HBN News Hindi

Gold में निवेश करने से पहले जान लें कितना देना पड़ेगा टैक्स, कहीं पड़ न जाए दोगुना महंगा

Gold News : अगर आप गोल्ड में निवेश करना चाहते हैं तो यह खबर आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण है। दरअसल सोने में निवेश के आज के समय में कई विकल्प मौजूद हैं। इनमें निवेश करने से पहले इनमें निवेश पर लगने वाले टैक्स के बारे में भी जान लेना चाहिए। फिर कैलकुलेशन से घाटा या फायदे का आकलन किया जा सकता है। आइये जानते हैं इस बारे में विस्तार से।

 | 
Gold में निवेश करने से पहले जान लें कितना देना पड़ेगा टैक्स, कहीं पड़ न जाए दोगुना महंगा

HBN News Hindi (ब्यूरो) : सोने में निवेश करना आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। (Investment in Gold) सोने के शानदार रिटर्न देने से बड़ी संख्या में लोग इसमें इन्वेस्ट करने के लिए आकर्षित हो रहे हैं। आप इन्वेस्टमेंट के लिए जा रहे हैं, तो जरूरी नहीं कि आप सर्राफा बाजार (bullion market) में जाकर फिजिकल गोल्ड ही खरीदें। (gold price today)आप डिजिटल गोल्ड में निवेश (investing in digital gold) कर सकते हैं। 

Mahindra जल्द लांच कर रही नई इलेक्ट्रिक SUV, नेक्सन, ब्रेजा जैसी कारों को छोड़ेगी पीछे

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड 


इसमें सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (SGB) और गोल्ड ETFs (एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स) शामिल हैं। डिजिटल गोल्ड और फिजिकल गोल्ड दोनों पर टैक्स समान तरह से लगता है। लेकिन सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में टैक्स के नियम अलग हैं। साथ ही ध्यान रखें कि फिजिकल गोल्ड में मेकिंग चार्जेज होते हैं। (Gold Investment options)अगर आप बैंक लॉकर में इसे रखते हैं, तो उसके भी चार्जेज हैं। वहीं, डिजिटल गोल्ड में इस तरह के चार्जेज नहीं होते।

 

Goa की नाइटलाइफ बना देगी लाइफ को एन्जॉयफुल, जल्द ही कर लें गोवा ट्रिप की प्लानिंग

 

सोने में निवेश के ये हैं विकल्प और इतना लगता है टैक्स


sovereign gold bond 


सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में टैक्स के नियम अलग होते हैं। अगर आप इन्हें खरीदने के 3 साल के अंदर सैकेंडरी मार्केट में बेचते हैं, तो इन पर आपकी slab rate के हिसाब से टैक्स लगेगा। लेकिन अगर आप इन्हें तीन साल होल्ड करने के बाद सेल करते हैं, तो इन पर इंडेक्सेशन के बाद 20 फीसदी का लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स (Long Term Capital Gains Tax) लगता है। और अगर आप इन्हें मैच्योरिटी तक रखते हैं, तो इन पर कोई टैक्स नहीं लगता है। इन बॉन्ड्स की मैच्योरिटी अवधि 8 साल की होती है और 5 साल बाद इनमें अर्ली रिडेम्पशन का ऑप्शन (Early redemption option) भी मिलता है। इन बॉन्ड्स पर मिलने वाली 2.5 फीसदी की एनुअल इनकम पर टैक्स स्लैब के अनुसार लगता है।

 

Wheat Price: गेहूं के रेट में बढ़ोतरी...2700 रुपये क्विंटल ताजा भाव!

 

गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ETF)


ईटीएफ पर होने वाली अर्निंग्स पर इनकम टैक्स स्लैब (income tax slab) के हिसाब से टैक्स लगता है। आप इन्हें कब बेचें यह फर्क नहीं पड़ता। AMFI के आंकड़ों के अनुसार, 29 फरवरी 2024 तक के आंकड़ों के अनुसार 28,529 करोड़ रुपये कुल एयूएम की 17 गोल्ड ईटीएफ स्कीम्स हैं।

Aaj ka rashifal, 6 april 2024 : इन राशि वालों पर रहेगी मां लक्ष्मी की कृपा, इनके लिए खुलेंगे तरक्की के रास्ते

फिजिकल गोल्ड  


फिजिकल गोल्ड (physical gold)में टैक्स डिजिटल गोल्ड (tax digital gold)की तरह ही लगता है। अगर यह खरीदने के 3 साल के बाद बेचा जाता है, तो इस पर 20 फीसदी+8 फीसदी सेस के साथ लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स लगता है। (coins/ biscuits) जब इसे 3 साल के भीतर बेचा जाता है, तो गेन्स आपकी इनकम मे जुड़ जाएगा और स्लैब के अनुसार टैक्स लगेगा।