HBN News Hindi

Adani Group में निवेश करने के लिए टूट पड़े विदेशी, शेयरों के रेट ने छुआ आसमान

Adani Group : अगर आप भी निवेश करके मोटा इनकम कमाने के बारे में सोच रहे हो तो आपको बता दें कि अडानी इस कंपनी ने बता दें कि शानदार बढोतरी के कारण विदेशी निवेशक भी इसमें निवेश करने के लिए बेकरार हो गए हैं आइए जानते हैं इस स्कीम के बारे में डिटेल से।
 | 
Adani Group में निवेश करने के लिए टूट पड़े विदेशी, शेयरों के रेट ने छुआ आसमान

HBN News Hindi (ब्यूरो) : आज के समय सीमेंट के व्यापार (cement business) के मामलें में अडानी ग्रुप ने लगातार कोशिशों के बाद आज सातवें आसमान पर पहुंच चुकी है। आपको बता दें कि अडानी के इन सीमेंट कंपनियों में निवेश (Adani invests in these cement companies) करने वालों की जमकर भीड़ लगी हुई है आइए जानते हैं इस इन सीमेंट कंपनियों (cement companies) के बारे में विस्तार से।

 

IMD Rain Alert : इस बार मानसून सीजन में जमकर होगी बरसात, किसानों को मिल सकती है बंपर पैदावार की सौगात

 

जानें अडानी की इन कंपनियों के बारे में


गौतम अडानी (Gautam Adani) की कंपनियों में पिछले एक साल में भारी तेजी देखने को मिली है। विदेशी निवेशकों ने भी इस मौके को हाथोंहाथ लिया है। मार्च तिमाही में एफआईआई ने अडानी ग्रुप की दस लिस्टेड कंपनियों में से छह में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाई है। अमेरिका की शॉर्ट सेलिंग फर्म हिंडनबर्ग रिसर्च ने पिछले साल जनवरी में अडानी ग्रुप के खिलाफ एक रिपोर्ट जारी की थी।
 

Petrol-Diesel Price Today : पेट्रोल-डीजल के नए रेट लागू, अब मिलेंगे इस भाव

 

अडानी ग्रुप के शेयरों में हिस्सेदारी 


 इससे ग्रुप के शेयरों में भारी गिरावट आई थी और उसका मार्केट कैप 150 अरब डॉलर तक कम हो गया था। लेकिन हाल के दिनों में अडानी ग्रुप के शेयरों में काफी तेजी आई है और वे काफी हद तक हिंडनबर्ग रिसर्च (Hindenburg Research)के असर से उबर चुके हैं। यही वजह है कि विदेशी निवेशकों ने अडानी ग्रुप के शेयरों में हिस्सेदारी बढ़ानी शुरू कर दी है।
 

Loan News : अब लोन देने से पहले यह करने जा रहे बैंक, जानिये RBI का खास अपडेट

 

एफआईआई होल्डिंग शेयर पर प्रभाव


आंकड़ों के मुताबिक मार्च तिमाही के दौरान अडानी पोर्ट्स में विदेशी निवेशकों की हिस्सेदारी 26 बीपीएस बढ़कर 14.98% है। अडानी ग्रीन एनर्जी और अडानी विल्मर में भी एफआईआई होल्डिंग में 12 बीपीएस की बढ़ोतरी हुई है। इसी तरह अडानी पावर, अडानी टोटल गैस और एनडीटीवी में विदेशी निवेशकों (foreign investors in ndtv)की हिस्सेदारी बढ़ी है। 

 

LIC की ये स्कीम देगी मोटी पेंशन, लाखों लोग कर रहे निवेश

 

अडानी पोर्ट्स के शेयरों इतनी हुई वृध्दि


म्यूचुअल फंड्स ने भी मार्च तिमाही में एसीसी, अडानी एंटरप्राइजेज, अडानी ग्रीन एनर्जी और अडानी पावर में अपनी हिस्सेदारी(Your stake in Adani Power) बढ़ाई है। दूसरी ओर रिटेल इन्वेस्टर्स ने अडानी एनर्जी को छोड़कर बाकी सभी शेयरों में मुनाफावसूली की। इस साल अब तक अडानी पोर्ट्स के शेयरों में सबसे ज्यादा 31 फीसदी तेजी आई है।

 

Aaj Ka Rashifal, 16 अप्रैल : आज इन राशि वालों की खुशी का नहीं रहेगा ठिकाना और इन्हें करना पड़ सकता है परेशानियों का सामना


एलआईसी की हिस्सेदारी


दिसंबर के अंत में अडानी ग्रुप के शेयरों में एलआईसी की हिस्सेदारी की कीमत 52,779 करोड़ रुपये थी जो मार्च तिमाही के अंत में बढ़कर 61,660 करोड़ रुपये हो गई। इस तरह तीन महीने में इसमें 8,900 करोड़ रुपये का इजाफा हुआ। अगर पूरे फाइनेंशियल ईयर (financial year) की बात करें तो इस दौरान अडानी ग्रुप में एलआईसी की होल्डिंग की वैल्यू में 22,378 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी हुई है।