HBN News Hindi

Property की बिक्री दर हाई, दिल्ली के इन इलाकों में बढ़ी मकानों की कीमत, अब इतने में मिलेगा सिगंल फ्लोर हॉम

Delhi Update: अगर आप दिल्ली के रहने वाले हो या दिल्ली में अपना घर खरीदने के बारे में सोच रहे हो तो ये खबर आपके लिए उपयोगी सिध्द हो सकती है आपको बता दें कि दिल्ली में दिन प्रतिदिन प्रोपर्टी की बिक्री दर को देखते हुए आज के समय प्रोपर्टी के दामों में भारी बढोतरी कर दी गई है आइए जानते हैं इस अपडेट के बारे में डिटेल से ।

 | 
Property की बिक्री दर हाई, दिल्ली के इन इलाकों में बढ़ी मकानों की कीमत, अब इतने में मिलेगा सिगंल फ्लोर हॉम

HBN News Hindi (ब्यूरो) : आज के समय में अपना घर लेना हर किसी का सपना होता है लेकिन प्रोपर्टी के रेट (property rates) में दिन-प्रतिदिन की बढोतरी के कारण अपना घर खरीदने में असमंझस महसुस करते हैं और खासकर जब बात Delhi में घर लेना हो तो लोगो का सारा बजट (Budget) कम पड़ जाता है । इन जगहों पर रेट बढने का कारण ही प्रोपर्टी का ज्यादा बिकना है आइए जानते हैं इन इलाकों के बारे में जो रेट के मामलें में आपके होश उड़ा देंगे ।
 

Cheapest Car price :इलेक्ट्रिक SUV कारों में एक ओर दमदार कार शामिल, कीमत जानकर हो जाओगे हैरान

 

 

इतने रेट में हुई बढोतरी 


दिल्ली से सटे ग्रेटर नोएडा में प्रॉपर्टी की कीमत तेजी से बढ़ी है। मैजिकब्रिक्स रिसर्च (Magicbricks Research) द्वारा जारी एक रिपोर्ट के मुताबिक, ग्रेटर नोएडा वेस्ट क्षेत्र में आवासीय संपत्ति की कीमतों में साल-दर-साल 21.6% का इजाफा हुआ है।
 

सालाना इस स्तर पर देखी जा रही है बढोतरी


यहां अच्छी सड़कें और किफायती आवास विकल्प सहित कई आधुनिक सुविधाओं ने ग्रेटर नोएडा वेस्ट को घर खरीदारों और निवेशकों (home buyers and investors) के लिए एक अच्छा विकल्प बना दिया है। आंकड़ों के मुताबिक, किराये में साल-दर-साल 13.5 फीसदी की वृद्धि के साथ, ग्रेटर नोएडा के सभी इलाकों में किराये में सबसे ज्यादा इजाफा हुआ है।
 

मैजिकब्रिक्स रिसर्च की रिपोर्ट 


मैजिकब्रिक्स रिसर्च के मुताबिक, ग्रेटर नोएडा वेस्ट में प्रॉपर्टी राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) के अन्य हिस्सों की तुलना में अपेक्षाकृत ज्यादा किफायती हैं। इसके अलावा, इस क्षेत्र में बेहतर सड़कों, कनेक्टिविटी और सार्वजनिक परिवहन सहित महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे का विकास देखा गया है। यह नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यहां तक कि दिल्ली में प्रमुख रोजगार केंद्रों (employment centers) से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। इसके अलावा, ग्रेटर नोएडा में विभिन्न प्रकार के आवास विकल्प प्रदान (provide accommodation options) करता है। इसमें अपार्टमेंट, विला और प्लॉट किए गए विकास शामिल हैं।

 

KCC : किसानों की हो गई बल्ले-बल्ले, ये सरकारी बैक दे रहा 3 लाख का लोन

 


 
ग्रेटर नोएडा वेस्ट में प्रोपर्टी का रेट


रिपोर्ट के मुताबिक, घर खरीदने वालों ने 1,250 वर्ग फुट से ज्यादा एरिया के अपार्टमेंट को प्राथमिकता दी है। यह कुल मांग में 54.5% का योगदान देता है। वहीं 50% से अधिक घर खरीदने वालों में 5,000-7,500 रुपये प्रति वर्ग फुट के बजट खंड में संपत्तियों की खोज (Search for assets in the budget section)कर रहे हैं। मांग को ध्यान में रखते हुए, ऐसी संपत्तियों की आपूर्ति भी 40% बढ़ी है। मैजिकब्रिक्स के आंकड़ों के मुताबिक, पिछली पांच तिमाहियों में लगभग 62% घर खरीदारों ने इस क्षेत्र में 3-बीएचके और बड़े अपार्टमेंट की तलाश की है।

Amazing News : गजब का प्लान, अब घड़ी में 12 के बजाय बजेंगे 13 और यहां 26 घंटे का होगा दिन!

इतने समय बाद देखा गया भारी उछाल


अनिवासी भारतीयों (NRI) की मांग में पिछले 12 महीनों में काफी उछाल आया है, जिसमें साल-दर-साल 15% की वृद्धि देखी गई है। संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा, यूनाइटेड किंगडम और संयुक्त अरब अमीरात के एनआरआई ग्रेटर नोएडा वेस्ट में अंतरराष्ट्रीय मांग का 85% हिस्सा हैं। मैजिकब्रिक्स डेटा के मुताबिक, टॉप 10 डेवलपर्स सामूहिक रूप से मांग का 76% हिस्सा रखते हैं और कुल आपूर्ति में 55% का योगदान करते हैं।