HBN News Hindi

Home Appliances Repair : अब ग्राहकों को मिलने जा रही यह नई सुविधा, ऑनलाइन पोर्टल शुरू होते ही सस्ते में ठीक करा सकेंगे ये उपकरण

Home Appliances Repair: पहले ग्राहकों को  जब अपने इलेक्ट्रॉनिक उपकरण को ठीक करवाना होता था तो उन्हे एक से अधिक वर्कशॉप जाना पड़ता था और कई दिनों तक इंतजार करना पड़ता था लेकिन अब सरकार ने ग्राहकों की राहत के लिए इस समस्या का समाधान तैयार कर लिया है आइए जानते हैं इस समाधान के बारे में।

 | 
Home Appliances Repair : अब ग्राहकों को मिलने जा रही यह नई सुविधा, ऑनलाइन पोर्टल शुरू होते ही सस्ते में ठीक करा सकेंगे ये उपकरण


HBN News Hindi(ब्यूरो): ग्राहको को पहले मोबाइल, लैपटॉप या कार की रिपेयरिंग के लिए कंपनी के(home appliances repair) सर्वीस सेंटर ही जाना पड़ता था और बाहर से रिपेयरिंग कराने पर इसकी वारंटी खत्म हो जाती थी. लेकिन अब ऐसा नहीं हैं क्योंकि ग्राहकों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए अब केंद्र सरकार (customers ke benefit)राइट टू रिपेयर फ्रेमवर्क लेकर आई है।आइए जानते हैं इस फ्रेमवर्क के बारे में डिटेल से।

  


इस फ्रेमवर्क के जरिए करवा सकते हैं उपकरण ठीक

 

यदि आप भी घर में मौजूद टीवी, फ्रिज, कूलर या किसी अन्य उपकरण के(home equipments) बार-बार खराब होने और मैकेनिक को बार-बार भारी पैसे देकर परेशान हो गए हैं तो जल्द ही आप अब ऐसे उपकरणों की मरम्मत सस्ते में करा सकते हैं। इस फ्रेमवर्क के तहत 4 सेक्टर से जुड़ी मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों को राइट टू रिपेयर पोर्टल जोड़ा जाएगा और अपने उत्पाद और उसमें इस्तेमाल होने वाले पार्ट्स को रिपेयर करने की सुविधा बताने के बारे में कहा है। इन 4 सेक्टर में फार्मिंग उपकरण, मोबाइल-इलेक्ट्रॉनिक्स, कंज्यूमर ड्यूरेबल्स एवं ऑटोमोबाइल उपकरण शामिल हैं।

 

 

 

ग्राहक उठा सकेंगे ये फायदे


उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने राइट टू रिपेयर(right to repair framework) फ्रेमवर्क के बारे में कहा है कि घर में मौजूद उत्पाद के खराब होने पर कई बार उपभोक्ता सही जानकारी के अभाव में उसे रिपेयर नहीं कराते हैं और उसके स्थान पर नया प्रोडक्ट खरीद कर ले आते हैं। उत्पाद में लगा कौन सा पार्ट्स खराब है और उसे ठीक करने में कितना खर्च आएगा। इस तरह की जानकारी के अभाव में ग्राहकों को काफी ज्यादा नुकसान हो जाता है। कई बार मार्केट में मैकेनिक भी मनमानी वसूली कर लेते हैं। इसके अलावा बड़ी कंपनियों के रिपेयरिंग सेंटर के नाम पर भी कई फर्जी वेबसाइट चल रही है और उनके नाम पर ठगी हो रही है।


राइट टू रिपेयर फ्रेमवर्क से ग्राहकों को फायदे


उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के मुताबिक, राइट टू रिपेयर फ्रेमवर्क के जरिए ई-कचरे में भी कमी आएगी और ग्राहकों को तुरंत सामान नहीं बदलना पड़ेगा। राइट टू रिपेयर पोर्टल पर कंपनी के कस्टमर केयर के साथ उत्पाद में लगे पार्ट्स व उनकी कीमत जैसी चीजों की भी जानकारी प्राप्त हो सकेगी। राइट(customers ko hongi framework ki knowledge) टू रिपेयर पोर्टल पर कंपनी अपने अधिकृत सर्विस सेंटर के साथ थर्ड पार्टी सर्विस सेंटर के बारे में भी सूचना देगी। उपभोक्ता मामलों के(customers benefit) मंत्रालय की ओर से हाल ही सभी आरओ व वाटर फिल्टर निर्माता कंपनियों से कहा गया है कि वे अपने फिल्टर पर विभिन्न भौगोलिक स्थितियों के हिसाब से उपभोक्ताओं को कैंडल के लाइफ के बारे में विस्तृत जानकारी दें।

फ्रेमवर्क में ये प्रोडक्ट किए गए हैं शामिल

मोबाइल फोन
लैपटॉप
डाटा स्टोरेज सर्वर

प्रिंटर
हार्डवेयर
सॉफ्टवेयर फार्मिंग सेक्टर
वाटर पंप मोटर
ट्रैक्टर पार्ट्स कंज्यूमर ड्यूरेबल
मिक्सर
ग्राइंडर
चिमनी
टीवी
यात्री वाहन, कार, दोपहिया और इलेक्ट्रिक वाहन