HBN News Hindi

इस Multinational Company ने लिया कर्मचारियों की छंटनी का फैसला, यह है सबसे बड़ा कारण

Lay Offs Employees : हाल ही के एक अपडेट के अनुसार बता दें कि एक बड़ी मल्टीनेशनल कंपनी (multinational company) ने अपने कर्मचारियों की छंटनी करने का फैसला लिया है। इसका सबसे बड़ा कारण वित्तीय बोझ बताया जा रहा है। बता दें कि यह कंपनी अपने 10 प्रतिशत कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखाएगी। आइये जानते हैं इस बारे में विस्तार से इस खबर में।

 | 
इस Multinational Company ने लिया कर्मचारियों की छंटनी का फैसला, यह है सबसे बड़ा कारण

HBN News Hindi (ब्यूरो) : पिछले कुछ दिनों में कई बड़ी कंपनियां अपने कर्मचारियों की छंटनी (retrenchment of employees)कर चुकी हैं। दिग्गज जापानी कंपनी तोसीबा कॉरपोरेशन ने जापान में 5,000 कर्मचारियों की छंटनी करने का फैसला किया है। यह कंपनी के कुल वर्कफोर्स का 10 प्रतिशत है।

 

Senior Citizen की हो गई मौज, अब मामूली निवेश पर मिलेगा धाकड़ रिटर्न

 

Toshiba की ओर से ये फैसला कंपनी के परिचालन पुनर्गठन के चलते लिया गया है। कंपनी इंफ्रा और डिजिटल टेक्नोलॉजी (Infra and digital technology) जैसे सेक्टर्स पर फोकस करना चाहती है।  बता दें, तोशीबा जापान की बड़ी नियोक्ता कंपनियों में से एक है। लेकिन हाल के वर्षों में कंपनी को कुछ मुश्किलों का सामना करना पड़ा है। कंपनी में कई प्रकार के मैनेजमेंट और घोटाले सामाने आए हैं।

 

 Delhi-NCR Weather Today : दिल्ली में बारिश के बाद होगा मौसम कूल, तेज आंधी का अलर्ट जारी


जापान की बड़ी कंपनियों में से एक


हाल के वर्षों में जापान में होने वाली ये सबसे बड़ी छंटनियों में से एक है। इसका असर जापान के कॉरपोरेट कल्चर (corporate culture) पर होगा, जहां मजबूत श्रम कानूनों के चलते छंटनी होना कोई आम बात नहीं हैं। जापान में नौकरी पेशा और युवा लोगों की अन्य देशों के मुकाबले कमी है।  निक्केई की रिपोर्ट है कि शिसीडो, ओमरोन और कोनिका मिनोल्टा सहित अन्य प्रमुख जापानी कंपनियों ने भी हाल ही में कर्मचारियों की कटौती की घोषणा की है।

 

Bank Holiday on 19 april, 2024 : आज इन राज्यों के कई शहरों में नहीं खुलेंगे बैंक, चुनाव के कारण रहेगी छुट्‌टी

 

कई सेक्टर में काम करती हैं कंपनी


तोशीबा जापान की एक MNC company है। इसका कारोबार दुनिया के कई देशों में फैला हुआ है। कंपनी लैपटॉप, राइस कुकर और इलेक्ट्रोनिक्स के साथ कई अन्य सेक्टर में कारोबार करती है। 2015 में सामने आए घोटले और मैनेजमेंट के इश्यू के चलते कंपनी को बड़ा झटका लगा था, जिसके बाद से कंपनी उभरने का प्रयास कर रही है। इस कारण कंपनी को बड़ा जुर्माना भी देना पड़ा था। 

 

Triumph Tiger 900 : लग्जरी कार से भी महंगी है यह बाइक, कीमत जानकर रह जाओगे हैरान

 

बढ़ा वित्तीय बोझ


जापानी मीडिया निक्केई के मुताबिक, तोशीबा न्यूक्लियर टरबाइन, बैटरी और क्वांटम टेक्नोलॉजी आदि में कारोबार करती है। कंपनी को  छंटनी के कारण कई तरह के फायदे कर्मचारियों को देने पड़ेंगे और इस कारण कंपनी को करीब 650 मिलियन डॉलर आर्थिक बोझ(economic burden)उठाना पड़ेगा। 

Chanakya Niti : पति से संतुष्ट न होने पर महिला करती है ऐसे इशारे, ऐसे समझें फटाक से