HBN News Hindi

UP के इस जिले को कहा जाता है स्विट्जरलैंड ऑफ इंडिया, जानिये कौन से पीएम ने दिया था यह नाम

UP News : आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के एक जिले को स्विट्जरलैंड ऑफ इंडिया (Switzerland of India)कहा जाता है। यह नाम देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने दिया था। इस जिले की प्राकृतिक सुंदरता व वातावरण आदि को देखते हुए ये नाम दिया गया। इस जिले से कई राज्यों की सीमाएं लगती हैं। आइये जानते हैं इसके बारे में डिटेल से।

 | 
UP के इस जिले को कहा जाता है स्विट्जरलैंड ऑफ इंडिया, जानिये कौन से पीएम ने दिया था यह नाम

HBN News Hindi (ब्यूरो) :  स्विट्जरलैंड ऑफ इंडिया का दर्जा किसी जगह को यूं ही नहीं मिल पाता, उसकी खूबी भी उसी तरह की रही होंगी। भारत की भौगोलिक स्थिति (geographical location of india) के बारे में अगर हम बात करें, तो कई रोचक बातें सामने निकलकर आएंगी। (Switzerland of India kon sa jila hai)अक्सर आपने देश की जियोग्राफी के बारे में किताबों में या फिर स्कूलों में पढ़ा होगा, जैसे कौन से राज्य की सीमा किस राज्य से लगती है या फिर कौन सी नदी किस जगह से होकर गुजरती है।

 

Aaj Ka Rashifal, 18 अप्रैल : आज इनके के सिर पर सजेगा सफलता का ताज और इनकी नौकरी पर गिर सकती है गाज

 

ये हैं खास बातें


यूपी की एक ऐसी ही जगह के बारे में आज हम आपको बताने वाले हैं, जिसके बारे में कहा जाता है कि इससे 4 राज्यों की सीमाएं लगती हैं। ये देश का इकलौता ऐसा जिला है, जिसका नाम पीएम नेहरू (PM Nehru) ने ‘स्विट्जरलैंड ऑफ इंडिया’ रख दिया था। आप भी जरूर इस जगह के बारे में जानना चाहते होंगे, तो चलिए फिर आपको बताते हैं इस जिले के बारे में।

 

UP Weather Update : यूपी में आंधी तूफान व बारिश के साथ बरसेगी ओलों की आफत, येलो अलर्ट जारी

 

इन राज्यों से मिलती है सीमा

 

 

उत्तर प्रदेश का सोनभद्र जिला, जिसकी सीमा 4 राज्यों से होकर जाती हैं, इन राज्यों में मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, बिहार और झारखंड है। जी हां, इन राज्यों की सीमाएं सोनभद्र जिले (sonbhadra district)को छू जाती हैं। विंध्य और कैमूर पहाड़ियों में स्थित ये जिला खनिज से घिरा हुआ है। क्षेत्रफल की बात करें तो खीरी के बाद ये उत्तर प्रदेश का दूसरा सबसे बड़ा जिला माना जाता है।

 

Gold-Silver Price Today : सोना और चांदी के दामों ने तोड़ा रिकॉर्ड, 10 ग्राम गोल्ड अब बिक रहा इस भाव, यह रही ताजा रेटलिस्ट


15 लाख है सोनभद्र जिले की आबादी

 

सोनभद्र की आबादी (population of sonbhadra) करीबन 15 लाख है, साथ ही इसका जनसंख्या उत्तर प्रदेश में सबसे कम 198 व्यक्ति प्रति वर्ग किमी है। सोनभद्र का सोन नदी की वजह से पड़ा है, ये स्थान नदी के किनारे बसा हुआ है। सोन के अलावा रिहन्द , कनहर , पांगन आदि नदिया भी सोनभद्र से गुजरती हैं।


1989 में हुई थी स्थापना

बता दें, सोनभद्र जिले की स्थापना (Establishment of Sonbhadra district) 1989 में की गई थी। इसे मिर्जापुर जिले से अलग कर दिया गया था। औद्योगिक इतिहास के मामले में भी इसे अहम जिला माना जाता है। यहां खनिज पदार्थ, बिजली, उद्योग से जुड़ा हर काम देखने को मिल जाएगा।

Sasur Bahu Story : सास के सोते ही बहू के कमरे में चला जाता था ससुर, इस काम के लिए बनाता था दबाव

पीएम नेहरू ने दी थी यह संज्ञा


सोनभद्र विंध्य और कैमूर पर्वत श्रंखला के बीचों बीच स्थित है। इसकी प्राकृतिक सुंदरता और पर्वतीय पर्यटक स्थल होने की वजह से इसे देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने सोनभद्र को स्विट्जरलैंड ऑफ इंडिया (Switzerland of India) का नाम दे डाला था। बता दें, वो साल 1954 में एक सीमेन्ट फैक्ट्री का उद्घाटन करने के लिए पहुंचे थे, उस दौरान वो सोनभद्र से काफी प्रभावित हुए थे। सोनभद्र को एनर्जी कैपिटल ऑफ इंडिया (Energy Capital of India) भी कहा जाता है, क्योंकि यहां सबसे अधिक पावर प्लांट मौजूत हैं।

Delhi में इन तारीखों पर नहीं छलकेंगे जाम, सरकार का ड्राई डे का ऐलान


इन जिलों से जुड़ा है सोनभद्र


सोनभद्र सड़क मार्ग द्वारा लखनऊ, इलाहाबाद, वाराणसी, मिर्ज़ापुर आदि से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। वाराणसी से सोनभद्र (Varanasi to Sonbhadra)के लिए बसें 24 घंटे उपलब्ध हैं और रॉबर्ट्सगंज (जिला मुख्यालय) तक पहुंचने में मुश्किल से 2 घंटे लगेंगे जो वाराणसी से 74 किलोमीटर दूर है। सोनभद्र आने का सबसे आसान तरीका वाराणसी/मिर्जापुर तक ट्रेन/हवाई मार्ग है, फिर सोनभद्र के लिए बस/निजी टैक्सी लें, जो वाराणसी और मिर्ज़ापुर से 24 घंटे उपलब्ध रहती हैं।

Redmi ने लॉन्च किया अपना सबसे सस्ता फोन, मामूली सी है कीमत