HBN News Hindi

Credit Card News :क्रेडिट कार्ड से बिजली-पानी का बिल भरने वालों की जेब होगी ढीली, लगेगा इतना शुल्क

Electric and Water Bill Pay : क्या आप क्रेडिट कार्ड से बिजली-पानी (Credit Card)का बिल भरते है तो आपको पता होना चाहिए कि कल से (Utility Bills)यह मंहगा हो जाएगा। अर्थात क्रेडिट कार्ड से बिजली-पानी का बिल अदा करते हो (yes bank)तो यह आपको मंहगा पड़ सकता है। आइये जानते हैं इस मामले को विस्तार से। 

 | 
Credit Card News :क्रेडिट कार्ड से बिजली-पानी का बिल भरने वालों की जेब होगी ढीली, लगेगा इतना शुल्क

HBN News Hindi (ब्यूरो) : यदि आप क्रेडिट कार्ड से बिजली-पानी का बिल भरने (IDFC First Bank)की सोच रहे हैं तो ठहर जाइये। क्योंकि कल से अर्थात 1 मई से आपको क्रेडिट कार्ड से बिजली-पानी का बिल भरना मंहगा पड़ सकता है। क्योंकि कल से बैंक बिल भरने वालों से एक फीसदी अतिरिक्त शुल्क लेंगे। ऐसे में आपको क्रेडिट (Credit Card Bill Payment)कार्ड की बजाय मैनुअल चार्ज से भुगतान करने पर अधिक जोर देना होगा। हम बता देते हैं कि यस बैंक और आईडीएफसी फर्स्ट बैंक शामिल है। 

यस बैंक और आईडीएफसी का यह है अतिरिक्त शुल्क 


यस बैंक और आईडीएफसी फर्स्ट बैंक के (क्रेडिट कार्ड)आला अधिकारियों ने बताया है कि एक मई से यूटिलिटी बिल पेमेंट पर 1 फीसदी चार्ज लेंगे। इसके चलते (बिजली-पानी के बिल)अगर आप 2000 रुपये का बिजली बिल क्रेडिट कार्ड से भरेंगे तो आपको 20 रुपये अतिरिक्त देने पड़ेंगे हालांकि, इन बैंकों ने कस्टमर्स को फिलहाल थोड़ी (यस बैंक)राहत भी दी है. यस बैंक ने यूटिलिटी बिल पर 15000 रुपये और आईडीएफसी फर्स्ट बैंक ने 20000 रुपये तक फ्री यूसेज लिमिट भी दी है।  इसके चलते आप (आईडीएफसी फर्स्ट बैंक)यस बैंक से 15 हजार रुपये तक और आईडीएफसी फर्स्ट बैंक से 20 हजार रुपये तक यूटिलिटी बिल का बिना कोई शुल्क दिए पेमेंट कर पाएंगे ।  इससे ऊपर पेमेंट करने पर 1 फीसदी चार्ज के साथ ही 18 फीसदी जीएसटी भी देनी होगी । 

इसलिए किया गया है यह बदलाव 


बैंकों द्वारा दो प्रमुख कारणों से यह चार्ज लगाने का फैसला (मर्चेंट डिस्काउंट रेट)किया है । पहला यूटिलिटी बिल पर लगने वाला कम मर्चेंट डिस्काउंट रेट (MDR) है. एमडीआर हर क्रेडिट कार्ड ट्रांजेक्शन पर लगने वाला चार्ज है । यूटिलिटी बिल पर यह चार्ज सबसे कम है. इसलिए बैंक को क्रेडिट कार्ड से बिजली-पानी जैसे बिल पेमेंट होने पर कम पैसा मिलता है । दूसरा बैंकों को जानकारी लगी थी कि कुछ कारोबारी अपने पर्सनल क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल बिजनेस से जुड़े यूटिलिटी बिल पे करने में कर रहे थे । 

कस्टमर्स पर क्या होगा असर 


यह फीस लगने के बाद यूटिलिटी बिल का पेमेंट करने के लिए क्रेडिट कार्ड का (क्रेडिट कार्ड ट्रांजेक्शन)इस्तेमाल करना महंगा हो जाएगा । अगर आप फिर भी क्रेडिट कार्ड से बिल पेमेंट करना चाहते हैं तो कई बैंक फीस माफ करने (बिजनेस न्यूज)के ऑफर दे सकते हैं । इसके अलावा आप यूपीआई, डेबिट कार्ड और नेट बैंकिंग से भी यूटिलिटी बिल पेमेंट कर सकते हैं. इन तरीकों (हिंदी न्यूज)से पेमेंट करने पर आपको कोई शुल्क नहीं देना पड़ता है ।