HBN News Hindi

Income Tax : जानें कैश ट्रांजेक्शन के ये नियम, नहीं तो आ जाएगा इनकम टैक्स नोटिस

Income Tax  : आयकर विभाग के इन नियमों को तोड़ने पर आपको भारी नुकासान का सामना करना पड़ सकता है अगर आप भी एक टैक्सपैयर्स हैं तो आपको बता दें कि इन नियमों के बारे में जानना आपके लिए बेहद जरूरी है। वर्ना आप भी आयकर विभाग के रडार में आ सकते हैं आइए जानते हैं इन नियमों के बारे में डिटेल से।
 
 | 
Income Tax  :  जानें कैश ट्रांजेक्शन के ये नियम, नहीं तो आ जाएगा इनकम टैक्स नोटिस

HBN News Hindi (ब्यूरों) : आज के समय हर टैक्सपेयर्स (taxpayers)अपनी इनकम पर दिए जाने वाले टैक्स से बचने के लिए कैश ट्रांजेक्शन करना ज्यादा पसंद करते हैं अगर आप भी एक टैक्सपेयर्स हैं तो आपको बता दें कि इन ट्रांजेक्सन से आप इनकम टैक्स के रडार (income tax radar) में आ सकते हैं। आइए जानते है इन ट्रांजेक्शन के बारे में डिटेल से।
 

Delhi-NCR Weather Today : दिल्ली में बारिश के बाद होगा मौसम कूल, तेज आंधी का अलर्ट जारी

 

Income Tax Notice : अगर आप ज्यादातर डील0 कैश (Cash) में ही करते है तो अब आपको सावधान रहने की जरूरत है।दरअसल आप पर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट (Income Tax) की नजर हो सकती है। अब विभाग कैश में डील करने वालो को खास तरीके से नोटिस कर रहा है। अगर आपने भी इस लिमिट से ज्यादा कैश में ट्रांजेक्शन की तो आपके घर 100 प्रतिशत इनकम टैक्स का नोटिस आएगा। 

Bank Holiday on 19 april, 2024 : आज इन राज्यों के कई शहरों में नहीं खुलेंगे बैंक, चुनाव के कारण रहेगी छुट्‌टी

 

Income Tax Notice Kab Aata Hai: अगर आप ज्यादातर कैश (Cash) में ही डील करते है तो अब आप सतर्क और सावधान हो जाए। आप पर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट (Income Tax) की नजर हो सकती है। अब विभाग कैश में डील करने वालो को खास तरीके से नोटिस कर रहा है। विभाग आपकी हर ट्रांजैक्शन पर नजर बनाये हुए हैं, जिन पर आप बड़ी कैश डील कर रहे है। अगर आप ऐसा करते है, तो ये खबर आपको एक बार जरूर पढ़नी चाहिए। इस बारे में क्या नियम बनाये गए है।

Aaj Ka Rashifal, 19 अप्रैल : आज इन राशि वालों को मिलेगा अपार धन और इनका नुकसान होने से उदास रहेगा मन

 

नियमों को किया सख्त -


आयकर विभाग ने बैंक (Bank), म्यूचुअल फंड हाउस (Mutual Fund House), ब्रोकर प्लेटफॉर्म (Broker Platform), प्रॉपर्टी आदि में नकद निवेश को लेकर सख्ती दिखाई है। अगर आप बड़े कैश ट्रांजेक्शन करते हैं, तो उन्हें आयकर विभाग की इसकी सूचना देनी होगी। हम आपको ऐसे ही कुछ ट्रांजेक्शन के बारे में बताने जा रहे है। जो कभी आपके लिए बड़ी परेशानी खड़ी कर सकते है।

 

Triumph Tiger 900 : लग्जरी कार से भी महंगी है यह बाइक, कीमत जानकर रह जाओगे हैरान

 

इससे ज्यादा का न करें कैश पेमेंट


अगर आप किसी शेयर, म्यूचुअल फंड, डिबेंचर और बॉन्ड में कैश ट्रांजेक्शन करते हैं तो एक वित्त वर्ष में 10 लाख रुपये तक की ही कैश ट्रांजेक्शन कर सकते है। अगर आप इसमें पैसा लगाते है, तो बड़ी मात्रा में कैश का इस्तेमाल नहीं करे। अगर फिर भी ऐसा करते है, तो आपको विभाग नोटिस (department notice) भेज सकता है। 

Electricity News : बिजली का बिल कर रहा हिट तो सौलर पैनल है बिलकुल फिट

इतने का कर सकते हैं FD निवेश


अगर आप साल में एक बार या एक से अधिक बार में एफडी में 10 लाख रुपये या उससे अधिक जमा कर रहे हैं, तो आयकर विभाग आपसे पैसों के स्रोत की जानकारी (Information about source of funds) मांग सकता है। अगर मुमकिन हो तो एफडी में अधिकतर पैसे ऑनलाइन माध्यम से या फिर चेक के जरिए जमा करें।

Lok sabha Elections 2024 : नहीं है वोटर कार्ड तो भी डाल सकते हैं अपना वोट, जानिये कैसे

एक बार में इतना हो सकता है केश डिपोजिट


अगर कोई शख्स एक वित्त वर्ष में अपने एक खाते या एक से अधिक खातों में 10 लाख रुपये या उससे अधिक की रकम कैश में जमा करता है। तो आयकर विभाग पैसों की जानकारी मांग सकता है। चालू खातों में अधिकतम (Maximum in current accounts) सीमा 50 लाख रुपये है।

KCC : किसानों की हो गई बल्ले-बल्ले, ये सरकारी बैक दे रहा 3 लाख का लोन


अगर आप क्रेडिट कार्ड का बिल कैश (credit card bill cash) में जमा करते हैं। अगर आप एक बार में 1 लाख रुपये से अधिक कैश क्रेडिट कार्ड के बिल के तौर पर जमा करते हैं तो आयकर विभाग आपसे जानकारी ले सकता है। वहीं अगर आप एक वित्त वर्ष में 10 लाख रुपये से अधिक के क्रेडिट कार्ड बिल का भुगतान कैश में करते हैं, तो भी आपसे पैसों से स्रोत पूछा सकता है।

Money Saving Tips: इन तरीको से बचाएं पैसा, जल्द बन जाएगें अमीर

इतने की कर सकते हैं कैश पेंमेंट 


अगर आप कैश में प्रॉपर्टी रजिस्ट्रार के पास बड़ी ट्रांजेक्शन करते हैं तो उसकी रिपोर्ट आयकर विभाग के पास जाती है। अगर आप किसी 30 लाख या उससे अधिक की प्रॉपर्टी को कैश (cash to property) में खरीदते या बेच रहे हैं, तो प्रॉपर्टी रजिस्ट्रार की तरफ से इसकी जानकारी आयकर विभाग को भेजी जाती है।