HBN News Hindi

Income Tax News : कर के दायरे में नहीं है इनकम तो भी आईटीआर के लिए करें आवेदन, मिलेगी काफी सुविधाएं

ITR Update News : अगर आपकी इनकम कर (ITR)के दायरे में नहीं आती है तो भी आपको आईटीआर के लिए आवेदन (ITR filing)करना फायदेमंद साबित होगा। क्योंकि भविष्य में आने (Income Tax Return)वाली चुनौतियों से लड़ने के लिए यह आईटीआर महत्वपूर्ण रोल अदा करेगी। इतना ही नहीं जो दस्तावेज आपका किसी कारणवश गुम या फिर कट-फट गया है तो (ITR Filing Importance)आईटीआर आपका पहचान पत्र का काम भी कर सकती है। तो आइये बताते हैं कि आईटीआर के लिए आवदेन करना क्यूं है जरूरी। 

 | 
Income Tax News : कर के दायरे में नहीं है इनकम तो भी आईटीआर के लिए करें आवेदन, मिलेगी काफी सुविधाएं

HBN News Hindi (ब्यूरो) : यदि आपकी इनकम कर के दायरे (Benefits of Filing Income Tax Returns)में नहीं आती है और आप सोच रहे हैं कि अब तो आईटीआर भरने की कोई जरूरत नहीं है। तो (Benefits of Filing ITR for Salaried Class)आप गलत सोच रहे हों। क्योंकि अगर आपकी इनकम कर के दायरे में आती है तो आपको अवश्य आईटीआर भरना चाहिए। इससे बड़ा फायदा (ITR Filing Benefits)यह होगा कि आईटीआर भरने से आपका भविष्य सेफ भी रहेगा और सिक्योर भी रहेगा। तो आइये हम आपको बतलाने जा रहे हैं कि कर के दायरे में यदि आपकी इनकम नहीं है तो भी आईटीआर भरना कितना फायदेमंद हो सकता है। 

आईटीआर बन सकता है पहचान पत्र 


अपने आईटीआर डॉक्यूमेंट को आप (इनकम टैक्स रिटर्न)पहचान पत्र के रूप में यूज कर सकते हैं। आईटीआर में दर्ज पते को आप किसी (इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने के फायदे) भी सरकारी दस्तावेज के आवेदन के लिए पते के रूप में यूज कर सकते हैं। इसके साथ ही आईटीआर डॉक्यूमेंट का इस्तेमाल इनकम प्रूफ के रूप में भी किया जा सकता है। इस दस्तावेज में आपके इनकम का पूरा डिटेल दर्ज होता है। ऐसे में इसे आप इनकम प्रूफ के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं ।

आप इस स्थिति में कर सकते है टीडीएस क्लेम


कई कंपनियां अपने कर्मचारियों को 10 फीसदी टीडीएस काट (आईटीआर) कर सैलरी देती हैं। ऐसे में अगर आपकी इनकम टैक्स स्लैब से बाहर है तो आप साल के अंत में (आईटीआर फाइल करने के फायदे) आईटीआर फाइल करके कटे हुए टीडीएस (TDS) को क्लेम कर सकते हैं। बैंक से किसी प्रकार का लोन लेने में आईटीआर डॉक्यूमेंट मददगार साबित हो सकता है । आमतौर पर (आईटीआर फाइल करने के लाभ)बैंक कार लोन, होम लोन आदि के लिए ग्राहकों से पिछले तीन साल का आईटीआर रिटर्न का प्रमाण मांगते हैं। इससे बैंक यह पता लगता है कि व्यक्ति लोन चुकाने में सक्षम है या नहीं। कई देशों के वीजा एप्लीकेशन में इनकम सर्टिफिकेट आवश्यक होता है। ऐसे में आप आईटीआर डॉक्यूमेंट से आपका वीजा एप्लीकेशन आसान हो जाता है।