HBN News Hindi

Loan के नियमों में हुए भारी बदलाव, लोन लेने से पहले जानें आरबीआई के निर्देश

RBI Update: अगर आप भी होम लोन या पशर्नल लोन लेने के बारे में सोच रहे हैं तो आपको बता दें आरबीआई ने लोन के नियमों में भारी बदलाव कर दिए हैं। जिसके तहत किसी भी लोन धारक की मर्जी के बिना कोई चार्ज नहीं काटा जा सकता हैं आइए जानते हैं इन बदलाव के बारे में खबर में डिटेल से।
 | 
Loan के नियमों में हुए भारी बदलाव, लोन लेने से पहले जानें आरबीआई के निर्देश

HBN News Hindi (ब्यूरो) : आज के समय लोग अक्सर अपने जरूरतों को पूरा करने या आपतकालीन स्थितियों (emergency situations)से निपटने के लोन का सहारा लेते हैं आपको बता दें कि आरबीआई ने हर प्रकार के लोनो के अलग-अलग कानून बनाए हैं लेकिन के ये अपडेटिड निर्देश (Updated instructions) सभी लोनो के पर अप्लाई होगा । आइए जानते हैं आखिर कब होंगे लागू ये नियम जाने पूरी अपडेट खबर के माध्यम से।
 
 

Delhi Weather Forecast : दिल्ली में लू के बिना बीतेगा अप्रैल का महीना, चलेंगीं तेज हवाएं नहीं आएगा पसीना!

 

New Loan Rules: अगर आप भी आने वाले दिनों में लोन लेने का प्लान बना रहे हैं तो आरबीआई की तरफ से नियमों में बदलाव होने वाला है। अगर आप 1 अक्टूबर के बाद से लोन लेंगे तो आपको नए नियमों के तहत लोन मिलेगा, लेकिन यह नियम कुछ खास तरह के लोन पर ही बदल रहे हैं।

 

MSME के नए नियम


रिजर्व बैंक की तरफ से इस बारे में जानकारी दी गई है। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने कहा कि बैंकों और एनबीएफसी (NBFC) को एक अक्टूबर से रिटेल और MSME लोन के नियम बदल रहे हैं। 

 

Chanakya Neeti : ऐसी महिला से रिश्ता नहीं आता रास, नरक बन जाती है जिंदगी, ऐसे करें पहचान

 

लोन लेने से पहले जान लें ये बातें


आरबीआई ने कहा है कि अक्टूबर से कर्ज के लिए लोन लेने वाले को ब्याज और अन्य लागत समेत लोन समझौते के बारे में सभी जानकारी (KFS) देनी होगी। इस समय विशेष रूप से कॉमर्शियल बैंक की तरफ से दिये गये व्यक्तिगत कर्जदारों, आरबीआई के दायरे में आने वाली इकाइयों के डिजिटल लोन और छोटी राशि (Digital Loan and Small Amount)के कर्ज के संबंध में लोन समझौते के बारे में सभी जानकारी देना अनिवार्य किया गया है।

 

Devar bhabhi affair : देवर को भाभी से हुआ प्यार, रात के अंधेरे में हो गए फरार

 

जानें आरबीआई के नए निर्देश


आरबीआई ने बयान में कहा कि लोन के लिए केएफएस पर निर्देशों (instructions on kfs) को सुसंगत बनाने का फैसला लिया गया है। केंद्रीय बैंक ने कहा है कि यह आरबीआई के दायरे में आने वाले सभी फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशन के उत्पादों को लेकर पारदर्शिता बढ़ाने और ग्राहकों को लोन की पूरी जानकारी देने के लिए यह फैसला लिया गया है। इससे कर्ज लेने वाला सोच-विचारकर वित्तीय (thoughtful financial) फैसले कर सकेंगे। 


 

Weather Forecast : यूपी में गर्मी का कहर, इस दिन बारिश से मिल सकती है राहत, मौसम विभाग का अलर्ट जारी

 

इन कंपनियों में लागू होंगे ये नियम

 

यह निर्देश आरबीआई के नियमन के दायरे में आने वाले सभी इकाइयों (RE) की तरफ से दिये जाने वाले रिटेल और एमएसएमई टर्म लोन के मामलों में लागू होगा। केएफएस सरल भाषा में लोन समझौते के मुख्य तथ्यों का एक विवरण है। यह लोन लेने वालों को सही जानकारी प्रदान करेगा। केंद्रीय बैंक ने कहा है कि वित्तीय संस्थान दिशानिर्देशों को जल्द-से-जल्द लागू करने के लिए आवश्यक उपाय करेंगे। 


 

Cheapest Electric Scooter : बेहद सस्ते रेट पर मिल रहा OLA का यह इलेक्ट्रिक स्कूटर, बाकी कंपनियों के छूटे पसीने

 

इतने तारीक से बदलेंगे नियम

 

एक अक्टूबर, 2024 को या उसके बाद स्वीकृत सभी नये रिटेल और MSME टर्म लोन के मामले में दिशानिर्देश जरूरी है। इसमें मौजूदा ग्राहकों को दिये गये नये कर्ज भी शामिल हैं। आरबीआई ने कहा कि वास्तविक आधार पर तीसरे पक्ष सेवा प्रदाताओं की ओर से केंद्रीय बैंक के दायरे में आने वाले संस्थानों द्वारा कर्ज लेने वाले संस्थानों से वसूले गए बीमा और कानूनी शुल्क जैसी राशि भी वार्षिक प्रतिशत दर (APR) का हिस्सा होगी।

 

Aaj Ka Rashifal, 17 अप्रैल : आज राम नवमी के दिन कई राशि वालों को मिलेगी खुशी तो कुछ को हो सकती है परेशानी

 

लोन चार्ज डिडक्सन के नियम

 

इसके बारे में अलग से खुलासा किया जाना चाहिए जहां भी आरई ऐसे शुल्कों की वसूली में शामिल है, उचित समय के भीतर प्रत्येक भुगतान के लिए कर्ज लेने वालों को प्राप्ति रसीदें और संबंधित दस्तावेज प्रदान किए जाएंगे। इसके अलावा, ऐसा शुल्क जिसका जिक्र केएफएस में नहीं है, उधारकर्ता की स्पष्ट सहमति के बिना लोन की अवधि के दौरान किसी भी चरण में इस प्रकार का शुल्क नहीं लिया जा सकता है। हालांकि, क्रेडिट कार्ड के मामले में प्राप्त होने वाली राशि (Amount received in case of credit card) को लेकर प्रावधानों से छूट दी गई है।