HBN News Hindi

Mutual Fund KYC : केवाईसी नहीं कराया तो ये हो सकते हैं लॉस, जान लें म्यूचुअल फंड के नए नियम

How to check Mutual Fund KYC : केवाईसी अगर आपने नहीं करवाया है (Mutual fund)करवा लें अन्यथा आपको काफी नुकसान (KYC)झेलना पड़ सकता है। क्योंकि म्यूचुअल फंड के निवेशकों के लिए (ABP Premium)फ्रेश केवाईसी अनिवार्य है। आइये जानते हैं केवाईसी नहीं करवाने से आपको कौन-कौन से नुकसान झेलने पड़ सकते हैं। 

 | 
Mutual Fund KYC : केवाईसी नहीं कराया तो ये हो सकते हैं लॉस, जान लें म्यूचुअल फंड के नए नियम

HBN News Hindi (ब्यूरो) : म्यूचुअल फंड के निवेशकों को केवाईसी कराने (म्यूचुअल फंड)की आवश्यकता है। ये हम नहीं नए नियम बता रहे हैं। अगर आपने ऐसा नहीं किया तो आपको (म्यूचुअल फंड नॉमिनेशन)काफी नुकसान झेलना पड़ सकता है। क्योंकि शेयर बाजार में उठा-पटक होती रहती है। जिस कारण निवेशक भी अपने काम के तौर-तरीकें में भी बदलाव (म्यूचुअल फंड डेडलाइन)कर रहे हैं। हालांकि निवेशकों को फायदा जरूर हो रहा है लेकिन म्यूचुअल फंड के निवेशकों को नए नियमों के बारे में जानना (म्यूचुअल फंड के नियम)जरूरी है। तो आइये हम आपको बताने जा रहे हैं कि केवाईसी कराने से पहले नए नियमों को जानने को कितना आवश्यक है। 

नए सिरे से केवाईसी अनिवार्य


एक जरूरी बदलाव केवाईसी यानी नो योर कस्टमर (म्यूचुअल फंड नॉमिनेशन डेडलाइन)से जुड़ा हुआ है. बाजार नियामक सेबी ने म्यूचुअल फंड के निवेशकों के लिए नए सिरे से केवाईसी (म्यूचुअल फंड इन्वेस्टर्स)अनिवार्य कर दिया है. पहले इसकी डेडलाइन 31 मार्च तय की गई थी और कहा गया था कि उससे पहले जो निवेशक फ्रेश केवाईसी नहीं कराएंगे, उनके म्यूचुअल फंड अकाउंट को ब्लॉक कर दिया जाएगा।

होल्ड हो जाएगा आपका अकाउंट


हालांकि बाद में नियामक ने म्यूचुअल फंड के निवेशकों को बड़ी राहत दी और कहा कि (म्यूचुअल फंड के निवेशक)फ्रेश केवाईसी नहीं कराने पर भी अकाउंट को ब्लॉक नहीं किया जाएगा, बल्कि उसे सिर्फ होल्ड किया जाएगा. जैसे ही निवेशक फ्रेश केवाईसी कराएंगे, उनके म्यूचुअल फंड अकाउंट से होल्ड हटा दिया जाएगा. यह हर उस म्यूचुअल फंड इन्वेस्टर के लिए जरूरी है, जिन्होंने आधार वेरिफिकेशन के अलावा किसी भी दूसरे तरीके से केवाईसी कराई थी.

अभी चेक करें केवाईसी का स्टेटस


यहां सबसे जरूरी यह चेक करना हो जाता है कि आपने अपने म्यूचुअल फंड अकाउंट की केवाईसी कैसे कराई थी? अभी नियमों (म्यूचुअल फंड केवाईसी)में बदलाव के बाद क्या आपको भी केवाईसी कराने या उसे मोडिफाई कराने की जरूरत है? आप केवाईसी का स्टेटस चेक कर ये सारी बातें मालूम कर सकते हैं, जिसकी प्रक्रिया कुछ इस तरह है। 

ऑनलाइन स्टेटस चेक करने का प्रोसस


सबसे पहले https: //www.cvlkra.com/ पर विजिट करें
अब आप केवाईसी इन्क्वायरी (KYC Inquiry) पर क्लिक करें
आपको अपना पैन अकाउंट नंबर सबमिट करना होगा
अब आपको केवाईसी के स्टेटस के बारे में पता चल जाएगा


स्टेटस के साथ मिलेगी ये जानकारी


आपकी केवाईसी का स्टेटस ऑन होल्ड, रजिस्टर्ड, वैलिडेटेड या रिजेक्टेड में से कुछ बताया जाएगा. केवाईसी के स्टेटस के साथ ही आपको यह भी बता दिया जाएगा कि आपकी केवाईसी का चार्ज किस केवाईसी रजिस्टर्ड अथॉरिटी (केआरए) के पास है. अगर आपकी केवाईसी का स्टेटस रिजेक्टेड या ऑन होल्ड है तो आपको फ्रेश केवाईसी की जरूरत पड़ने वाली है। 

होल्ड होने पर ये नुकसान


केवाईसी के ऑन होल्ड होने का मतलब है कि आप कई सेवाओं का लाभ नहीं उठा सकते हैं. इस स्थिति में आप नई एसआईपी (Systematic Investment Plan) नहीं शुरू कर सकते हैं. आप कोई नया निवेश नहीं कर सकते हैं. इतना ही नहीं, बल्कि आप पुराने निवेश को रिडीम भी नहीं कर सकते हैं. ये सारी सुविधाएं पाने के लिए आपको नए सिरे से केवाईसी की जरूरत पड़ने वाली है। 

वैलिड डॉक्यूमेंट में भी बदलाव


सेबी ने केवाईसी डॉक्यूमेंटेशन में भी कुछ बदलाव किया है. नए वित्त वर्ष की शुरुआत यानी 1 अप्रैल 2024 से ये बदलाव लागू हो चुके हैं. अब (म्यूचुअल फंड केवाईसी डेडलाइन)कुछ चुनिंदा डॉक्यूमेंट के साथ ही निवेशक फ्रेश केवाईसी करा सकते हैं. पहले केवाईसी कराने में बैंक स्टेटमेंट या यूटिलिटी बिल जैसे दस्तावेजों का इस्तेमाल होता था. अब वैलिड डॉक्यूमेंट की लिस्ट से बैंक स्टेटमेंट और यूटिलिटी बिल को हटा दिया है। 

अब केवाईसी में सिर्फ ये डॉक्यूमेंट वैलिड हैं


आधार कार्ड
पासपोर्ट
ड्राइविंग लाइसेंस
वोटर आई कार्ड
नरेगा जॉब कार्ड.
रेगुलेटर के साथ एग्रीमेंट के तहत केंद्र के द्वारा स्वीकृत कोई अन्य दस्तावेज


ऐसे करा सकते हैं फ्रेश केवाईसी


अगर आपने नॉन-वैलिड डॉक्यूमेंट के साथ केवाईसी कराई थी, तो आपको फ्रेश केवाईसी के लिए ऑफलाइन जाना होगा. इसके लिए आपको अपने सर्विस प्रोवाइडर या फंड हाउस के दफ्तर का विजिट करना पड़ेगा. वैलिड डॉक्यूमेंट के साथ केवाईसी करा चुके इन्वेस्टर ऑनलाइन आधार वैलिडेशन के जरिए फ्रेश केवाईसी करा सकते हैं. इसके लिए आपको अपने संबंधित केआरए की वेबसाइट पर विजिट करना होगा और बताई गई प्रक्रिया का पालन करना होगा।