HBN News Hindi

Political News : लोस चुनाव से पहले बीजेपी को झटका, पूर्व केंद्रीय मंत्री कांग्रेस में होंगे शामिल, हिसार से लड़ सकते हैं चुनाव

Haryana Politics Updates : भारतीय जनता पार्टी को लोकसभा चुनाव 2024 से पहले बड़ा झटका (big shock) लगने जा रहा है। पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता चौधरी बीरेंद्र सिंह आज कांग्रेस में शामिल होने जा रहे हैं। उनके कांग्रेस में शामिल होने की खबर से हरियाणा में सियासी हलचल (political turmoil) पैदा हो गई है। आइये नीचे खबर में विस्तार से जानते हैं।
 | 
Political News : लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी को बड़ा झटका, पूर्व केंद्रीय मंत्री कांग्रेस में होंगे शामिल, हिसार से लड़ सकते हैं चुनाव

HBN News Hindi (ब्यूरो) : आजकल लोकसभा चुनाव 2024 को लेकर सियासी पारा बढ़ता जा रहा है। राजनीतिक गलियारों (political corridors) में हर रोज नई-नई खबरों की चर्चा (Discussion of latest news) सुर्खियों में बनी रहती है।

हाल ही में एक नई जानकारी सामने आई है, जिससे भारतीय जनता पार्टी को हरियाणा में बहुत बड़ा झटका लगने वाला है। क्योंकि पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता चौधरी बीरेंद्र सिंह आज हाथ से हाथ मिलाकर कांग्रेस में शामिल होने जा रहे हैं। आइये उनके कांग्रेस में शामिल होने के बारे में विस्तार से जानते हैं।

 

 

सांसद बेटा पहले ही हो चुका कांग्रेस में शामिल


बीजेपी को लोकसभा चुनाव 2024 से पहले बड़ा झटका लगने वाला है। पूर्व केंद्रीय मंत्री चौधरी बीरेंद्र सिंह आज कांग्रेस का दामन थामेंगे। वे आज सुबह 11.45 बजे कांग्रेस में शामिल (join congress) हो सकते हैं।  उनके बेटे और सांसद बृजेंद्र सिंह पहले ही कांग्रेस का दामन थाम चुके हैं। चौधरी बीरेंद्र के साथ कुछ विधायक भी कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं।

 

 

दो विधायकों को भी कांग्रेस में शामिल करने का दावा


बीरेंद्र सिंह ने दावा किया है कि जब वे कांग्रेस में शामिल होंगे तो उनके साथ दो और विधायक भी पार्टी में शामिल (Two MLAs will also join the party) होंगे। हालांकि, उन्होंने विधायकों के नाम का खुलासा नहीं किया। इससे पहले, पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि जेजेपी भाजपा की बी-टीम नहीं, बल्कि उसके रिजर्व प्लेयर (reserve player) हैं। उन्होंने यह भी दावा किया कि जेजेपी उसी उम्मीदवार को टिकट देगी, जिसे बीजेपी चाहेगी।

 

कांग्रेस पार्टी हिसार से दे सकती है लोकसभा का टिकट


सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बीरेंद्र सिंह को कांग्रेस में शामिल होने के बाद कांग्रेस पार्टी हिसार से लोकसभा चुनाव (Lok Sabha election from Hisar) में मैदान में उतार सकती है। क्योंकि राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि लोकसभा चुनाव में भाजपा को हिसार सीट पर हराने के लिए बीरेंद्र सिंह सबसे मजबूत नेता (strongest leader) हैं। उनका अपना निजी वोट बैंक भी है। इसलिए सभी समीकरणों को ध्यान में रखते हुए कांग्रेस पार्टी उन्हें हिसार लोकसभा चुनाव का टिकट दे सकती है।

 

बीरेंद्र सिंह का राजनीतिक सफर


चौधरी बीरेंद्र सिंह पहले कांग्रेस में थे। वे उचाना से 5 बार विधायक रहे। बीरेंद्र  पहली बार 1977 में विधायक बने। इसके बाद 1982, 1991, 1996 और 2005 में भी विधानसभा पहुंचे। वे तीन बार हरियाणा के कैबिनेट मंत्री और तीन बार सांसद बने। उन्होंने अपना पहला चुनाव 1972 में लड़ा था, जिसमें जीतकर वे ब्लॉक समिति उचाना के अध्यक्ष बने।
 

1980 में हरियाणा युवा कांग्रेस अध्यक्ष व 1985 में प्रदेश अध्यक्ष बने


चौधरी बीरेंद्र सिंह ने 1977 से लेकर 1980 तक जींद इकाई के साथ युवा कांग्रेस के अध्यक्ष (President of Youth Congress) के रूप में भी काम किया। उन्हें 1980 में हरियाणा युवा कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया गया। इसके बाद, 1985 में उन्हें हरियाणा का प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया गया।

इसी साल उन्हें महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के लिए पर्यवेक्षक (observer) बनाकर भेजा गया। उन्हें 1990 में फिर से प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया। इसके बाद, 2011 में उन्हें उत्तराखंड और हिमाचल का प्रभारी बनाया गया। वहीं, 2004 में बीरेंद्र सिंह को यूपी का प्रभारी महासचिव (General Secretary in charge of UP) बनाकर भेजा गया। वे कांग्रेस की स्क्रीनिंग कमेटी के अध्यक्ष भी रहे।
 

2014 में हुए थे बीजेपी में शामिल


बीरेंद्र सिंह को 2010 में राज्यसभा (Rajya Sabha) भी भेजा गया, लेकिन 2014 में 42 साल तक कांग्रेस की सेवा करने के बाद उन्होंने पार्टी से  इस्तीफा (resignation from the party) दे दिया था और बीजेपी में शामिल हो गए। बीजेपी में शामिल होने के बाद बीरेंद्र सिंह को 2014 से 2016 के लिए फिर से राज्यसभा भेजा गया। उन्हें 2016 में तीसरी बार राज्यसभा के लिए भेजा गया। उन्होंने भाजपा की मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में इस्पात मंत्री (steel minister) के रूप में भी काम किया।