HBN News Hindi

Wheat Purchased : इस बार रुपयों से भर जाएगी किसानों की झोली, सरकार ने खरीदा है इतना गेहूं

Agriculture updated News: भारत में गेहूं एक मुख्य फसल है। भारत में पंजाब, हरियाणा एवं उत्तर प्रदेश गेहूं के मुख्य फसल उत्पादक क्षेत्र हैं। गेहूं की खरीद देश भर के प्रमुख खरीद करने वाले राज्यों में सुचारू रूप से चल रही है। आपको बता दें कि गेहूं की सरकारी खरीद इस साल प‍िछले वर्ष के आंकड़े को पार कर गई है। बता दें कि प‍िछले साल के मुकाबले एक लाख टन से अध‍िक की खरीद हो चुकी है। आइए जानते हैं इसके आंकड़ों के बारे में। 

 | 
Wheat Purchased : इस बार रुपयों से भर जाएगी किसानों की झोली, सरकार ने खरीदा है इतना गेहूं

HBN News Hindi (ब्यूरो ) :जैसा कि आप जानते ही है कि गेहूं में प्रोटीन की मात्रा अन्य अनाजों की तुलना में सबसे अधिक होती है इसलिए खाद्यान के रूप में यह बहुत ही महत्वपूर्ण है और इसकी मांग दुनियाभर में रहती है। आपको बता दें कि इस साल(Wheat procurement) सरकार ने गेहूं की बंपर खरीद की है। बता दें कि मार्केटिंग ईयर 2024-25  के दौरान गेहूं की खरीद पिछले साल के कुल 262.48 लाख मीट्रिक(Wheat Prices) टन से अधिक हो गई है|

 

पिछले साल से अधिक हुई खरीद
रबी मार्केटिंग सीजन 2024-25 के दौरान देश के प्रमुख खरीदारी(farmer news) करने वाले राज्यों में गेहूं की खरीदारी सुचारू रूप से चल रही है। इस वर्ष अब तक केंद्रीय पूल में 262।48 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदा जा चुका है, जो पिछले वर्ष की कुल 262।02 लाख मीट्रिक टन खरीदारी से अधिक है।

इन पांच राज्यों का योगदान

रबी सीजन 2024-25 के दौरान कुल 22.31 लाख किसान (agriculture news)लाभान्वित हुए हैं और उन्‍हें कुल 59,715 करोड़ रुपये का(kisan samachar) न्‍यूनतम समर्थन मूल्‍य (MSP) मिला है। गेहूं की खरीदारी में मुख्‍य योगदान पांच (खेती किसान)खरीद करने वाले राज्यों यानी पंजाब, हरियाणा, मध्य प्रदेश, राजस्थान और उत्तर प्रदेश का रहा है, जहां क्रमशः 124.26 लाख मीट्रिक टन, 71.49 लाख मीट्रिक टन, 47.78 लाख मीट्रिक टन, 9.66 लाख मीट्रिक टन और 9.07 लाख मीट्रिक टन की खरीद की गई।

 


चावल की मार्केटिंग जारी

चावल की खरीदारी भी सुचारू रूप से चल रही है। खरीफ (Wheat procurement)मार्केटिंग सीजन 2023-24 के दौरान अब तक 98।26 लाख किसानों से सीधे ही 489.15 लाख मीट्रिक टन चावल के बराबर 728.42 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदारी की गई है और लगभग 1,60,472 करोड़ का न्‍यूनतम समर्थन मूल्‍य दिया गया है।

 

खरीदा जा चुका है 600 लाख मीट्रिक टन से अधिक गेहूं
खरीदारी की उपरोक्त मात्रा के साथ, वर्तमान में केंद्रीय पूल(farmer news) में गेहूं और चावल का संयुक्त स्टॉक 600 लाख मीट्रिक टन से अधिक हो गया है, जो देश की पीएमजीकेएवाई (PMGKAY) और अन्य कल्याणकारी योजनाओं के तहत खाद्यान्न की अपनी जरूरतों को पूरा करने और बाजार उपायों के लिए भी एक सुखद स्थिति दर्शाता है।