HBN News Hindi

Maruti की ये कार बिकती है सबसे ज्यादा, हर महीने बनती है टॉप सेलिंग कार

Maruti Suzuki WagonR : मारुति देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनियों में से एक है। मारुति छोटी कारों से लेकर प्रीमियम मॉडल की भरमार है। भारत में सबसे ज्यादा कारें मारुति की बिकती है। क्योकि मारुति की कारें ग्राहकों का किफायती कीमत में मिल जाती है। आज हम आपको मारुति की एक ऐसी कार के बारे में बताने वाले हैं जो सबसे ज्यादा बिकती है।
 | 
Maruti की ये कार बिकती है सबसे ज्यादा, हर महीने बनती है टॉप सेलिंग कार

HBN News Hindi (ब्यूरो) : आज के समय में ग्राहक कम कीमत में शानदार माइलेज वाली कार खरीदना पसंद करते है। मारुति की वैगन- आर भारत में सबसे ज्यादा बिकने(best selling car) वाली कार हैं। कंपनी की इस कार की हर महीने हाई सेल होती है। लेकिन सेफ्टी के मामले में ये कार जीरो है। आइए खबर के माध्यम(Maruti Suzuki WagonR ki kimat) से जानें इस कार में सेफ्टी फीचर्स ना होने के बावजूद भी इस कार की बिक्री सबसे ज्यादा क्यो होती है। 

 


ग्लोबल NCAP क्रैश टेस्ट में जीरो स्टार रेटिंग मिली है


देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी के पोर्टफोलियो में छोटी कारों से लेकर (top selling car)प्रीमियम मॉडल की भरमार है। भारत में सबसे ज्यादा कारें मारुति की ही बिकती हैं। छोटी कारों की बिक्री में कंपनी आज भी सबसे आगे है। बात वैगन-आर की करें तो हर महीने इस कार की सबसे ज्यादा बिक्री होती है। लेकिन ग्लोबल NCAP क्रैश टेस्ट में यह कार बुरी तरह फ्लॉप साबित हुई है। इसे एडल्ट (Maruti Suzuki WagonR)सेफ्टी में एक स्टार रेटिंग मिली है जबकि चाइल्ड सेफ्टी में जीरो स्टार रेटिंग मिली है। पिछले महीने 17,850 यूनिट्स की बिक्री के साथ ( maruti ki sabse sasti car)यह देश की दूसरी और कंपनी की पहली सबसे ज्यादा बिकने वाली कार बनी है। आखिर क्यों वैगन-आर इतनी बिकती है।

 

 
मारुति वैगन-आर ज्यादा स्पेस  मिलता है


मारुति वैगन-आर में सबसे ज्यादा स्पेस मिलता है। 5 लोग इसमें आसानी से बैठ सकते हैं। लेगरूम और हेडरूम के लिए जगह की कोई दिक्कत नहीं है। कार में 341 लीटर का बूट स्पेस मिल जाता है, जहां आप काफी सामान रख सकते हैं।


किफायती इंजन


वैगन-आर में दो इंजन का ऑप्शन मिलता है जिसमें 1.0L और 1.2L लीटर पेट्रोल इंजन शामिल है। इसके अलावा  इसमें CNG का भी ऑप्शन(Maruti Suzuki WagonR ki mileage) मिलता है। यह पेट्रोल मोड पर 25.19 km/l की माइलेज और CNG मोड पर 33.47 km/kg की माइलेज देती है।

 


सबसे बड़ा सर्विस नेटवर्क


ग्राहक वैगन-आर इसलिए भी खरीदना पसंद करते हैं क्योंकि दूसरे ब्रांड्स की तुलना में मारुति का सर्विस नेटवर्क देश में सबसे बड़ा है। और भी हाल ही में कंपनी ने अपना 5,000 वां सर्विस टचप्वाइंट खोला है। दूसरी बात स्पेयर्स पार्ट्स आसानी से मिल जाते हैं।


चलाने में आसान है


वैगन-आर को ड्राइव करना काफी इजी है। आप इसे सिटी में आसानी से निकाल लेते हैं। हाईवे पर ही 80-100kmph की स्पीड तक यह बेहतर प्रदर्शन करती है।

 

मारुति की इस कार के 30 लाख से ज्यादा ग्राहक


मारुति ने पहली बार वैगन-आर को साल 1999 में लॉन्च किया था और आज तक इसे भारत में खूब पसंद किया जा रहा है। इसके 30 लाख से(Maruti Suzuki WagonR kab huyi thi launch) ज्यादा ग्राहक हैं। लोगों का अटूट भरोसा है इस कार पर और  यह एक बड़ो वजह है इसे खरीदने की ।


मारुति सुजुकी वैगन-आर में खामियां


वैगन-आर में जितनी खूबियां हें उतनी ही कमियां भी हैं। डिजाइन के मामले यह उतनी इम्प्रेस नहीं करती है। इसका Boxy डिजाइन कमजोर नज़र (Maruti Suzuki WagonR ki safety)आता है। इसमें बॉडी रोल बहुत है। साथ ही हाई स्पीड में ड्राइव करते समय आपका Confidence कम होता है। कार की क्वालिटी एक दम हल्की  है। मारुति की ज्यादातर कारों में यही समस्या है। यही कारण ही कि ग्लोबल NCAP क्रैश टेस्ट में सबसे ख़राब प्रदर्शन मारुति की कारों का ही होता है।


भले भी आपको ज्यादा माइलेज मिल जाए लेकिन एक्सीडेंट होने पर आप इस कार में सुरक्षित नहीं है। सेफ्टी के नाम पर जीरो हैं मारुति की कारें।  इसलिए एक नई कार खरीदने से पहले सेफ्टी फीचर्स और रेंटिंग जरूर चेक करें।