HBN News Hindi

Cheap car ki Bikri Jyada : सस्ती कारों ने महंगी कारों को लगा दिया ठिकाने, यह है सबसे बड़ा कारण

Cars For Lower Middle Class People : कार खरीदना उतना भी मुश्किल नहीं है, जितना की आपकों लगता है।  लेकिन इसके देखभाल और चलाने के खर्चे के साथ-साथ ही ईएमआई भी देनी पड़ती है, यानी मासिक किस्त चुकाने के लिए जितने भी  पैसे की जरूरत होती है, उतने में तो 4-5 लोगों की फैमिली अपने महीने भर के खर्च को वहन कर लेती है।
 
 | 
Cheap car ki Bikri Jyada : सस्ती कारों ने महंगी कारों को लगा दिया ठिकाने, यह है सबसे बड़ा कारण

HBN News Hindi (ब्यूरो) : आज के समय में हर घर में कार होती है चाहे वो कार महंगी हो या सस्ती पर होती जरूर है, लेकिन भारत में सबसे ज्यादा सस्ती कार ही बिकती है और इसके पीछे के भी अनेक कारण है। तो आज हम इस खबर के माध्यम से इनके 5 प्रमुख कारणो के बारे में विस्तार से जानेंगे। 

 


गाड़ियां है एक लग्जरी आइटम 


भारत दुनिया की सबसे ज्यादा आबादी वाला देश है और इस विकासशील देश में ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री एक महत्वपूर्ण बाजार है। यहां कारें न केवल एक लग्जरी आइटम हैं, बल्कि कई लोगों के लिए परिवहन का एक जरूरी साधन भी हैं। यह सच है कि भारतीय कार बाजार में कई महंगी कारें उपलब्ध हैं, लेकिन सस्ती कारों की हमेशा (Kyo Bikti h sasti car jayada) ज्यादा मांग रही है। एक तो यह है कि यहां ज्यादातर आबादी निम्न मध्यवर्गीय है, जिनके लिए लग्जरी से जुड़ीं चीजें खरीदना किसी सपने की तरह होती है। आज हम आपको भारत में किफायती कार ज्यादा बिकने के 5 प्रमुख कारण बताते हैं।


ये है वे 5 प्रमुख कारण


1. बजट की दिक्कत 


भारत में प्रति व्यक्ति आय अपेक्षाकृत कम है। इसका मतलब है कि अधिकांश लोग महंगी कारों को वहन नहीं कर सकते हैं। सस्ती कारें उनके बजट में फिट बैठती हैं और उन्हें अपनी जरूरतों के अनुसार आने-जाने की सुविधा प्रदान करती हैं।

 


2. ज्यादा माइलेज 


भारत में पेट्रोल-डीजल हो या सीएनजी, इनकी कीमतें अपेक्षाकृत ज्यादा हैं। इसलिए भारतीय खरीदार ज्यादा माइलेज वालीं कारों को प्राथमिकता देते हैं, जो सस्ती कारों में आम तौर पर पाई जाती हैं। सस्ती कारों को आम तौर पर कम रखरखाव की आवश्यकता होती है, जो उन्हें लंबे समय में अधिक किफायती बनाती है।


3. छोटी और हल्की 


भारत में ज्यादातर लोग शहरों में रहते हैं। शहरों में खास तौर पर सड़कों पर भारी ट्रैफिक होता है और छोटी दूरी की यात्रा आम होती है। सस्ती कारें आमतौर पर छोटी और हल्की होती हैं, जो उन्हें शहरों में चलाने और पार्क करने में आसान बनाती हैं।


4. सोशल स्टेटस का प्रतीक 


भारतीय समाज में कारें अक्सर सोशल स्टेटस का प्रतीक मानी जाती हैं। हालांकि, सस्ती कारें भी मालिकों को एक निश्चित स्तर की स्वतंत्रता और गतिशीलता प्रदान करती हैं, जो उनके लिए महत्वपूर्ण है। सरकार सस्ती कारों को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न पहल कर रही है। उदाहरण के लिए, सरकार ने छोटी कारों पर करों को कम किया है और ऑटो लोन पर सब्सिडी प्रदान की है।


5. आने वाले समय में मांग बढ़ेगी


भारतीय कार बाजार में सस्ती कारों की एक पूरी सीरीज (cheap cars in demand) उपलब्ध है। अलग-अलग कार कंपनी विभिन्न प्रकार की सुविधाओं और प्राइस पॉइंट के साथ सस्ती कारों की पेशकश करते हैं, जिससे खरीदारों को अपनी जरूरतों और बजट के अनुसार कार चुनने की स्वतंत्रता मिलती है। यह अनुमान लगाया जा सकता है कि आने वाले वर्षों में भारत में सस्ती इलेक्ट्रिक कारों की मांग बढ़ेगी।