियर सिटीजंस के लिए इनकम टैक्स घटाए जाने की वकालत भी हो रही है।

 

 

टैक्स बर्डन कम करने का तरीका


एक्सपर्ट का मानना है कि भारत सरकार कई तरह से सीनियर सिटीजंस के इनकम टैक्स का बोझ घटा सकती है। इनमें से 4 के बारे में नीचे बताया गया।


इस धारा के तहत भी मिलेगी छूट


सरकार सीनियर सिटीजंस को मेडिक्लेम के लेवल पर एक्स्ट्रा बेनेफिट दे सकती है। कोविड की चुनौतियों के बाद हालातों को देखते हुए सरकार मेडिक्लेम के 1 लाख रुपए तक के प्रीमियम को 80(D) के तहत टैक्स फ्री कर सकती है। ईटी की एक खबर के मुताबिक अभी ये लिमिट 50,000 रुपए (senior citizens ko itne ka extra milega discount ) है। अगर ये लिमिट बढ़ती है तो सीनियर सिटीजंस ज्यादा राशि का मेडिक्लेम भी ले सकते हैं।

इतनी होनी चाहिए उम्र


सरकार एक और काम ये कर सकती है कि अभी जो 75 साल से अधिक आयु वाले सीनियर सिटीजंस इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने से जो छूट (Discount on filing income tax return for senior citizens) मिलती है, उसे घटाकर 60 साल या 65 साल कर दे। हालांकि इसे वह सर्शत कर सकती है कि इस आयु में भी सीनियर सिटीजंस कहीं काम ना कर रहे हों, सिर्फ पेंशन या ब्याज ही उनकी मुख्य इनकम हो।

इन प्रोफिट्स पर भी नहीं लिया जाता कोई टैक्स


80(C) के तहत सरकार टैक्स में कई तरह की छूट देती है। इसमें ELSS या FD का 5 साल का लॉक-इन पीरियड होता है। सरकार चाहे तो सीनियर सिटीजंस के लिए इस लॉक-इन पीरियड की व्यवस्था को थोड़ा तर्क संगत बना सकती है। एक्सपर्ट का मानना है कि सरकार टैक्स में राहत देने के लिए सीनियर सिटीजंस को कैपिटल (Capital Gains Tax for Citizens) गेन टैक्स से छूट दे सकती है। क्योंकि रिटायरमेंट के बाद उनकी इनकम मुख्य तौर पर अकाउंट्स, फिक्स्ड डिपॉजिट, बॉन्ड्स में निवेश पर रिटर्न और डिविडेंड्स पर ही निर्भर करती है।