HBN News Hindi

CIBIL Score : लोन डिफॉल्ट होने से खराब हो गया है ट्रेक रिकॉर्ड तो नॉ-प्रोबलम, अब इस तरह आसानी से हो जाएगा रिकवर

CIBIL Score Update : अगर आपने कभी लोन लिया था और किसी कारण से न भरने आपको लोन डिफॉलटर घोषित कर दिया गया है तो अब आपको टेंशन लेने की जरुरत नहीं है। आज हम आपको कुछ ऐसे असरदार टिप्स बताने जा रहे हैं जो आपके सिबिल स्कोर को ठीक करने आपकी मदद करेगी। आइए जानते हैं इन तरीकों से आप अपने सिबिल स्कोर कितने समय में ठीक कर सकते हैं।
 | 
CIBIL Score : लोन डिफॉल्ट होने  से खराब हो गया है ट्रेक रिकॉर्ड तो नॉ-प्रोबलम, अब इस तरह आसानी से हो जाएगा रिकवर

HBN News Hindi (ब्यूरो) : आपको बता दें कि सिबिल स्कोर(CIBIL Score) का अच्छा होना बेहद जरूरी होता है । क्योंकि बैंक को इसी से पता चलता है कि आप लेन-देन में कैसे हैं? कई बार लोन डिफॉल्ट होने के कारण आपके सिबिल स्काेर को डाउन (CIBIL score down) कर दिया जाता है। अगर आप भी अपने सिबिल को सुधारने के बारे में सोच रहे हैं तो आपको बता दें कि इन तरीकों से आप सिबिल स्कोर (CIBIL Score) आसानी से थोड़े ही समय में सुधार सकते हैं। जिससे आपको फिर कभी लोन लेने में परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा। 

 

NABARD ने किसानों को डेयरी लोन देने को किया मना, कह दी यह बड़ी बात

 

लोन के डिफॉल्ट होने पर (In case of loan default) आपका सिबिल स्कोर खराब होता है। जैसे परीक्षा में कोई बच्चा बैठता है और ठीक से पेपर नहीं देने पर मार्क्स अच्छे नहीं आते। बाद में उसी कम मार्क्स के चलते बच्चे को अच्छे कॉलेज में एडमिशन नहीं मिलता है।  

 

 

WiFi का Password भूल जाने की टेंशन खत्म, इन आसान ट्रिक्स से करें पता


ऐसी ही हाल लोन लेने और डिफॉल्ट होने पर होता है। अगली बार कहीं भी, किसी भी बैंक में लोन लेने जाएं तो या लोन नहीं मिलेगा और मिलेगा भी तो भारी पचड़े के साथ अधिक ब्याज पर मिलेगा। अब सवाल है कि सिबिल स्कोर (CIBIL Score) क्या जन्म-जन्मांतर के लिए खराब हो जाता है? क्या उसमें कोई पैबंद लगने या सुधार करने की गुंजाइश नहीं होती है? अगर ऐसा होता तो लोग शायद कभी लोन डिफॉल्ट करती ही नहीं। कुछ न कुछ गुंजाइश जरूर मिलती होगी जिससे कि आगे का रास्ता खुले, कुछ कर्ज (Loan) मिल सके।

 

इस उदाहरण पर ध्यान दें


CIBIL Score के फंडा को एक साधारण उदाहरण से समझें। मान लें आपने घर बनाने के लिए बैंक से कोई लोन लिया है। शुरू-शुरू में लोन की किस्त (EMI) चुकाते रहे कि अचानक आपका धंधा चौपट हो गया या फिर आर्थिक स्थिति कमजोर हो गई। इस परिस्थिति में आपके सामने किस्त (Loan EMI) बंद करने के अलावा कोई चारा न रहा। लोन की किस्त बंद होते ही बैंक ने आपको डिफॉल्ट की श्रेणी में डाल दिया।

 

Income Tax : पति से लिए पैसे तो पत्नी को भरना पड़ेगा टैक्स वरना इनकम टैक्स

 

इसके बाद आर्थिक स्थिति ठीक हुई और आपने किस्त के बाकी बचे पैसे और उस पर पनपे ब्याज को भी बैंक में चुका दिया। इससे आपको लगता होगा कि जो स्कोर (CIBIL Score) खराब हुआ होगा उसकी भरपाई हो जाएगी। आपने उम्मीद तो ठीक रखी, लेकिन जानकारों ने बताया कि सबकुछ करने के बावजूद कम से कम 2 साल तक आपका सिबिल स्कोर खराब ही रहेगा। लंबित किस्त चुका दें या उसका ब्याज भी भर दें, 2 साल तक सिबिल स्कोर नहीं सुधरता और इसका घाटा कई वित्तीय जरूरतों में देखा जाता है।

 

UP Gold-Silver Price Today : सोने के रेट टॉप लेवल पर, चौंका देगा एक ग्राम का भाव

 

सिबिल स्कोर के फायदे


सिबिल स्कोर की हवा ही ऐसी होती है कि उसकी लहर हर कोने तक पहुंच जाती है। मतलब, आपके सिबिल स्कोर की निगेटिव रैंकिंग हर बैंक और फाइनेंस एजेंसियों के पास पहुंच जाती है। जब भी आप अगली बार लोन लेने किसी बैंक में या कार लोन लेने के लिए फाइनेंस कंपनियों के पास जाएंगे, वो आपकी निगेटिव स्कोरिंग तुरंत पता कर लेंगे। ऐसी स्थिति में या तो आपको लोन नहीं मिलेगा और अगर चिरौरी और मुरव्वत में लोन मिल भी जाए तो उसकी ब्याज दर चढ़ा-बढ़ा कर वसूली जाएगी। उस वक्त आपको सिबिल स्कोर की अहमियत के बारे में भली-भांति पता चलता है।


इन टिप्स को अपनाकर सुधार ले अपना सिबिल स्कोर 


आपके लेनदेन और क्रेडिट कार्ड या छोटे-बड़े बिलों के भुगतान को देखते हुए क्रेडिट स्कोर में सकारात्मकता या पॉजिटिविटी आती है। बिलों के पेमेंट में देरी न करें, समय पर बिल चुकाएं और पूरा चुकाएं। जैसे क्रेडिट कार्ड का पूरा बिल चुकाएं, न कि मिनिमम ड्यू अमाउंट. इससे सिबिल स्कोर सुधरता है। कई बार लोग लोन लेने और उसे सही समय पर चुकाने के बाद बैंक से NOC नहीं लेते जिस वजह से सिबिल स्कोर निगेटिव में चला जाता है।

UP Weather Update : यूपी में गर्मी से बेहाल होगा लोगों का जीना, अब रात में भी छूटेगा पसीना, जानिये ताजा अपडेट


बैंक से तुरंत एनओसी लेना चाहिए जिसके बाद ही सिबिल पर आपका डेटा अपडेट होता है। यही बात क्रेडिट कार्ड के साथ भी लागू होती है। क्रेडिट कार्ड बंद करते हैं तो बैंक से इसकी पूरी कागजी कार्यवाही पूरी करें। क्रेडिट कार्ड बंद करने का प्रमाण पत्र बैंक से जरूर लें। इन सब बातों से सिबिल स्कोर ठीक होता है।  

Aaj Ka Rashifal, 20 अप्रैल : आज इन राशि वालों वालों की होगी बल्ले-बल्ले और इन्हें करना पड़ सकता है परेशानियों का सामना

इन तरीकों से होता है सिबिल डाउन


जब आप खुद से अपना क्रेडिट स्कोर (CIBIL Score Check) चेक करते हैं, तो इसे सॉफ्ट इन्क्वायरी कहते हैं, इससे आपके CIBIL Score पर असर नहीं होता है। आप अगर किसी भी तरह के लोन या फिर क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई करने जा रहे हैं तो आपको खासकर एक बार अपना सिबिल स्कोर जरूर चेक करना चाहिए। लेकिन जब कोई लेंडर जैसे की बैंक या अन्य फाइनेंस कंपनी आपका क्रेडिट स्कोर चेक करे तो इसे हार्ड इन्क्वायरी कहते हैं।  अगर एक साथ कई लेंडर्स आपका सिबिल स्कोर चेक करते हैं तो इससे आपके सिबिल स्कोर पर असर पड़ सकता है और आप आगे जहां भी लोन के लिए अप्लाई करेंगे, वो इसे निगेटिव तरीके से जरूर देखेगा और इस कारण आपको लोन मिलने में समस्या आ सकती है। 

Haryana-Punjab Weather Today : पंजाब-हरियाणा में बारिश के साथ गिरेंगे ओले, IMD ने किया अलर्ट जारी


दरअसल,  हर बार हार्ड-इन्क्वायरी होने से आपके क्रेडिट स्कोर कुछ पॉइंट कम हो जाता है। आपके क्रेडिट रिपोर्ट में इसकी डीटेल दी जाती है कि आपके लिए कब-कब हार्ड-इन्क्वायरी की गई है। इसी पॉइंट से एक सलाह यह भी निकलती है कि आप कम समय में कई बार लोन के लिए अप्लाई बिल्कुल भी ना करें, क्योंकि आपको लोन देने से पहले लेंडर्स क्रेडिट ब्यूरो से आपकी क्रेडिट रिपोर्ट मांगेंगे, इससे आपका सिबिल स्कोर काफी गिर सकता है। तो कुल मिलाकर, अगर आप खुद से अपना CIBIL स्कोर चेक करें तो कोई प्रॉब्लम नहीं है, लेकिन अगर आपका क्रेडिट स्कोर अच्छा नहीं हुआ और कई लेंडर्स इसे चेक करते हैं तो आपका क्रेडिट रिपोर्ट खराब हो सकता है, इसलिए आपके लिए जरूरी है कि आप अपने स्कोर को लेकर अपडेटेड रहें और कर्ज चुकाने को लेकर सतर्क रहें, ताकि आप अच्छा सिबिल स्कोर मेंटेन कर पाएं।


इन जॉब के लिए अच्छा सिबिल का होना जरूरी


क्रेडिट स्कोर (CIBIL score) के आधार पर भुगतान को लेकर कोई व्यक्ति कितना जिम्मेदार है उसका पता चल जाता है। लेकिन ये क्रेडिट स्कोर बैंक में नौकरी (CIBIL score For Job) लेने के लिए भी जरूरी है। देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (SBI) को छोड़कर अन्य सभी सरकारी बैंकों ने बीते साल के जुलाई महीने में बैंकों में नौकरी के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवारों के लिए सिबिल स्कोर को भी अनिवार्य योग्यताओं में शामिल किया गया है।


 

Income Tax : पति से लिए पैसे तो पत्नी को भरना पड़ेगा टैक्स वरना इनकम टैक्स

इस तरह की नौकरी में होनी चाहिए इतना सिबिल


बैंकिंग रिक्रूटमेंट एजेंसी इंस्टीट्यूट ऑफ बैंकिंग पर्सनेल सिलेक्शन (IBPS) ने CIBIL Score को उम्मीदवारों की अनिवार्य योग्यताओं में जोड़ा। आवेदन की योग्यता में यह भी बताया गया कि जो आवेदनकर्ता है उसका सिबिल स्कोर कितना होना चाहिए का सिबिल स्कोर कितना होना चाहिए।  नोटिफिकेशन के मुताबिक बैंक में नौकरी के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवारों का सिबिल स्कोर 650 या उससे ऊपर ही होना चाहिए। इसके साथ ही आवेदन करने वाले उम्मीदवार को यह भी सुनिश्चित करना होगा कि वो आगे भी बेहतर क्रेडिट स्कोर (CIBIL Score) को बनाए रखेगा।