HBN News Hindi

Success Story : यूं ही चर्चा में नहीं रहती ये आईएएस, डिसीजन ऐसे की हिल जाएं बड़े-बड़े

IAS Success Story: UPSC, दुनिया की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक में सफलता हासिल करना हर किसी के लिए आसान नहीं होता है। इसे पास करने वाले केंडिडेट की क्षमता अलग अलग होती है। इसीलिए कोई को निर्देशन करना तो काफी मुश्किल होता है लेकिन वह यूपीएससी के टॉपर आने वाले छात्रों के प्रेरणा के स्रोत जरुर बन सकते हैं। आइए जानते हैं UPSC पास कर आईएएस बनने वाली एक महिला के बारे में जो आजकल चर्चा में है क्योंकि उसकी ड्यूटी फर्स्ट रुल है।

 | 
Success Story : यूं ही चर्चा में नहीं रहती ये आईएएस, डिसीजन ऐसे की हिल जाएं बड़े-बड़े 

HBN News Hindi (ब्यूरो) : आईएएस अफसर बनने की बात करना और बनने में दिन रात का अंतर होता है। इसे पाने के लिए एक उम्मीदवार को काफी मेहनत करनी पड़ती है। जो इसे पास करने में सफल हो जाता है। वही अपना इतिहास रच सकता है। ये कहानी एक ऐसी दबंग महिला की है जो अपने डिसीजन केपेबिलिटी के (UPSC news update) कारण अक्सर चर्चा में देखी जाती है। हम बात कर रहे हैं रोशनी सिंधुरी की जो 2009 में यूपीएससी क्लियर कर आईएएस के पद पर नियुक्त हुई थी आइए जानते हैं इनके जीवन से जुड़े कुछ जरुरी सिध्दातों के बारे में डिटेल में।

 

 

आइएएस रोहिनी की कहानी


एक आईएएस अफसर के लिए सबसे जरुरी उसकी ड्यूटी होती है और जो इन सिद्धातों (Kendriya Vidyalaya se ki thi study) को मानतें है। वह अक्सर अपने कारनामों के चर्चा में रहते हैं। ऐसी ही एक आईएएस ऑफिसर सुर्खियों में बनी हुई हैं। उन पर मशहूर सिंगर लकी अली द्वारा जमीन अवैध कब्जा करने का आरोप लगाया है। इसको लेकर सिंगर ने ऑफिसर, उनके पति और उनके रिश्तेदार (Rohini Sindhuri ne kb diya tha phla attempt) के खिलाफ कर्नाटक लोकायुक्त से लिखित शिकायत दर्ज कराई है। हम जिस आईएएस ऑफिसर की बात कर रहे हैं, उनका नाम रोहिणी सिंधुरी है। जिन्होंने 2009 में यूपीएससी की परीक्षा क्रेक कर IAS बनी थीं।

 

 

रोहिनी रेडी ने कैसे की थी तैयारी


अक्सर UPSC के केंडिडेट इनके बारे में पढ़ते हुए गर्वित अनुभव करते हैं। वैसे रोहिणी सिंधुरी आंध्र प्रदेश से ताल्लुक रखती हैं। उनका जन्म 30 मई 1984 को हुआ था। उन्होंने अपनी स्कूलिंग सरकारी स्कूल से पूरी की थी। जिसके बाद उन्होंने केमिकल इंजीनियरिंग में बीटेक की। अगर उनके UPSC के सफर (IAS Rohini Sindhuri journey) की बात की जाए तो आपको बता दें कि उन्होंने 2009 की यूपीएससी की परीक्षा में 43वीं रैंक हासिल करके IAS ऑफिसर बनीं। उनके पिता भी सरकारी नौकरी में थे। रोहिणी सिंधुरी के पति का नाम सुधीर रेड्डी है। वह एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं।

इन काबिलियत के कारण हुई थी रोहिनी की प्रमोशन

सिविल के रुप में सिंधुरी की पहली पोस्टिंग तुमकुरु में असिस्टेंट कमिश्नर के पोस्ट पर हुई थी। उसके बाद उन्होंने वर्ष 2014 तक ग्रामीण विकास और पंचायत राज विभाग, स्वरोजगार परियोजना, बैंगलोर के निदेशक के रूप में काम किया। इसके बाद जुलाई, 2017 में उन्हें हसन के डिप्टी कमिश्नर के रूप में नियुक्त किया गया। वह हिंदू धार्मिक संस्थानों और धर्मार्थ बंदोबस्ती विभाग में कार्यरत थी। जिसके बाद रोहिणी को कुछ ही महिनों बाद ही कर्नाटक सरकार ने उन्हें राजपत्र विभाग के परीक्षा दी और उन्हें चीफ एडिटर बना दिया गया।