HBN News Hindi

Good investment : एक साल में इनवेस्टर हो गए करोड़पति, यहां किया था निवेश

Sahre Market News : शेयर बाजार में पूंजी निवेश (capital investment in stock market) से शानदार रिटर्न पाकर करोड़पति बनने वाले निवेशकों के एक साल में ही वारे-न्यारे हो गए। हालांकि शेयर बाजार में भी निवेश के अलग-अलग विकल्प हैं। मिडकैप, स्मालकैप व लार्जकैप जैसे शेयरों में निवेश भी एक विकल्प है। आइये जानें करोड़पति निवेशकों के बारे में।

 | 
Good investment :  एक साल में इनवेस्टर हो गए करोड़पति, यहां किया था निवेश

HBN News Hindi (ब्यूरो) : ताजा अपडेट अनुसार शेयर बाजार (Share Market)निवेशकों के लिए चालू वित्त वर्ष 2023-24 एक सुनहरा सपने को पूरा करने वाला रहा है। इस दौरान शेयर बाजार में जबरदस्त तेजी जारी रही है। इसका फायदा शेयरों में निवेश करने वाले लाखों निवेशकों को हुआ है। आपको बता दें कि शेयर बाजार में तेजी (stock market boom) के साथ निवेशकों की संपत्ति चालू वित्त वर्ष 2023-24 में 128.77 लाख करोड़ रुपये बढ़ी है। यानी निवेशकों की इतनी कमाई 1 अप्रैल 2023 से लेकर 28 मार्च 2024 तक की। (Share Market News)इस तरह बीते 12 महीने में कई शेयर ने निवेशकों को मालामाल करने का काम किया। 

 

 Tax Rule : टैक्सपेयर्स न करें ये काम, टैक्स में भरने में खड़ी हो जाएगी बड़ी परेशानी


घरेलू शेयर बाजार का प्रदर्शन 2022-23 में हल्का रहा 


अर्थव्यवस्था की मजबूत बुनियाद (strong foundation of the economy), पूंजी प्रवाह बढ़ने तथा कंपनियों के बेहतर वित्तीय परिणाम से बाजार को समर्थन मिला। घरेलू शेयर बाजार का प्रदर्शन 2022-23 में हल्का रहा था। वहीं 2023-24 में इसमें उल्लेखनीय सुधार आया है। वित्त वर्ष 2023-24 में bse sensex 14,659.83 अंक यानी 24.85 प्रतिशत मजबूत हुआ। वहीं Nifty 4,967.15 अंक यानी 28.61 प्रतिशत चढ़ा। सात मार्च को मानक सूचकांक सेंसेक्स रिकॉर्ड 74,245.17 के अबतक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया था। इसके साथ, बीएसई में सूचीबद्ध कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 2023-24 में 1,28,77,203.77 करोड़ रुपये बढ़कर 3,86,97,099.77 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। 

 

Political News : केजरीवाल कल खोलेंगे शराब घोटाले के बड़े राज, सीएम की पत्नी बोली- हमारे यहां ED ने छापा मारा और एक पैसा भी नहीं मिला

 

चुनौतियों से बखूबी पार पाने में मदद मिली


स्वस्तिका इन्वेस्टमार्ट लि.के प्रबंध निदेशक सुनील न्याति ने कहा, ‘‘मुद्रास्फीति संबंधी चिंताओं, बढ़ती ब्याज दर और आसन्न वैश्विक मंदी की आशंकाओं (Fears of an impending global recession)के बीच देश के शेयर बाजार ने पूरे वित्त वर्ष 2023-24 में उल्लेखनीय मजबूती दिखायी। यहां तक ​​कि वैश्विक स्तर पर जारी राजनीतिक तनाव के कारण भी उत्पन्न झटके कुछ समय के लिए थे। बाजार में जो मजबूती थी, उससे इन चुनौतियों से बखूबी पार पाने में मदद मिली।’’ 

 

बीएसई-सूचीबद्ध कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 


इस साल दो मार्च को बीएसई-सूचीबद्ध कंपनियों का बाजार पूंजीकरण (Market capitalization of BSE-listed companies)394 लाख करोड़ रुपये के अब तक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया था। तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स बृहस्पतिवार को चालू वित्त वर्ष के अंतिम कारोबारी दिन 655.04 अंक यानी 0.90 प्रतिशत की बढ़त के साथ 73,651.35 अंक पर बंद हुआ। 

 

ITR news : e-filing portal के हैं बेशुमार फायदे, नहीं रुकेगी आपकी रिफंड ट्रांजेक्शन

 

अर्थव्यवस्था वैश्विक चुनौतियों का सामना करने में सक्षम रही 


उन्होंने कहा, ‘‘भारतीय शेयर बाजार (indian stock market) में तेजी का श्रेय मुख्य रूप से भारतीय अर्थव्यवस्था के मजबूत बुनियाद को दिया जा सकता है। इसकी वजह से अर्थव्यवस्था वैश्विक चुनौतियों का सामना (facing global challenges)करने में सक्षम रही है। निरंतर राजनीतिक स्थिरता की उम्मीद और अतिरिक्त आर्थिक सुधारों की संभावना बाजार को गति देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। इसके अलावा, यह माना जा रहा है कि ब्याज अपने उच्चस्तर पर है, इसमें अब वृद्धि की संभावना नहीं है।’’