HBN News Hindi

Income Tax Department: नोटिस का जवाब नहीं देने वालों की होगी जांच , पेश करने होंगे ये दस्तावेज

Income Tax Notice : आपको बता दें कि टैक्सपेयर्स के लिए शानदार खबर है जिसके मुताबिक इनकम टैक्स ने अब अपने जांच प्रक्रिया को बदल दिया है। आपको बता दें कि आयकर विभाग से प्राप्त नोटिस पर कोई प्रक्रिया नहीं करने पर आपको भारी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है आइए जानते हैं इस बारे में विस्तार से।
 
 | 
Income Tax Department: नोटिस का जवाब नहीं देने वालों की होगी जांच , पेश करने होंगे ये दस्तावेज

HBN News Hindi (ब्यूरो) : आज के समय में इनकम टैक्स (Income Tax) हर किसी को नोटिस जारी कर रही है आपको बता दें कि अब इनकम टैक्स नई जांच की तैयारी में है। इसके तहत ऐसे आयकरदाताओं की अनिवार्य जांच की जाएगी, जिन्होंने विभाग के भेजे गए नोटिस का जवाब नहीं दिया है। उन मामलों की भी जांच होगी, जहां कर चोरी के संबंध में विशिष्ट जानकारी किसी कानून प्रवर्तन एजेंसियों या नियामक प्राधिकरणों (enforcement agencies or regulatory authorities) ने दी है। आइए जानते हैं इस अपडेट के बारे में विस्तार से।

 

 

Aaj Ka Rashifal, 21 अप्रैल : जानिए, आज आपकी राशि क्या कहती है


 
इन कारणों से किया जाएगा आइटीआर की गहन जांच


अगर इनकम टैक्स विभाग (Income Tax Department) की ओर से आपको आमदनी या टैक्स संबंधित कोई सवाल (any tax related questions) पूछा जाता है तो आप तय समय में उसका जवाब दें। अगर नोटिस भेजा जाता है तो उसका तुरंत जवाब दें। अगर आपने ऐसा नहीं किया तो आपके इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) को पूरी जांच के लिए चुना जा सकता है। तकनीकी रूप से कहें तो आपके ITR को गहन जांच की कैटिगरी में डाला जा सकता है।

 

Sapna Chaudhary को इस मामले में हाई कोर्ट से राहत, निचली कोर्ट ने लगाई थी यह रोक

इसके अलावा इनकम टैक्स विभाग लगातार आपसे सवाल-जवाब भी जारी रखेगा। गहन जांच का मतलब है कि व्यक्ति के ITR की जांच टैक्स चोरी के विभिन्न पहलुओं को सामने रखकर की जाएगी, जिसमें आमदनी का गलत ब्योरा देना, ब्लैक मनी को छिपाना शामिल है। ऐसे व्यक्ति के खिलाफ इनकम टैक्स विभाग सर्च ऑपरेशन (Income Tax Department Search Operation)भी कर सकता है।


CBDT ने लागू किए ये नए नियम


Central Board of Direct Taxes (CBDT) ने पूरी जांच के लिए ITR का चयन करने के लिए गाइडलाइंस जारी किए हैं। यह केवल चालू वित्त वर्ष यानी 2023-24 के लिए लागू है। गाइडलाइंस में कहा गया है कि इनकम टैक्स विभाग ने टैक्स चोरी और जब्ती के मामलों में जहां सर्वेक्षण किया था, जहां टैक्स चोरी को लेकर नोटिस भेजे गये थे, वहां पर इनकम टैक्स रिटर्न की गहन जांच जरूरी है।

 

Weather News : यूपी में भीषण गर्मी ने लोगों को घरों में कैद रहने पर किया मजबूर, रात को भी नहीं मिली राहत
 

इन चीजों का देना होगा ब्योरा

 

 एक सीनियर अफसर का कहना है कि इनकम टैक्स विभाग (Income Tax Department), उन्हीं टैक्स पेयर्स से सवाल करता है, जिनकी इनकम के ब्योरे को लेकर उसको संदेह होता है। विभाग को लगता है कि टैक्सपेयर ने आमदनी की गलत जानकारी दी है। अपनी आमदनी को छिपाया है, जो ब्लैक मनी के दायरे में आता है। यह सीधे तौर पर टैक्स चोरी है।


Locker Services मुहैया करवाने वाली कंपनी नहीं बताती ये खास जानकारी, जिसे जानना हर ग्राहक के लिए होगा फायदेमंद
 

इन कारणों से देना होगा पूरी जानकारी


ऐसे में जब इनकम टैक्स विभाग (Income Tax Department) उससे कोई सवाल पूछता है तो उसको तय समय में जवाब देना चाहिए। विभाग उसके जवाब से संतुष्ट हो जाए तो मामला खत्म कर दिया जाता है। अगर जवाब संतोषजनक नहीं हुए तो फिर तय नियम के तहत आगे की कार्रवाई होगी। ऐसे में जरूरी है कि इनकम टैक्स विभाग के सवालों के जवाब (Answers to Income Tax Department questions) दिए जाएं। इससे एक रास्ता खुलता है मामले को निपटाने का। अगर किसी ने गलती से आमदनी की सही जानकारी देने में भूल की है तो पेनल्टी चुकाकर उस मामले को सुलझाया जा सकता है। अगर टैक्सपेयर ने सवालों के जवाब देने में लापरवाही की तो फिर उसका परिणाम घातक हो सकता है।