HBN News Hindi

Income Tax : क्या खेती की जमीन को बेचने पर भी भरना पड़ेगा टैक्स, जानें इनकम टैक्स का अपडेट

Income Tax Rules: अक्सर लोग जमीन से जुड़े कानूनि नियमों के बारे में जानना चाहते हैं कि कौन से जमीन की खरीद बेच पर कितना देना होगा टैक्स क्या खेती की जमीन पर भी भरना होगा टैक्स । अगर हां तो स्लेब क्या होगा ? आइए जानते हैं इस स्लेब के बारे में डिटेल से।
 
 | 
Income Tax : क्या खेती की जमीन बेचने को बेचने पर भी भरना पड़ेगा टैक्स, जानें इनकम टैक्स के अपडेट

HBN News Hindi (ब्यूरो) : अगर आप भी खेती की जमीन (farming land) को खरीदने या बेचने के बारे में सोच रहे हैं तो ये खबर आपके लिए उपयोगी सिध्द हो सकती है । आयकर विभाग के कृषि योग्य भूमि की खरीद बेच पर लगने वाले टैक्स स्लेब के बारे में और कितने की प्रोपर्टी पर कितना टैक्स (How much tax on property) भरना पड़ेगा । आइए जानते हैं आयकर विभाग के इस स्कीम के बारे में डिटेल से।

 

Chanakya Niti : ऐसे लड़के को देखकर कंट्रोल खो बैठती है शादीशुदा महिला, तड़प उठती है इस काम के लिए

 


इन जमीनो पर लगता है टैक्स


भारत में फ्लैट, मकान, दुकान और इंडस्ट्रीयल भूमि की बिक्री (sale of industrial land) करने पर कैपिटल गेन टैक्स लगता है। लेकिन कृषि योग्य भूमि की बिक्री करने पर कितना और कैसे टैक्स लगता है। इसे लेकर नियमों के बारे में कम ही लोगों को जानकारी है।


धारा 2(14) के मुताबिक, कृषि योग्य भूमि तब तक कैपिटल एसेट नहीं मानी जाती है। जब तक वह नीचे दी गई शर्तों को पूरा नहीं कर लेती है।

 

- अगर भूमि नगर पालिका या कैंट बोर्ड की सीमा के अंदर आती है और जनसंख्या 10,000 से अधिक है।

 

Aaj Ka Rashifal, 15 अप्रैल : आज इन राशि वालों की होगी मौज और इन पर बढ़ सकता है खर्चों का बोझ

 

- भूमि 10,000 से अधिक या 1,00,000 से कम जनसंख्या वाले नगर पालिका या कैंट बोर्ड की सीमा के दो किलोमीटर अंदर आती है।

- भूमि 100,000 से अधिक या 10,00,000 से कम जनसंख्या वाले नगर पालिका या कैंट की सीमा के छह किलोमीटर अंदर आती है।

- भूमि 10,00,000 से अधिक आबादी वाली किसी भी नगर पालिका/कैंट बोर्ड की सीमा के आठ किलोमीटर के अंदर आती है।

 

कैपिटल गेन टैक्स का नियम 


  
वहीं, अगर जमीन ऊपर दिए गए किसी भी दायरे में नहीं आती है तो वह कृषि योग्य भूमि मानी जाएगी और उसकी बिक्री पर कोई भी कैपिटल गेन टैक्स का नियम (capital gains tax rules) लागू नहीं होगा। इस प्रकार की कृषि योग्य भूमि की बिक्री (sale of agricultural land) पर किसी भी प्रकार का कोई लाभ/हानि होती है। वह इनकम टैक्स के दायरे में नहीं आएगी।

 

लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स 


अगर भूमि ऊपर दिए गए किसी भी दायरे में आती है, तो उसे कैपिटल एसेट (capital asset) माना जाएगा और उस पर कैपिटल गेन टैक्स लगेगा। अगर जमीन को खरीदे हुए 24 महीने से अधिक का समय हो चुका है तो लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स (Long Term Capital Gains Tax) लगेगा। अन्यथा शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन टैक्स जमा करना होगा।

 

 Relationship tips : शादीशुदा महिलाओं की इन चीजों को देखकर कंट्रोल खो देते हैं कुंवारे लड़के, हो जाते हैं फिदा
 

जमीन की बिक्री कर पैसा ऐसे करे वैल्यूएशन 


अगर जमीन ब्रिकी कर कोई व्यक्ति अपने बच्चों या पत्नी को पैसे ट्रांसफर करता है, तो ट्रांसफर किया गया पैसा कर के दायरे में नहीं आएगा। लेकिन जमीन बिक्री के अहम दस्तावेजों को संभालकर रखना चाहिए। इसके साथ ही किसी भी जमीन की ब्रिकी करने से पहले उसका वैल्यूएशन भी किसी विशेषज्ञ (Valuation can also be done by an expert) की मदद से करा लेना चाहिए।