HBN News Hindi

Investment Tips For Stock Exchange : शेयर बाजार की उठापटक में कहां करें निवेश, जानिये ये खास टिप्स

Share Market News : शेयर बाजार में लगातार उतार-चढ़ाव का दौर जारी रहता है। ऐसे में निवेश  को लेकर जोखिम भी बढ़ जाता है। रिटर्न की गारंटी तय नहीं होती। (Saving with Stock Exchange) अब सवाल उठता है कि ऐसी स्थिति में विशेषकर छोटे निवेशक कहां निवेश करें यानी कौन से फंड चुनें ताकि उन्हें अच्छा रिटर्न मिल सके। आइये जानते हैं इस खबर में विस्तार से।

 | 
Investment Tips For Stock Exchange : शेयर बाजार की उठापटक में कहां करें निवेश, जानिये ये खास टिप्स

HBN News Hindi (ब्यूरो) : अगर आप शेयर बाजार में निवेश करने की सोच रहे हैं तो यह खबर आपके बहुत काम की है। बता दें कि यह कुछ दिन पहले की ही बात है। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (Bombay Stock Exchange) का संवेदी सूचकांक 75000 अंकों के भी पार चला गया था। लेकिन बीते लगातार चार सत्र से बाजार में गिरावट का माहौल है। 

 

LIC की ये स्कीम देगी मोटी पेंशन, लाखों लोग कर रहे निवेश

 

यह कहना है पूंजी बाजार के जानकारों का


बीएसई का संवेदी सूचकांक कल 72488 अंक पर बंद हुआ। ऐसे में छोटे निवेशक (Small Investors) घबरा जाते हैं। इसलिए पूंजी बाजार के जानकारों का कहना है कि छोटे निवेशकों को सीधे शेयर बाजार में कूदने के बजाए म्यूचुअल फंड (mutual fund) के रास्ते प्रवेश (return through Mutual Funds)करना चाहिए। इससे उन्हें पूंजी बाजार में निवेश का फायदा भी मिलता है और किसी गिरावट में भारी नुकसान भी नहीं होता है।

 

Amazing News : गजब का प्लान, अब घड़ी में 12 के बजाय बजेंगे 13 और यहां 26 घंटे का होगा दिन!

 

मिड कैप और स्मॉल कैप ने बेहतर रिटर्न दिया 

 

म्यूचुअल फंड में जब इक्विटी निवेश (equity investment)की बात आती है, तो निवेशकों के पास लार्ज, मिड और स्मॉल कैप (Large, Mid and Small Cap)के बीच चयन करने का विकल्प होता है। पिछले एक साल में, मिड और स्मॉल कैप ने बेहतर रिटर्न दिया है, परिणामस्वरूप, आज वो महंगे हो गए हैं। ऐसे में अब लार्जकैप एक बेहतर विकल्प है क्योंकि इसका मूल्यांकन अभी भी आकर्षक है।

 

OPS Demand : वोट उसी को जाएगा, जो बुढ़ापे की लाठी लौटाएगा, कर्मचारी संगठन ने उठाई ओल्ड पेंशन स्कीम की मांग

 

लार्ज कैप में निवेश के कारण

 

शिल्पी फाइनेंसियल सर्विसेज के सुधाकर शेट्‌टी बताते हैं कि लार्ज कैप म्यूचुअल फंड में निवेश करने का एक कारण यह है कि वैश्विक विकास, महंगाई और देशों के बीच तनाव से निकट अवधि में अस्थिरता पैदा हो सकती है। भारत की मजबूत मौलिक स्थिति के बावजूद, लार्ज कैप में निवेश (investing in large caps)से समग्र पोर्टफोलियो पर अस्थिरता के प्रभाव को कम करने में मदद मिलेगी। ऐसे में लार्ज कैप आधारित म्यूचुअल फंड बेहतर रिटर्न दे सकते हैं।

IMD Rain Alert : इस बार मानसून सीजन में जमकर होगी बरसात, किसानों को मिल सकती है बंपर पैदावार की सौगात


ये मानी जाती हैं मजबूत कंपनियां

उनके मुताबिक, लार्ज कैप म्यूचुअल फंड मुख्य रूप से भारत की शीर्ष 100 लिस्टेड कंपनियों में निवेश करते हैं। ये मजबूत बाजार पूंजीकरण (Market capitalization) वाली, ट्रैक रिकॉर्ड, मजबूत बैलेंस शीट, कॉर्पोरेट गवर्नेंस और आम तौर पर मौलिक रूप से मजबूत कंपनियां मानी जाती हैं। इन विशेषताओं को देखते हुए, ये कंपनियां सेक्टर की लीडर भी बनती हैं।

High Court Decision : सहमति से बनाए थे संबंध तो दुष्कर्म कैसे, कोर्ट ने सुना दिया यह फैसला


ये हैं विकल्प

जब लार्ज कैप फंड चुनने की बात आती है तो भारतीय निवेशकों के पास निवेश के लिए कई विकल्प हैं। इस श्रेणी में सबसे पुराने, सबसे बड़े और लगातार प्रदर्शन करने वालों में से एक आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल ब्लूचिप फंड रहा है। यह फंड अच्छे ट्रैक रिकॉर्ड, गुणवत्ता प्रबंधन (quality management)और अच्छी विकास क्षमता प्रदान करने वाली उच्च विश्वास वाली बड़ी कैप कंपनियों में अपने खरीद और पकड़ दृष्टिकोण के लिए जाना जाता है।

Chanakya Niti : ऐसे लड़के को देखकर कंट्रोल खो बैठती है शादीशुदा महिला, तड़प उठती है इस काम के लिए

 29 फरवरी, 2024 तक फंड ने एक साल में 39.37% का रिटर्न दिया और तीन और पांच वर्षों में क्रमशः 20.42% और 18.74% का रिटर्न दिया। परिणामस्वरूप, फंड ने न केवल अपने बेंचमार्क को पछाड़ दिया है बल्कि अपनी श्रेणी के औसत से बेहतर प्रदर्शन भी किया है।