HBN News Hindi

Health Insurance लेने वालों के​ लिए अच्छी खबर, अब बहुत ही जल्द होगा क्लेम का भुगतान, जानिए पूरी डिटेल

National Health Claim Exchange : बीमा खरीदते समय कंपनियां अपने ग्राहकों से बड़े-बड़े वादे और दावे करती हैं, लेकिन जब क्‍लेम(health insurance claims)की बारी आती है तो ज्‍यादातर मामलों में आनाकानी करती नजर आती हैं। पॉलिसी होल्डर को सबसे ज्‍यादा हेल्‍थ इंश्‍योरेंस यानी स्‍वास्‍थ्‍य बीमा पॉलिसी में मुश्किल आती है।एक सर्वे में पता चला है कि बीमा पॉलिसीधारकों को अपने दावों का निपटारा कराने में बहुत सी मुश्किलों का सामना करना पड़ा है। आइए ​​​​​​ जानते हैं इस पूरी खबर के बारे में।
 
 | 
Health Insurance लेने वालों के​ लिए अच्छी खबर, अब बहुत ही जल्द होगा क्लेम का भुगतान, जानिए पूरी डिटेल

HBN News Hindi (ब्यूरो ) : कोरोनाकाल के बाद हेल्‍थ इंश्‍योरेंस की डिमांड बढ़ गई है, लेकिन इसके साथ ही इंश्‍योरेंस क्‍लेम होने की परेशानियां भी बढ़ रही हैं। लेकिन अब सरकार इंश्योरेंस क्लेम का तेजी से निपटान के लिए रास्ता निकाला है जिसके तहत नेशनल (National Health Claim Exchange) हेल्थ क्लेम एक्सचेंज को लॉन्च करने की तैयारी में हैं ।अपडेट न्यूज के मुताबिक NHCX को कुछ ही समय में शूरु करने की सभांवना है।

 

 


दो- तीन माह में शुरू हो सकता है निपटान के लिए प्लेटफार्म 

नेशनल हेल्थ क्लेम एक्सचेंज (NHCX) के अगले दो- तीन माह में शुरू होने की संभावना है। इस प्लेटफॉर्म के लॉन्च होने से दावा निपटान प्रक्रिया तेज और पारदर्शी तरीके से हो सकेगी। आधिकारिक सूत्रों ने बुधवार को यह जानकारी दी। NHCX एक डिजिटल(health insurance claims) स्वास्थ्य दावा मंच है। इसे राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण (NHA) ने स्वास्थ्य बीमा दावों का तेजी से प्रसंस्करण सुनिश्चित करने के लिए तैयार किया है। यह बीमा दावा प्रक्रियाओं को मानकीकृत करेगा। साथ यह पारदर्शिता सुनिश्चित करेगा। इस पर सभी बीमा कंपनियों समेत अन्य पक्ष होंगे। 

 

 क्लेम के निपटान में लग रहा अधिक समय 

राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण (MHA) और भारतीय बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण (IRDAI) ने पिछले साल एनएचसीएक्स को चालू करने के लिए गठजोड़ किया था। एक परिपत्र के माध्यम से सभी बीमाकर्ताओं और सेवा प्रदाताओं को एनएचसीएक्स(health claim exchange registratration) को शामिल करने की सलाह दी थी। बीमा कंपनियों के पास अलग-अलग पोर्टल हैं, जिससे अस्पतालों, मरीजों और अन्य संबंधित पक्षों के लिए स्वास्थ्य बीमा दावों का निपटान करना बोझिल हो जाता है और इसमें अधिक समय लगता है। 

 

 

एनएचसीएक्स होने वाला है लॉन्च

"एनएचसीएक्स तैयार है और अगले दो-तीन महीनों में इसके शुरू होने की संभावना है। (National Health Claim Exchange launched)दावा मंच को आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (ABDM) के हिस्से के तहत विकसित किया गया है।"

अब तुरंत होगा क्लेम का भुगतान

एनएचसीएक्स के जरिये सभी बीमा कंपनियां एक मंच पर होंगी। यह स्वास्थ्य देखभाल और स्वास्थ्य बीमा परिवेश में विभिन्न पक्षों के बीच दावों से संबंधित जानकारी के आदान-प्रदान के लिए एक साझा मंच के रूप में काम करेगा।
सूत्र ने कहा, "एनएचसीएक्स के साथ एकीकरण से स्वास्थ्य दावों(राष्ट्रीय स्वास्थ्य दावा विनिमय द्वारा विकसित) का निपटान निर्बाध तरीके से संभव होगा। साथ ही बीमा उद्योग में दक्षता और पारदर्शिता बढ़ेगी। इससे पॉलिसीधारकों और मरीजों को लाभ होगा।

 


 40-45 स्वास्थ्य बीमा कंपनियों का एकीकरण 
एनएचए और इरडा एनएचसीएक्स के साथ 40-45 स्वास्थ्य बीमा कंपनियों के पूर्ण एकीकरण के लिए अस्पतालों और बीमा कंपनियों के साथ बैठकें और कार्यशालाएं आयोजित कर रहे हैं। आदित्य बिड़ला हेल्थ इंश्योरेंस, स्टार हेल्थ एंड अलायड इंश्योरेंस, बजाज आलियांज (health claims exchange india)इंश्योरेंस कंपनी और एचडीएफसी एर्गो इंश्योरेंस, आईसीआईसीआई लोम्बार्ड जनरल इंश्योरेंस, द न्यू इंडिया एश्योरेंस कंपनी, टाटा एआईजी जनरल इंश्योरेंस कंपनी, पैरामाउंट टीपीए, यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी जैसी बीमा कंपनियों ने एनएचसीएक्स एकीकरण पूरा कर लिया है। 

 

 

आंकड़ों का अदान-प्रदान होता है मैन्युअल
 दावों के आदान-प्रदान की वर्तमान प्रक्रिया में मानकीकरण का अभाव है। इसमें अधिकांश आंकड़ों का अदान-प्रदान पीडीएफ या 'मैन्युअल' होता है। बीमाकर्ताओं, टीपीए और सेवा प्रदाताओं के बीच प्रक्रियाएं काफी अलग-अलग होती हैं। इससे प्रत्येक दावे को निपटान करने की लागत अधिक होती है