HBN News Hindi

Scam या Fraud पर कसी लगाम, सरकार ने SMS भेजने वाली इन इकाइयों को कर दिया बैन

scam through sms:देश मे साइबर क्राइम की घटनाएं बढ़ती जा रही है। ऑनलाइन जालसाजी करने वालों ने नए-नए तरीके आजमा कर लोगों के साथ धोखाधड़ी कर रहे है, इन्हीं में से एक नया तरीका है एसएमएस स्कैम।तेजी से बढ़ते डिजिटल फ्रॉड को रोकने के लिए सरकार की तरफ से बड़ी कार्रवाई की गई है।आइए जानते हैं कि सरकार ने क्या कारवाई की है
 | 
Scam या Fraud पर कसी लगाम, सरकार ने SMS भेजने वाली इन इकाइयों को कर दिया बैन

HBN News Hindi (ब्यूरो) : भारत में साइबर फ्रॉड के केस बढ़ रहे हैं, आए दिन साइबर स्कैम के (scam through sms)नए-नए केस पढ़ने को मिल रहे हैं। आपको बता दें कि सरकार ने एसएमएस के जरिये होने वाली जालसाजी को रोकने के लिए बड़ा कदम (Government ne di warning)उठाया है, जिसके मुताबिक फर्जी एसएमएस भेजने वाली कई कंपनियों को काली सूची में डाल दिया गया है। आइए जानते हैं इस पूरी खबर के बारे में।

 

 

आठ इकाइयों के खिलाफ की  कार्रवाई 


सरकार ने एसएमएस के जरिये जालसाजी पर नकेल कसते हुए पिछले तीन माह में 10,000 से अधिक धोखाधड़ी संदेश भेजने में इस्तेमाल किए गए एसएमएस हेडर के पीछे की आठ ‘प्रमुख इकाइयों’ को काली सूची में डाल दिया है। एक(विभाग ने दी ये सख्त चेतावनी) आधिकारिक बयान के मुताबिक, दूरसंचार विभाग (डीओटी) ने गृह मंत्रालय (एमएचए) के सहयोग से ‘संचार साथी’ पहल के जरिये नागरिकों को संभावित एसएमएस धोखाधड़ी से बचाने के लिए आठ इकाइयों के खिलाफ यह निर्णायक कार्रवाई की है। 

 

 

विभाग ने जारी की चेतावनी 


इसके साथ ही विभाग ने चेतावनी दी कि टेलीमार्केटिंग गतिविधियों के लिए मोबाइल नंबरों के उपयोग की अनुमति नहीं है। यदि कोई उपभोक्ता प्रचारात्मक संदेश भेजने के लिए अपने टेलीफोन कनेक्शन का इस्तेमाल करता है, तो पहली शिकायत पर उनका कनेक्शन (Breaking News Hindi)काट दिया जाएगा और उसका नाम एवं पता दो साल की अवधि के लिए काली सूची में डाला जा सकता है।


हेडर के इस्तेमाल से भेजे गए धोखाधड़ी वाले संदेश 


एसएमएस के जरिये ग्राहकों को वाणिज्यिक संदेश भेजने वाली व्यावसायिक या कानूनी संस्थाओं को दूरसंचार जगत की भाषा में ‘प्रमुख इकाई’ कहा जाता है। वहीं हेडर का आशय वाणिज्यिक संचार भेजने के लिए ‘प्रमुख इकाई’ को आवंटित एक विशिष्ट शृंखला से है जिसमें अंक(सरकार ने नकेल कसी) एवं अक्षर दोनों होते हैं। गृह मंत्रालय के तहत संचालित ‘भारतीय साइबर अपराध समन्वय केंद्र’ (आई4सी) ने साइबर अपराध के इरादे से धोखाधड़ी वाले संदेश भेजने के लिए आठ एसएमएस हेडर के दुरुपयोग के बारे में जानकारी मुहैया कराई।

यह (विभाग ने दी ये सख्त चेतावनी)पाया गया कि पिछले तीन महीनों में इन आठ हेडर का इस्तेमाल करते हुए 10,000 से अधिक धोखाधड़ी वाले संदेश भेजे गए थे। इन आठ एसएमएस हेडर का स्वामित्व रखने वाली प्रमुख संस्थाओं को काली सूची में डाल दिया गया है।

 

 एसएमएस हेडर को भी  किया गया बैन


बयान के मुताबिक, आठ प्रमुख संस्थाओं के साथ उनके स्वामित्व वाले 73 एसएमएस हेडर और 1,522 एसएमएस सामग्री टेम्पलेट को भी काली सूची में डाल दिया गया है। अब इनमें से किसी भी प्रमुख संस्था, एसएमएस हेडर या टेम्पलेट का(SMS से जालसाजी) इस्तेमाल एसएमएस भेजने के लिए नहीं किया जा सकता है। दूरसंचार विभाग (Scam या Fraud kr against government action)ने इन संस्थाओं को काली सूची में डालकर नागरिकों के संभावित उत्पीड़न को रोका है, और साइबर अपराध के खिलाफ नागरिकों की सुरक्षा के लिए अपनी प्रतिबद्धता दोहराई है।