HBN News Hindi

GST on House Rent : किराये के मकान में चला रहे हैं कारोबार तो हो जाएं सावधान, जान लें जीएसटी का यह नया नियम

Rent Home GST :  जीएसटी कानून को भारत में 2017 लागू किया गया था। सरकार ने जुलाई के महीने में ऐलान किया कि किराए के घर पर (Gst On Residential Property) रहने वालों को 18% जीएसटी देना होगा।  आपको बता दें की नए नियमों के अनुसार, अब आवासीय संपत्तियों पर रहने वाले किरायेदारों को भी जीएसटी देना होगा। 
 | 
GST on House Rent : किराये के मकान में चला रहे हैं कारोबार तो हो जाएं सावधान, जान लें जीएसटी का यह नया नियम 

HBN News Hindi (ब्यूरो ) : अब आप लोग ये सोच कर परेशान हो रहे होंगे की क्या सभी किराय पर रह रहे लोगो को टैक्स देना होगा। तो आपकी (Gst on commercial rental income) जानकारी के लिए बता दें की इस टैक्स को सभी लोगो को नही भरना होगा, इसको सिर्फ वही लोग भरेंगे जो की किराए के मकान का इस्तेमाल अपने बिजनेस के लिए करते हैं। आइए जानते हैं इसके बारे में विस्तार से इस खबर के माध्यम से।

 

 


देना होगा किरायेदारों को भी 18% जीएसटी


जीएसटी कानून में कुछ स्लैब बनाए गए हैं।  जिसके तहत जीएसटी टैक्स का प्रतिशत तय (Reverse charge on rent under gst) किया गया है।  यानि किसी वस्तु पर कितना प्रतिशत जीएसटी लगेगा। जीएसटी में नए संशोधन के बाद अब आवासीय संपत्तियों पर रहने वाले किरायेदारों को भी 18% जीएसटी देना होगा।


पहले और अब के नियम में अंतर


जीएसटी नियमों के अनुसार, पहले जीएसटी वाणिज्यिक संपत्ति पर (Gst on house rent) कार्यालय या खुदरा स्थान को किराए पर लेने या पट्टे पर देने पर लागू होता था।


लेकिन नए नियमों के मुताबिक, अब आवासीय संपत्तियों पर रहने वाले किरायेदारों को भी जीएसटी देना होगा। लेकिन यह जीएसटी केवल उन्हीं किरायेदारों से वसूला जाएगा। जिसे जीएसटी के तहत पंजीकृत किया जाएगा।

यानी अगर कोई किरायेदार आवासीय संपत्ति किराये पर लेकर अपना व्यवसाय चला रहा है।  तो उसे 18 % जीएसटी देना होगा। 


नियमों के मुताबिक किरायेदार को रिवर्स चार्ज मैकेनिज्म यानी आरसीएम के तहत टैक्स देना होगा।  जिसे वह बाद में जीएसटी क्लेम कर सकता है।