HBN News Hindi

NCPI की नई गाइडलाइन जारी, अब UPI से नहीं कर सकेंगे एक दिन में इतनी ट्रांजैक्शन

UPI Payment बीते कुछ सालों में डिजिटल लेन-देन में तेजी से इजाफा हुआ है।जैसा कि आप जानते हैं UPI भुगतान में आपका मोबाइल ही वर्चुअल मनी वॉलेट के तौर पर काम करता है। यूनाइटेड पेमेंट्स इंटरफेस (UPI) के जरिए मनी ट्रांसफर काफी आसान हो गया है।अगर आप भी ऑनलाइन पेमेंट App यूज करते हैं, तो ये खबर आपके लिए काम की है।इस खबर के जरिए आपका ऑनलाइन पेंमेंट में लगने वाला मोटा पैसा बच सकता है।आइए जानते हैं इस खबर के बारे में।  
 
 | 
NCPI की नई गाइडलाइन जारी, अब UPI से नहीं कर सकेंगे एक दिन में इतनी ट्रांजैक्शन

HBN News Hindi (ब्यूरो) : भारत में कुछ सालों में ऑनलाइन पेमेंट में बढ़ोतरी हुई है। हालांकि इन ऐप्स के जरिए पेमेंट करते हुए आपको सभी UPI पेमेंट सिक्योरिटी  तरकीबों के बारे में पता होना चाहिए। आज हम आपको UPI की इस नई गाइडलाईन के बारे में(refer and earn upi app) बताएंगे, जिससे आपके जरूरत से ज्यादा पैसे वेस्ट नही होंगे। आइए जानते हैं इस खबर में।

 


UPI ट्रांसफर की अब इतनी होगी  लिमिट


NCPI के मुताबिक, ट्रांजैक्शन लिमिट 1 लाख रुपये प्रतिदिन है। हालांकि, अगर शैक्षणिक संस्थानों और स्वास्थ्य सेवा के लिए(daily transfer through UPI is Rs 25,000 to Rs 1 lakh.) भुगतान करना है, तो यह लिमिट 5 लाख रुपये तक है। एक बैंक से दूसरे बैंक में UPI से रोजाना ट्रांसफर की अधिकतम सीमा 25,000 रुपये से लेकर 1 लाख रुपये तक होती है। कुछ बैंकों ने अपनी ऊपरी सीमा एक दिन के बजाय एक हफ्ते या महीने के हिसाब से तय की है।

 


अब हर 20 UPI ट्रांजैक्शन की अनुमति 

NCPI ने हर दिन UPI ट्रांजैक्शन की अधिकतम संख्या के लिए(National Payments Corporation of India ) ऊपरी सीमा तय की है। नई गाइडलाइन के मुताबिक, हर दिन 20 UPI ट्रांजैक्शन की अनुमति है। इसके बाद यूजर को ट्रांजैक्शन शुरू करने के लिए 24 घंटे तक इंतजार करना होगा। ये लिमिट हर बैंक में अलग-अलग हो सकती है। थर्ड पार्टी UPI ऐप के लिए सिर्फ़ 10 ट्रांजेक्शन की अनुमति है।

 

आम ग्राहकों से कोई ट्रांजेक्शन शुल्क नही


NCPI ने सभी UPI ऐप पर 30% वॉल्यूम कैप लगा दी है। ऐसा इसलिए किया(Unified Payments Interface) गया है ताकि UPI ऐप UPI मार्केट में भरोसा हासिल न कर सकें। PhonePe, Paytm, Sodexo Voucher, Freecharge और Amazon Pay जैसे डिजिटल वॉलेट के ज़रिए UPI पेमेंट करने पर 2000 रुपये से ज़्यादा के कुछ मर्चेंट पेमेंट पर 1.1% तक का(WhatsApp payment with UPI apps) इंटरचार्ज शुल्क देना पड़ता है। बैंक पेमेंट सर्विस के लिए यह खास शुल्क लेता है। जिस मर्चेंट को पेमेंट मिला है, उसे यह भुगतान करना होता है। हालांकि, आम ग्राहकों को ट्रांजेक्शन शुल्क नहीं देना पड़ता है।