HBN News Hindi

Private Job वाले नहीं रहेंगे किसी से कम, जानिये यह बड़ा अपडेट

Private Job करने वाले भारतीयों के लिए यहां पर खास अपडेट सामने आया है। उनके लिए राहत भरी खबर यह है कि उनके लिए अनेक विकल्प खुलते दिखाई दे रहे हैं। लगातार जॉब के ऑप्शन बढ़ रहे हैं। यही कारण है कि देश के कई बड़े शहरों में तेजी से ऑफिस स्पेस की मांग बढ़ रही है। आइये जानते हैं पूरी डिटेल। 

 | 
Private Job वाले नहीं रहेंगे किसी से कम, जानिये यह बड़ा अपडेट

HBN News Hindi (ब्यूरो) : आज के समय में भारत में वर्कप्लेस की डिमांड (Demand for workplace in India) बढ़ रही है। यानी कंपनियों की तरफ से ऑफिस स्पेस की ज्यादा मांग आ रही है। नाइट फ्रैंक की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में नौकरियों की आउटसोर्सिंग करने वाली मल्टीनेशनल कंपनियों (Outsourcing multinational companies) के कारण यह डिमांड बढ़ रही है। 

 

Best Mileage cars : ये गाड़ियां हैं माइलेज की बाप, एक बार टैंक फुल कराने के बाद इतने किलोमीटर तक नो टेंशन

 

यह भी जानना जरूरी


वर्ल्ड कैपेसिटी सेंटर और थर्ड पार्टी के आईटी सर्विस प्रोवाइडर्स (IT service providers) ने 2023 में कुल पट्टे में 46 फीसदी का योगदान दिया है। रियल एस्टेट एडवाइजर नाइट फ्रैंक ने अपनी रिपोर्ट 'एशिया पैसिफिक होराइजन: हार्नेसिंग द पोटेंशियल ऑफ ऑफशोरिंग' में कहा है कि भारत में ऑफशोरिंग इंडस्ट्री एक अग्रणी वैश्विक सेवा प्रदाता के रूप में विकसित हुई है, जिसका वैश्विक ऑफशोरिंग बाजार में 57 फीसदी हिस्सा है।

 

Cheapest Electric Scooter : बेहद सस्ते रेट पर मिल रहा OLA का यह इलेक्ट्रिक स्कूटर, बाकी कंपनियों के छूटे पसीने

 

वैश्विक क्षमता केंद्र और वैश्विक व्यापार सेवा जैसे मॉडल हैं शामिल 


रिपोर्ट में बताया गया कि ऑफशोरिंग मार्केट में लागत बचत, विशेष कौशल और परिचालन क्षमता का लाभ उठाने के उद्देश्य से विदेश में स्थित बाहरी प्रदाताओं को व्यावसायिक प्रक्रियाओं या सेवाओं को आउटसोर्स करने वाली कंपनियां शामिल हैं। बिजनेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग (Business Process Outsourcing) के रूप में भी जाने जाने वाले ऑफशोरिंग मार्केट में वैश्विक क्षमता केंद्र (GCC) और वैश्विक व्यापार सेवा (GBS) जैसे विभिन्न मॉडल शामिल हैं। जीसीसी ऑफशोर प्लेस में कंपनियों द्वारा स्थापित इंटरनल यूनिट हैं। जबकि जीबीएस में वैश्विक स्तर पर सेवाओं की एक सीरीज प्रदान करने वाली केंद्रीकृत सेवा वितरण इकाइयां शामिल हैं।

PMAY Yojna : फरवरी की इस तारीख को मिली थी 16 वीं किस्त, जानें कब मिलेगी किसानों को इस योजना की अगली किस्त

ऑफशोरिंग इंडस्ट्री में हुई इतनी ग्रोथ


रिपोर्ट में कहा गया है कि साल 2023 में भारत में ऑफशोरिंग इंडस्ट्री (offshoring industry)में 27.3 मिलियन वर्ग फीट (वर्ग फीट) की कुल लीजिंग वॉल्यूम देखी गई, जो पिछले वर्ष की तुलना में 26 फीसदी की महत्वपूर्ण ग्रोथ है। ऑफशोरिंग में सेवाओं की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल है, जिसमें आईटी आउटसोर्सिंग, अनुसंधान और ज्ञान प्रक्रिया आउटसोर्सिंग सहित अन्य सेवा प्रक्रिया आउटसोर्सिंग शामिल है।

Cheapest Electric Scooter : आ गया सबसे सस्ता इलेक्ट्रिक स्कूटर, जरा से दाम देकर ले आएं घर

भारत करीब 42 फीसदी वैश्विक कंपनियों की मेजबानी करता है, जो देश से एंड-टू-एंड बिजनेस ऑफशोरिंग सॉल्यूशंस (End-to-End Business Offshoring Solutions) लेते हैं। ऑफशोरिंग इंडस्ट्री भारतीय अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण योगदान देती है।