HBN News Hindi

Gold and Silver Rate Hike : इस दिन एक तोला सोना हो जाएगा 1 लाख का, जानिये क्या कहते हैं एक्सपर्ट

Gold and Silver Price High : सोने व चांदी की कीमतें जिस तरह से दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही हैं, उसे देखते हुए जल्द ही सोने का रेट प्रति तोला 1 लाख तक हो जाएगा। चांदी के रेट भी लगातार बढ़ते जा रहे हैं। आने वाले समय में आम आदमी की पहुंच से बाहर होता दिखाई दे रहा है। इस बारे में एक्सपर्ट्स ने भी अपनी राय दी है कि सोना व  चांदी के रेट बढ़ने के पीछे कई कारण हैं। जानिये इनके बारे में।

 | 
Gold and Silver Rate Hike : इस दिन एक तोला सोना हो जाएगा 1 लाख का, जानिये क्या कहते हैं एक्सपर्ट

HBN News Hindi (ब्यूरो) : सोना और चांदी शुरू से ही निवेशकों के लिए सुरक्षित निवेश विकल्‍प माने जाते हैं। खासकर तब जब अर्थव्यवस्था में उथल-पुथल हो। ऐसा इसलिए क्योंकि इन धातुओं का अपना अलग ही महत्व है। सोने-चांदी में निवेश (Sona chandi ke bhaw)से महंगाई और रुपये की कीमत गिरने का डर भी कम होता है। अपने पोर्टफोलियो में सोना-चांदी रखने से डायवर्सिफिकेशन का फायदा मिलता है। यह निवेश के जोखिम को कम करता है।

 


सुरक्षित निवेश की राह हैं ये कीमती व महंगी धातुएं


इसका एक कारण यह भी है कि आप अलग-अलग तरह की चीजों में निवेश करते हैं। जब बाजार में अनिश्चितता होती है तो सोना और चांदी सुरक्षित निवेश (सोना और चांदी का भाव)माने जाते हैं। ये आसानी से बिक भी जाते हैं। 

 

यह दी एक्सपर्ट ने राय


सोने पर अपनी राय रखते हुए एक्सपर्ट ने कहा कि दुनियाभर के 50 से अधिक देशों में चुनाव हो रहे हैं। वैश्विक तनाव के चलते बाजार नीचे जा सकते हैं। उन्होंने यह बताया कि इन समस्याओं और अमेरिका के केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व की ओर से ब्‍याज दरों में कमी नहीं करने के फैसले के बावजूद सोने की दरों में कमी (sona chandi ka latest price) नहीं आई। एक्सपर्ट के अनुसार अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सोने की बुनियादी बातें बहुत मजबूत हैं। भारत में सोने की खरीद लगभग 800 टन है। जबकि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर यह लगभग 4,500 टन है।

 


सोने के दाम घटने की नहीं संभावना


उनके अनुसार बढ़ती कीमतों के बावजूद खरीद कम नहीं हो रही है। उपभोक्ताओं का विश्वास बढ़ रहा है। आने वाले समय में यह उम्मीद है कि सोने का भाव 2,600 डॉलर - 2,800 डॉलर या 78,000 रुपये से 80,000 रुपये तक पहुंच जाएगा। फिर अगले दो से ढाई सालों में सोने का भाव (Investment in silver and gold)प्रति किलोग्राम 1 करोड़ रुपये तक पहुंच जाएगा। मुझे नहीं लगता कि सोना 2,285 या 2,250 पर सीमित रहेगा।' यह भी अनुमान है कि लंबी अवधि में तेजी की संभावना अधिक है। गिरावट की संभावना बहुत कम है।

 

यह फैक्टर कर रहा अपना काम


वैश्विक परिदृश्य पर एक्सपर्ट की ओर से कहा गया है कि दुनियाभर में डी-डॉलराइजेशन एक ऐसा फैक्‍टर है जो स्पष्ट है। उदाहरण के लिए अगर आप रूसी युद्ध के दौरान चीन और रूस को देखें तो यह देखा गया कि रूस अब डॉलर के बजाय सोने में निवेश कर रहा है। अगर चीन मजबूत बनना चाहता है, तो उसे सोने में निवेश करना होगा।

 


भारत के पास 882 टन सोना


हाल ही में भारत में 100 टन सोना इंग्लैंड से (England me sona)वापस लाया गया है ताकि वह खुद में सुरक्षित महसूस कर सके। अगर कोई अंतरराष्ट्रीय भू-राजनीतिक तनाव आता है तो भारत भी अपनी ओर से सुरक्षित महसूस कर सकता है। भारत के भंडार में 822 टन सोना है। आने वाले समय में यह 1,000 टन से ऊपर चला जाएगा।


चांदी की कीमतें भी बढे़ंगी


 चांदी की कीमतों को लेकर  एक्सपर्ट्स का कहना है कहा कि सफेद धातु की कीमत भी चमक रही है। गोखले का मानना है कि सोने के अनुपात में जितनी बढ़ोतरी होनी चाहिए थी, उसकी तुलना में चांदी अभी भी काफी कम है। लेकिन, आने वाले दिनों में इसके इस्तेमाल में काफी इजाफा होने की काफी संभावनाएं हैं।

 

 

यह हैं रेट बढ़ने के कारण

 

एक कारण यह है कि चांदी का उपयोग बर्तनों में बड़े पैमाने पर किया जाता है। हमारे देश में महिलाएं पायल से लेकर बिछिया और बालों के आभूषणों तक हर चीज में चांदी का इस्तेमाल करती हैं। आज भी शहरी और ग्रामीण दोनों ही इलाकों में चांदी का सबसे ज्यादा इस्तेमाल होता है। इलेक्ट्रिक वाहनों में कई कंपोनेंट में अब चांदी का इस्‍तेमाल हो रहा है।