HBN News Hindi

Crude Oil Rate : सऊदी अरब के एक फैसले से कच्चे तेल के दाम जा सकते हैं आसमां पर

Crude Oil Price: अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम आसमां (asia)पर जा रहे हैं। क्योंकि सऊदी अरब ने क्रूड के दाम (crude)बढ़ाने के संकेत दे दिए है। आशंका जताई जा रही है कि आने वाले दिनों में सऊदी अरब कच्चे तेल के रेट में और भी इजाफा कर सकता है। तो आइये जानते हैं कि सऊदी अरब ने यह फैसला क्यूं लिया है और इस फैसले पर किन-किन को प्रभाव पड़ेगा। 

 | 
Crude Oil Rate : सऊदी अरब के एक फैसले से कच्चे तेल के दाम जा सकते हैं आसमां पर

HBN News Hindi (ब्यूरो) : अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में कच्चे तेल की कीमत (Crude oil Price)बढ़ सकते हैं या यूं कहे कि कच्चे तेल की कीमत में थोड़ा-थोड़ा इजाफा होना शुरू हो गया है। ये संकेत और कोई (Israel Hamas conflict)नहीं सऊदी अरब ने दे दिए है। उम्मीद जताई जा रही है कि आने वाले दिनों में सऊदी अरब कच्चे तेल की कीमतों में (Saudi Arabia)इजाफा कर सकता है। आज भी क्रूड ऑयल की कीमतों में तेजी देखी जा रही है । तो आइये जानते हैं कि साऊदी अरब कब कच्चे तेल के रेट में इजाफा कर सकता है और कौन-कौन इससे प्रभावित हो सकता है। तो देरी किस बात की। आगे हम आपको खबर में बताने जा रहे हैं। 

 

 

जून में बढ़ सकते हैं कच्चे तेल के दाम 


दरअसल सऊदी अरब ने ज्यादातर क्षेत्रों के लिए जून में कच्चे तेल की कीमतों में (Israel-Hamas conflict)बढ़ोतरी का निर्णय लिया है. इसके बाद आज सोमवार को तेल वायदा में तेजी आई और गाजा युद्धविराम समझौते की संभावना भी कम दिखाई दे रही है. इससे यह आशंका फिर से बढ़ गई कि प्रमुख तेल उत्पादक क्षेत्र में इजरायल-हमास संघर्ष अभी भी बढ़ सकता है. सऊदी अरब के इस तिमाही में ऑयल सप्लाई में कमी के बीच अधिकांश क्षेत्रों के लिए जून ओएसपी बढ़ाने के बाद तेल के दाम ऊपर जाने तय लग रहे हैं । 

कितने हैं कच्चे तेल के दाम


अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम आज उछाल के साथ ट्रेड कर (कच्चा तेल)रहे हैं. डबल्यूटीआई क्रूड 0.31 फीसदी चढ़कर 78.85 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया है जबकि ब्रेंट क्रूड 0.24 फीसदी चढ़कर 83.16 डॉलर प्रति बैरल के रेट पर ट्रेड कर रहा है । 

इन गर्मियों में रहेगी मजबूत मांग


सऊदी अरब ने जून में एशिया, उत्तर-पश्चिमी यूरोप और भूमध्य सागर में बेचे जाने (क्रूड)वाले अपने कच्चे तेल की आधिकारिक बिक्री कीमतें बढ़ा दीं, जो इस गर्मी में मजबूत मांग की उम्मीद का संकेत है. इसी का असर है कि जियो-पॉलिटिकल टेंशन कम होने की वजह से पिछले हफ्ते 7.3 फीसदी से थोड़ी ज्यादा गिरावट के बाद, आईसीई ब्रेंट ने मजबूत स्तर पर नए कारोबारी सप्ताह की शुरुआत की है । 

पिछले हफ्ते दिखी थी गिरावट


पिछले हफ्ते दोनों कच्चे तेल के दोनों कॉन्ट्रेक्ट्स में तीन महीने में अपना सबसे बड़ा साप्ताहिक (सऊदी अरब)घाटा दर्ज किया था.  इसमें ब्रेंट 7 फीसदी से ज्यादा गिर गया और (पेट्रोल)डब्ल्यूटीआई 6.8 फीसदी लुढ़का था. कमजोर अमेरिकी नौकरियों के आंकड़ों और फेडरल रिजर्व के ब्याज दर में कटौती के संभावित समय का अनुमान लगाने के बाद निवेशकों ने ये अंदाजा लगाया था लेकिन एक ही हफ्ते में स्थिति बदलती दिख रही है ।