HBN News Hindi

Cyber Crime Alert : बैंक ग्राहकों के साथ ऐसे भी हो सकती है ठगी, अपनाए जा रहे नए तरीके

Cyber Crime: आज के समय में लोग ठगी करने का नया-नया रास्ता ढूंढ निकालते हैं। आज हम आपको साइबर क्राइम से जुड़ी ऐसी ही एक खबर के बारे में बताने वाले हैं। आपको बता दें कि साइबर ठग ऑनलाइन धोखाधड़ी के लिए फर्जी आइडी पर बैंक खाते खुलवाकर उनका इस्तेमाल कर रहे हैं। बैंकरों पर भी साइबर ठगों की मदद करने के आरोप हैं। आइए जानते हैं इस पूरी खबर को ।
 

 | 
Cyber Crime Alert : बैंक ग्राहकों के साथ ऐसे भी हो सकती है ठगी, अपनाए जा रहे नए तरीके

HBN News Hindi (ब्यूरो) : साइबर ठगी के मामले में गुरुग्राम की एक खबर हाल ही में सामने आई है, जिसमें जालसाजों के साथ दो बैंककर्मी भी शामिल थे। ये साइबर ठग अब चिंता का विषय बनते जा रहे हैं। (cyber crime one more banker arrested)बताया गया है कि गुरुग्राम पुलिस की ओर से किसी बैंक कर्मचारी की यह 14वीं गिरफ्तारी है। आइए जानते हैं इस पूरी खबर के बारे में।

 

साइबर ठगी के बढ़ते मामले


साइबर ठगों से संबंध रखने के आरोप में पुलिस ने (banker arrested)एक और बैंकर को गिरफ्तार किया है। बैंकर पर लोगों से ठगे गए रुपयों को अपराधियों तक पहुंचाने का आरोप है। इससे पहले राजस्थान के झुंझुनू में एक निजी बैंक में रिलेशनशिप मैनेजर के तौर पर काम करने वाले सतीश को 22 मई को गिरफ्तार किया गया था।

पुलिस ने इस मामले में आरोप प्रीतम को 20 मई को(cyber crime in india) गिरफ्तार किया था। पुलिस के मुताबिक, 16 फरवरी को सेक्टर 47 के एक सीनियर एचआर ने शिकायत की थी कि निवेश सलाहाकार के रूप में जालसाजों ने उससे 40 दिनों के अंदर करीब एक करोड़ रुपये की ठगी की है।

 


जानें कैसे कि ठगी


शिकायतकर्ता का आरोप था कि ठगों ने उसे जनवरी महीने में व्हाट्सअप पर लिंक भेजे थे और निवेश पर हाई रिटर्न का वादा किया था। बताया कि ठगों ने उससे 6 फरवरी तक कई लेनदेन के जरिए खातों में 1.05 करोड़ रुपये (cyber crime cases)जमा करने के लिए कहा था।

वहीं जब उसने रिटर्न मांगा तो ऑनलाइन ट्रेडिंग अकाउंट डीएक्टिव कर दिया गया। इस मामले में पुलिस ने कई धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की थी।

 

 

बैंकर के जरिए खोले फर्जी अकाउंट


आरोपियों से पुलिस पूछताछ में पता चला है कि (साइबर क्राइम न्यूज)आरोपी सतीश आईडीएफसी बैंक (IDFC Bank) झुंझुनू में नौकरी करता है, उसने पैसों के लालच में फर्जी तरीके से बैंक खाता खोलकर साईबर ठगों को उपलब्ध करवाया था।

 

आरोपी सतीश बैंक खाता उपलब्ध करवाने के(साइबर ठगों की खबर) लिए 1 बैंक खाते के 50 हजार रुपये लेता था। आरोपी प्रीतम बैंक खाता साईबर ठगों को उपलब्ध करवाने के लिए बिचौलिए का काम करता था। इस केस में अब तक 8 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है।