HBN News Hindi

Vegetable price : महंगाई पर भी गर्मी का असर, सब्जियों की बढ़ी कीमतों ने बिगाड़ा बजट

Sabjiyo ke Dam : देश भर में एक बार फिर सब्जियों की कीमत में जबरदस्त उछाल देखा गया है। भीषण गर्मी से सब्जियों के भाव आसमान छूने लगे हैं। इससे घरों का बजट बिगड़ गया है।इसके अलावा, कई आवश्यक वस्तुओं की बढ़ती कीमतों ने आम जनता के लिए मुश्किलें खड़ी कर दी हैं। आइए जानते हैं इस बारे में विस्तार से।
 
 | 
Vegetable price : महंगाई पर भी गर्मी का असर, सब्जियों की बढ़ी कीमतों ने बिगाड़ा बजट

HBN News Hindi (ब्यूरो) : आपको बता दें कि गर्मी और लंबे समय तक बारिश की कमी के कारण उत्पादन प्रभावित हुआ है। जिससे कीमतें बढ़ गई है। आपूर्ति कम होने के कारण सब्जियों की कीमतों में उछाल देखा गया है और इस महंगाई का(Vegetables prices today) असर केवल सब्जियों के दामों में ही देखने को नहीं मिल रहा है। आइए जानते हैं।


महंगाई का कहर


पूरे उत्तर भारत में इन दिनों भीषण गर्मी पड़ रही है। लोगों का हाल बेहाल है, ऐसे में अब लोग सब्जियों के बढ़ते दामों से परेशान हैं। भीषण गर्मी इन दिनों कहर बरपा रही है। तापमान 45 डिग्री को पार कर चुका है। गर्मी के(Agriculture News Updates) चलते जहां आम जनजीवन अस्त व्यस्त है, और लोग बीमार पड़ रहे हैं। वहीं अब इसका असर महंगाई पर भी देखने को मिल रहा है। 

 


सब्जियों के दाम छू रहें आसमान


सब्जियों के आसमान छूते दामों को लेकर लोग परेशान हैं। आलू, प्याज के अलावा तमाम सब्जियां अब लोगों की पहुंच से बाहर हो गई हैं। दाम दोगुने हो गए हैं, जिससे लोगों की जेब पर खासा प्रभाव पड़ा है। बढ़ती महंगाई (जून में सब्जियों के दाम)को लेकर बल्लभगढ़ सब्जी मंडी के एक दुकानदार ने बताया कि गर्मी के चलते पीछे से सब्जियों की आवक कम हो रही है जिससे आलू, प्याज समेत तमाम सब्जियों के दाम लगभग दोगुने हो गए हैं। दुकानदार ने बताया कि जो सब्जी पहले 10 रुपए में मिलती थी, अब उसकी कीमत 20 रुपए हो गई है।

 

 

सब्जियों की कीमतों पर प्रभाव 


वहीं एक अन्‍य दुकानदार ने कहा कि गर्मी की मार के चलते सब्जियों की कीमतों पर प्रभाव पड़ा है। लोग अब बाजारों में कम आ रहे हैं। इसी को लेकर सब्जी मंडी में सब्जी खरीदने आए ग्राहकों ने बताया कि तमाम सब्जियां महंगी हो (Agriculture news updates 2024)चुकी हैं जिसके चलते महंगाई का असर उनकी जेब और रसोई पर पड़ने लगा है इसलिए अब वह जरूरत की सब्जी ही खरीदने पर मजबूर हो रहे हैं ।