HBN News Hindi

Lok Sabha के लिए अनंतनाग से चुनाव लड़ेगा राजनीति का यह महारथी, अब तक किसी से नहीं हारा

Lok Sabha Election 2024 : आगामी दिनों में लोक सभा चुनाव होने वाले हैं। इसके लिए नेशनल कॉन्फ्रेंस ने अपना पहला उम्मीदवार घोषित कर दिया है। जम्मू कश्मीर की अनंतनाग सीट से यह राजनीति का महारथी चुनाव लड़ेगा। बात कर रहे हैं मियां अल्ताफ के बारे में। इनको पार्टी ने टिकट दिया है। आइये जानें पूरी डिटेल इस खबर में।

 | 
Lok Sabha के लिए अनंतनाग से चुनाव लड़ेगा राजनीति का यह महारथी, अब तक किसी से नहीं हारा

HBN News Hindi (ब्यूरो) :  राजधानी श्रीनगर में आज National Conference के वरिष्ठ नेताओं की एक बैठक का आयोजन किया गया। इस बैठक में नेशनल कॉन्फ्रेंस (National Conference)के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने पार्टी के वरिष्ठ नेता मियां अल्ताफ अहमद (Mian Altaf Ahmed) के नाम की घोषणा अनंतनाग लोकसभा सीट के प्रत्याशी के रूप में की। (Lok Sabha Election 2024) उमर अब्दुल्ला ने कहा कि मियां अल्ताफ अहमद का ट्रैक रिकॉर्ड अच्छा रहा है। वह सभी को साथ लेकर चलने का प्रयास करते रहे हैं। इसलिए पार्टी ने उन्हें प्रत्याशी घोषित किया है।

E-way Bill अब अनिवार्य, जान लें इसे ऑनलाइन निकालने का तरीका

पार्टी ने ये जताई उम्मीद


पार्टी ने उम्मीद जताई कि मियां अल्ताफ से बेहतर अनंतनाग (Anantnag) के लिए कोई और उम्मीदवर नहीं हो सकता था। उमर अब्दुल्ला ने कहा कि लोग मियां साहब को अच्छी तरह से जानते हैं। इनके काम करने का तरीका और लोगों को एक साथ जोड़ने का तरीका बेहतर रहा है। उन्होंने कभी जाति-मजहब के नाम पर वोट नहीं मांगे और सभी को साथ लेकर चलने का प्रयास किया है। इसके साथ ही उमर अब्दुल्ला ने लोगों से अपील की है कि 7 मई को होने वाले लोकसभा चुनाव के दिन नेशनल कॉन्फ्रेंस के उम्मीदवर मियां अल्ताफ (National Conference candidate Mian Altaf) को अपना कीमती वोट देकर उन्हें कामयाब बनाएं।

अंतरराज्यीय e-Way Bill System लागू, कर्नाटक प्रदेश में यह व्यवस्था लागू करने वाला सबसे पहला राज्य

जानिये मियां अल्ताफ के बारे में


बता दें कि मियां अल्ताफ गांदरबल जिले के वांगत कंगन के रहने वाले हैं। गुर्जर, बकरवाल और पहाड़ी समुदाय के लिए मियां अल्ताफ एक लोकप्रिया नेता के तौर पर जाने जाते हैं। मियां अल्ताफ अब तक 6 बार जम्मू-कश्मीर विधानसभा के चुनाव (Jammu and Kashmir Assembly elections) में नेशनल कॉन्फ्रेंस से जीतते आए हैं। मियां अल्ताफ के परिवार की लंबी राजनीतिक प्रतिष्ठा है। उनके दादा मियां निजाम-उद-दीन 1952 से 1967 तक नेशनल कॉन्फ्रेंस के विधायक रहे। इसके बाद उनके पिता मियां बशीर अहमद ने 1967 से 1987 तक कंगन निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया और मंत्री भी रहे। 

Wheat Rate 2024 : 2700 रुपये क्विंटल बिकेगी गेहूं! केंद्र सरकार ने एमएसपी में की बढ़ोतरी

मियां अल्ताफ अहमद अब तक कोई चुनाव नहीं हारे


मियां निजाम-उद-दीन लारवी, मियां बशीर अहमद लारवी और मियां अल्ताफ अहमद राजनीति में कदम रखने के बाद से कोई चुनाव नहीं हारे। मियां अल्ताफ अहमद भी जम्मू-कश्मीर में कैबिनेट मंत्री (Cabinet Minister in Jammu and Kashmir) रह चुके हैं। उन्होंने अपना पहला कार्यकाल 1996 में मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला (Chief Minister Farooq Abdullah) के अधीन और दूसरा कार्यकाल मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला (Chief Minister Omar Abdullah) के अधीन कैबिनेट मंत्री के रूप में दिया। अनंतनाग लोकसभा सीट सबसे संवेदनशील सीट मानी जाती है। इस सीट पर सभी राजनीतिक दलों की नजर बनी हुई है।

Google में नौकरी के लिए ऐसे करें अप्लाई, हर महीने की है लाखों में सैलरी