HBN News Hindi

Railway News : चुटकी बजाइये, चंद सेकेंडों में रेलवे की तमाम सुविधाएं हाजिर

Railway update News : रेल (Rail)के अंदर सफर कर रहे हो और खाने-पीने से लेकर हर सुविधा का मजा लेना चाहते हो लेकिन एप (app)के बारे में नहीं पता तो घबराइये नहीं। रेलवे ने एक ऐसी एप लान्च की है, जिसमें रेल से संबंधित हर सुविधाएं जैसे टिकट से लेकर खाने-पीने की हर वस्तु मौजूद होगी। बस आपको इस एप पर वह चीज क्लिक करनी है। आइये आगे बताते हैं कि कौन सी है एप, किस तरह करेगी काम।

 | 
Railway News : चुटकी बजाइये, चंद सेकेंडों में रेलवे की तमाम सुविधाएं हाजिर 

HBN News Hindi (ब्यूरो) : रेल के अंदर आप हर सुविधा (Facility)का मजा लेना चाहते हैं तो रेलवे ने ऐसी एप लान्च की है, जिसकी मदद से आप रेल की टिकट (train ticket)से लेकर खाने-पीने की वस्तु को चंद सेकेंडों में प्राप्त कर सकते हैं। जबकि पहले टिकट का अलग, खाने-पीने का अलग व अन्य सुविधाओं का प्राप्त करने के लिए भिन्न भिन्न प्रकार की एप डाउनलोड करनी होती थी, जिसका हर किसी को ज्ञान नहीं है। हर सुविधा को एक ही एप में समाने के लिए रेलवे ने सुपर एप नाम से एप लान्च कर दी है। आइये विस्तार से जानते हैं पूरा मामला। 

एक ही एप में मिलेंगी रेलवे की सभी सेवाएं 


भारतीय रेलवे (Indian Railways)का यह सुपर एप तकनीकी रूप से बहुत एडवांस होगा और लगभग सभी सेवाओं को एक ही छत के नीचे लाने का काम करेगा. इसके जरिए आप टिकट बुकिंग और ट्रैन की ट्रैकिंग जैसे कई सारे काम एक ही जगह कर सकेंगे. लोकसभा चुनाव 2024 (Lok Sabha Elections 2024) से पहले ही इसे लॉन्च करने की तैयारी है. इसके अलावा भारतीय रेलवे टिकट रिफंड के लिए 24 घंटे की सर्विस भी शुरू करने जा रही है. इससे टिकट कैंसिल करने की सुविधा और आरामदायक एवं तेज हो जाएगी।  

आईआरसीटीसी रेल कनेक्ट के 10 करोड़ डाउनलोड


फिलहाल आईआरसीटीसी रेल कनेक्ट (IRCTC Rail Connect) एप भारतीय रेलवे का सबसे लोकप्रिय मोबाइल एप्लीकेशन (mobile application)है. इसके लगभग 10 करोड़ डाउनलोड हैं. इसके अलावा रेल मदद (Rail Madad), यूटीएस (UTS), सतर्क (Satark), टीएमएस निरीक्षण (TMS-Nirikshan), आईआरसीटीसी एयर एंड पोर्ट रीड (IRCTC Air and PortRead) कैसे कई और एप भी काम कर रहे हैं. रेलवे की कोशिश है कि सभी इन सभी एप को एक ही एप्लीकेशन में समाहित कर दिया जाए. एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, कोलकाता मेट्रो का मोबाइल एप 4 लाख से ज्यादा लोग इस्तेमाल कर रहे हैं. इसे सेंटर फॉर रेलवे इंफॉर्मेशन (CRIS) ने डेवलप किया है. यात्रियों को इसे बहुत सुविधा हो रही है. सुपर एप भी एक वन स्टॉप सॉलूशन बनना चाहता है।