HBN News Hindi

UP में सीएम योगी की लाखों स्टूडेंट्स को सौगात, खुलेंगी प्राइवेट यूनिवर्सिटी

University News : उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने प्रदेश के लाखों स्टूडेंट्स को सौगात दी है। जल्द ही तीन निजी यूनिवर्सिटी (private university)खुलने वाली हैं। यहां पर यह भी बता दें कि इसके लिए सेमी कंडक्टर नीति (semiconductor policy)को भी अप्रूवल मिल गई है। आइये जानते हैं इस बारे में इस खबर में डिटेल से।

 | 
UP में सीएम योगी की लाखों स्टूडेंट्स को सौगात, खुलेंगी प्राइवेट यूनिवर्सिटी

HBN News Hindi (ब्यूरो) :  छात्रों के भविष्य को संवारने के लिए सीएम योगी (CM Yogi) ने अहम कदम उठाया है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में कुछ दिन पूर्व मंत्रिपरिषद की बैठक (Council of Ministers meeting) में सेमी कंडक्टर नीति 2024 के साथ ही प्रदेश में तीन नये निजी विश्वविद्यालयों की स्थापना को भी मंजूरी दी गई है।इसके साथ ही गोरखपुर के मुंडेरा बाजार (Mundera Bazaar of Gorakhpur)नगर पंचायत के नाम को बदलकर चौरी-चौरा (chauri-chaura)करने के प्रस्ताव पर भी मंत्रिपरिषद की मुहर लग गई । यहां लोक भवन में पत्रकार वार्ता के दौरान प्रदेश के वित्तमंत्री सुरेश खन्ना, उच्च शिक्षा मंत्री योगेन्द्र उपाध्याय और चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास मंत्री चौधरी लक्ष्मी नारायण ने मंत्रिपरिषद के फैसलों की जानकारी दी।

 

Wheat Price 2024 : 2700 रुपये क्विंटल होगा गेहूं का भाव! केंद्र सरकार ने बढ़ाया न्यूनतम समर्थन मूल्य

 

योगी की अध्यक्षता में लिया फैसला


एक बयान के मुताबिक मुख्यमंत्री आदित्यनाथ की अध्यक्षता में मंत्रिपरिषद ने बहु प्रतीक्षित सेमी कंडक्टर नीति 2024 (The much awaited Semi Conductor Policy 2024) को मंजूरी प्रदान की है। भारत में यह उद्योग अभी शैशवावस्था में है। अब तक केवल गुजरात, ओडिशा और तमिलनाडु (Odisha and Tamil Nadu)ने इसे लेकर नीति बनाई थी। उत्तर प्रदेश चौथा राज्य है, जहां सेमीकंडक्टर नीति 2024 बनाई गई है और उसे विशेषज्ञों ने सर्वोत्तम नीति बताया है। इससे बड़े पैमाने पर निवेश प्रदेश में आने की उम्मीद है। उत्तर प्रदेश सेमी कंडक्टर निर्माण सेक्टर (semi conductor manufacturing sector) में लीडर बने, इसके लिए इस नीति को लाया गया है।

 

यह कहना है मंत्री योगेन्द्र का


कैबिनेट मंत्री (Cabinet Minister)योगेन्द्र उपाध्याय ने बताया कि सेमी कंडक्टर निर्माण इकाई लगाने वाले उद्योग समूहों को भारत सरकार की ओर से 80 हजार करोड़ रुपए का फंड दिये जाने की व्यवस्था है। उनका कहना था कि राज्य सरकार इसमें 75 प्रतिशत की भागीदारी करेगी। उनके अनुसार इस नीति में उद्योगों को वित्तीय प्रोत्साहन (financial incentives)देने की भी व्यवस्था है तथा इसमें जमीन सब्सिडी के रूप में 200 एकड़ तक 75 फीसदी की सब्सिडी मिलेगी।


13 कंपनियों ने जताई यह इच्छा


उन्होंने बताया कि अब तक 13 कंपनियों ने प्रदेश में सेमी कंडक्टर निर्माण इकाई लगाने के लिए अपनी इच्छा जाहिर की है। उनका कहना था कि उद्योगों को पर्याप्त मात्रा में पानी और निर्बाध बिजली उपलब्ध कराई जाएगी। उनके अनुसार साथ ही राष्ट्रीय स्तर पर पेटेंट कराने पर 10 लाख तथा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पेटेंट (Internationally Patented) कराने के लिए राज्य सरकार 20 लाख रुपए प्रदान करेगी। उपाध्याय के मुताबिक इस उद्योग को कुशल श्रमशक्ति उपलब्ध कराने के लिए मुख्यमंत्री इंटर्नशिप प्रोग्राम (Chief Minister Internship Program) के तहत उसका सहयोग किया जाएगा, साथ ही प्रदेश के तकनीकी संस्थानों में भी सेमी कंडक्टर निर्माण से संबंधित प्रशिक्षण की व्यवस्था की जाएगी।

 

 

 

Senior Citizen : सीनियर सिटीजन के लिए बेहतरीन मौका, FD पर ये 8 बैंक दे रहे तगड़ा ब्याज

 

 

शिक्षा की गुणवत्ता में होगा सुधार


उन्होंने कहा कि प्रदेश को 'वन ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी' (One trillion dollar economy)बनाने में निजी विश्वविद्यालयों की अहम भूमिका साबित होगी, साथ ही साथ शिक्षा की गुणवत्ता में भी सुधार होगा। मंत्रिपरिषद ने गोरखपुर की मुंडेरा बाजार नगर पंचायत का नाम बदलकर चौरी -चौरा किये जाने के प्रस्ताव को भी मंजूरी दे दी है। स्वाधीनता आंदोलन के दौरान प्रसिद्ध चौरी-चौरा कांड (Chauri-Chaura incident)के शताब्दी वर्ष को मनाने के बाद विरासत के प्रति सम्मान का भाव प्रकट करते हुए यह अहम निर्णय लिया गया है। इसके अलावा मेट्रो रेल, आरआरटीएस एवं उनकी समस्त संपत्तियों को उप्र नगर निगम अधिनियम 1959 द्वारा अधिरोपित करों से छूट दिये जाने पर भी मंत्रिपरिषद् की मुहर लग गई है।

 

RBI ने स्टार वाले नोटों को लेकर दिया बड़ा अपडेट, आपके लिए भी जानना है जरूरी

 

इन मुद्दों पर भी हुआ मंथन

बैठक में प्रदेश में तीन नये निजी विश्वविद्यालयों की स्थापना को भी मंजूरी दी गई है। उच्च शिक्षा मंत्री योगेन्द्र उपाध्याय (Higher Education Minister Yogendra Upadhyay) ने बताया कि निजी क्षेत्र के अंतर्गत जे एसएस विश्वविद्यालय की स्थापना नोएडा में, सरोज विश्वविद्यालय की स्थापना लखनऊ में और शारदा विश्वविद्यालय (Sharda University) की स्थापना आगरा में किये जाने के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई है।उन्होंने बताया कि योगी आदित्यनाथ सरकार में उच्च शिक्षा की गुणवत्ता में काफी सुधार हुआ है। उनके अनुसार आज प्रदेश में पांच सरकारी और पांच निजी विश्वविद्यालय (private university)'ए डबल प्लस' की रैंकिंग के हैं। इसके अलावा 'ए प्लस रैंकिंग' के तीन विश्वविद्यालय हैं। बड़ी संख्या में 'ए रैंकिंग' विश्वविद्यालय प्रदेश में हैं, जबकि वर्तमान सरकार से पहले प्रदेश में मात्र तीन बी प्लस रैंकिंग के ही विश्वविद्यालय मौजूद थे।