HBN News Hindi

Amazing News : गजब का प्लान, अब घड़ी में 12 के बजाय बजेंगे 13 और यहां 26 घंटे का होगा दिन!

Strange And Wonderful : आमतौर पर दिन 24 घंटे का होता है और घड़ियों में भी 1से लेकर 12 तक नंबर अंकित होते हैं। मगर एक ऐसा देश है, जहां दिन को 26 घंटे और घड़ी में 12 के बजाय 13 नंबर अंकित (The number 13 is marked on the clock) करने की मांग की जा रही है। आइये विस्तार से जानते हैं कि आखिर ये कौन सा देश है और कौन 26 घंटे का दिन करने की  मांग (Demand for 26 hour day) उठा रहा है।
 | 
Amazing News : गजब का प्लान, अब घड़ी में 12 के बजाय बजेंगे 13 और यहां 26 घंटे का होगा दिन! 

HBN News Hindi (ब्यूरो) : सभी देशों में दिन 24 घंटे का होता है। हां इतना जरूर है कि सभी देशों के टाइम में अंतर होता है। कहीं दिन होता है तो कहीं रात होती है। मगर आपको यह जानकर हैरानी होगी कि दुनिया में एक ऐसा देश भी है, जहां  24 के बजाय 26 घंटे का दिन (26 hour day) करने की मांग की गई है और इतना ही नहीं घड़ी में भी 12 के बजाय 13 नंबर अंकित करने की मांग उठाई गई है। आइये इसके बारे में विस्तारपूर्वक जानते हैं कि आखिर यह कौन सा देश है, जहां यह मांग उठाई गई है।

 

26 घंटे का दिन करने का प्लान 


बता दें कि दिन में 24 घंटे होते हैं और घड़ी में 12 तक के नंबर अंकित होते हैं, लेकिन एक देश ऐसा भी है, जो 26 घंटे का दिन करने का प्लान (plan for 26 hour day) कर रहा है। वहीं घड़ी में 12 की जगह 13 अंक लिखे जाएंगे। 
 

इस देश में एक मेयर ने भेजा यूरोपीय आयोग को पत्र


यूरोपीय आयोग (The European Commission) को एक पत्र भेजकर नार्वे के वाडसो के मेयर ने कहा है कि दिन को 26 घंटे और घड़ी में 12 की जगह 13 नंबर (number 13 instead of 12) कर दिया जाए। हालांकि इस मांग को मांगे जाने की संभावना बेहद कम है।

 

लोगों के जीवन में अधिक खुशहाली लाने की योजना


गौरतलब है कि यह मामला नार्वे से जुड़ा हुआ है। यहां के आर्कटिक क्षेत्र में 26 घंटे का दिन और घड़ियों में 13 बजाने की योजना (Plan to strike 13 in the clocks) चल रही है। बताया जा रहा है कि इसके जरिए यहां के लोगों के जीवन में और अधिक खुशहाली लाने की योजना है। हालांकि उनकी इस योजना के सफल होने की उम्मीद बेहद कम है।

 

पत्र लिखकर की प्रस्ताव को पास करने की मांग


26 घंटे का दिन करने की मांग को लेकर आर्कटिक सर्कल के शहर वाडसो के मेयर वेन्चे पेडर्सन ने यूरोपीय आयोग को एक पत्र लिखा है और इस प्रस्ताव को पास करने की मांग (demand to pass the proposal) की है। मेयर उम्मीद जता रहे हैं कि उन्हें यूरोपीय संघ निकाय की तरफ से नई घड़ी लागू करने की अनुमति मिल जाएगी।

 

नई घड़ी योजना से लोगों को आकर्षित करने की उम्मीद


इस मांग को लेकर मेयर पेडरसन ने कहा कि यह सब नॉर्वेजियन की जीवन शैली (Norwegian lifestyle) का जश्न मनाने और खुश होने के लिए किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि वाडसो शहर और उसके आसपास के क्षेत्रों में निवासियों को लाना मुश्किल हो गया है। हम उम्मीद कर रहे हैं कि इस नई घड़ी योजना से लोगों को आकर्षित (attract people) कर सकें।

 

‘मोरटाइम’ प्रोजेक्ट रखा इस योजना का नाम


पेडरसन ने जानकारी देते हुए बताया कि हमारे यहां रहने के लिए सबसे अच्छा क्या है? ये समय ही होगा। हालांकि उन्होंने यह भी स्वीकार कर किया कि शायद ही उनकी इस योजना को लागू करने की अनुमति मिल सके। पेडरसन ने अपनी इस योजना का नाम ‘मोरटाइम’ प्रोजेक्ट (Moretime Project) रखा है। उन्होंने यह भी कहा कि यह सबसे अमीर क्षेत्रों में से एक है, जहां के लोग खुश रहने के लिए अधिक समय देते हैं। अगर टाइम बढ़ा दिया जाता है तो लोग मछली पकड़ने, शिकार करने या नई भाषाएं सीखने में खर्च कर सकेंगे।