HBN News Hindi

Sarkari Scheme : इस सरकारी योजना में मिलेंगे 70 लाख रुपये, नहीं लगेगा कोई भी टैक्स

Sukanya Samriddhi Yojana : केंद्र सरकार आम लोगों को लाभ देने के लिए अनेक स्‍कीम चला रखी है, ताकि आम जनता को ज्यादा (Sukanya Samriddhi Scheme) परेशानी ना हो। सरकार की इन्ही स्कीमो में से एक स्कीम है। जिसका आरंभ बेटियों कों आत्‍मनिर्भर बनाने के लिए किया गया है। इस स्कीम के तहत आपको 70 लाख रुपये मिलेंगे और इस पर टैक्‍स भी नही लगेगा। आइए जानतें है इसके बारे में विस्तार से इस खबर के माध्यम से।
 | 
Sarkari Scheme : इस सरकारी योजना में मिलेंगे 70 लाख रुपये, नहीं लगेगा कोई भी टैक्स

HBN News Hindi (ब्यूरो) : क्या आप भी अपनी बेटी की शादी या उसकी पढ़ाई लिखाई के लिए पैसे जमा कर रहे या फिर करना (Small Savings Scheme) चाहते हैं। तो ये खबर आपके लिए अधिक फायदेमंद है। आप अपनी बेटी के लिए सुकन्या समृद्धि योजना निवेश कर सकते हैं। जो की एक अच्छा विकल्प है। आज के समय में इस स्कीम में निवेश करने पर आपको 8.2% की ब्याज दर प्राप्त होगी। 

 


मिलेगा गारंटीड रिटर्न 


आप एक बेटी के पिता है तो ये खबर आपके लिए खास हो सकती है। आपको बता दें सरकार के द्वारा (Sukanya Samriddhi Scheme Interest Rate) एसएसवाई स्कीम चलाई जा रही हैं जिसके जरिए बेटियों को तगड़ा ब्याज का लाभ दिया जा रहा है।


इस स्कीम में गारंटीड रिटर्न स्कीम है। इस स्कीम में 8.2 फीसदी की दर से सालाना ब्याज दिया जा रहा है इस स्मॉल सेविंग स्कीम की बात करें तो इतना ब्याज केवल सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम पर मिल रहा है।

 


कर रहे हैं बेस्ट ऑप्शन की खोज


वहीं अन्यु स्मॉल सेविंग एफडी, आरडी, एनएससी, और पीपीएफ के मुकाबले ज्यादा है। अगर आप भी (Post Office Scheme) अपनी बेटी के लिए किसी बेहतर निवेश ऑप्शन की तलाश कर रहे हैं तो पोस्ट ऑफिस की गारंटीड रिटर्न देने वाली स्कीम के बारे में विचार कर सकते हैं। ये एक लॉन्ग टर्म सेविंग स्कीम है। इसके साथ इसमें 100 फीसदी पैसा सेफ रहता है।


आज के समय में एजुकेशन हो या फिर बच्चों का शादी विवाह हो, इन पर होने वाला खर्च (Government Schemes) समय के साथ में बढ़ता ही जा रहा है। अभी तक इस पर जो भी खर्च आता है तो आज से 15 सालों में या फिर 20 सालों के बाद ये 3 गुना तक या फिर उससे भी ज्यादा बढ़ सकता है।


कर ले बच्चों के भविष्य की प्लानिंग 


ऐसे में समय रहते बच्चों के बेहतरीन भविष्य के लिए फाइनेंशियल प्लानिंग कर लेनी चाहिए। अब सवाल ये उठता है कि (Income Tax Saving Scheme) फाइनेंशियल प्लानिंग कैसे करें। यहां पर यदि आप मार्केट रिस्क लेने वाले निवेश हैं तो स्मॉल सेविंग या फिर एफडी ऑप्शनों के साथ में कुछ पैसा इक्विटी स्कीम में लगा सकते हैं। लेकिन यदि आप बिल्कुल भी रिस्क नहीं लेना चाहते हैं तो एसएसवाई (Sukanya Samriddhi Yojana) सबसे अच्छा ऑप्शन हो सकता है। क्यों कि इसमें ब्याज काफी मिल रहा है।


जरूरी है बेटी का बर्थ सर्टिफिकेट 


सरकार की इस स्कीम के तहत 10 साल से कम आयु की बेटी के लिए पोस्ट ऑफिस में खाता शुरु कर सकते हैं। इसके लिए बेटी (Tax Saving Schemes konsi h) का बर्थ सर्टिफिकेट होना जरूरी है। स्कीम के तहत 2 बेटीयों के लिए अलग-अलग खाता ओपन कर सकते हैं। जुड़वा होने की स्थिति में 2 से ज्यादा खाता संभव हैं।


कम से कम करवा सकते हैं इतने रूपये जमा


इस स्कीम में एक फाइनेंशियल ईयर में कम से कम 250 रुपये जमा करना जरूरी है। वहीं इस फाइनेंशियल ईयर (Best Small Savings Scheme) में मैक्जिमम 1.5 लाख रुपये का निवेश कर सकते हैं। यह निवेश ऑप्शन मंथली बेसिस पर भी हो सकता है। इस स्कीम की मैच्योरिटी 21 साल की है। लेकिन आपको 15 सालों तक निवेश करना होता है। इसके 6 साल के बाद खाता मैच्योर होता है। बचे हुए 6 साल में आपकी जमा स्कीम के तहत ब्याज मिलता रहता है।


स्कीम कितने साल में होगी मैच्योर 

एसएसवाई स्कीम में 1.5 लाख रुपये मैक्जिमम निवेश कर सकते हैं। इसके साथ में ब्याज (High Interest Rate Scheme) दर की बात करें तो 8.2 फीसदी सालाना मिलता है। 1 साल में मैक्जिमम जमा 1.5 लाख रुपये जमा कर सकते हैं। इसके साथ में 15 साल में निवेश 22.50 लाख रुपये हो सकते हैं। 21 साल में मैच्योर होने वाली स्कीम 69.80 लाख रुपये है। इसमें ब्याज का लाभ 47.30 लाख रुपये होता है।


नही लगेगा बिल्कुल भी टैक्स 


एसएसवाई स्कीम एक टैक्स फ्री स्कीम है। इस पर ईईई यानि की तीन अलग-अलग स्तर पर टैक्स छूट मिलता है। पहला इनकम टैक्स एक्सट के सेक्शन 80सी के तहत 1.5 लाख रुपये तक का सालाना निवेश पर छूट मिलती है। दूसरा मिलने वाला रिटर्न पर टैक्स नहीं लगता है। तीसरा मैच्योरिटी पर मिलने वाली रकम टैक्स फ्री है।


एसएसवाई खाते पर ब्याज का कैलकुलेसन मंथली के 5वें दिन से लेकर महीने के आखिर के खाते में जमा सबसे कम रकम के आधार पर किया जाता है। ब्याज की राशि हर फाइनेंशियल ईयर के आखिर में खाते में जमा की जाती है।