HBN News Hindi

Agriculture : इन तरीकों से करेंगे धान की बुवाई तो होगी बंपर पैदावार, मिलेगा मोटा मुनाफा

Agriculture News : जैसा कि आप जानते ही है कि पारंपरिक तरीके से धान की खेती में किसानों को ज्यादा मेहनत और पानी की जरूरत होती है। खरीफ सीजन में धान की फसल को कई तरह के कीटों और रोगों से बचाना भी जरूरी होता है। आज हम आपको इस खबर में कुछ धान की बुवाई के लिए कुछ आसान टिप्स बताने जा रहे हैं। तो आइए जानते हैं । 
 
 | 
Agriculture : इन तरीकों से करेंगे धान की बुवाई तो होगी बंपर पैदावार, मिलेगा मोटा मुनाफा

HBN News Hindi (ब्यूरो) : खरीफ सीजन के लिए धान बुवाई की तैयारियों में किसान(dhaan kee kheti se fayde) जुटे हुए हैं और ऐसे में कीटों और फसल के रोगों की रोकथाम के लिए किसान परेशान हैं। लेकिन आज हम आपको आसान टिप्स के बारे में बताएंगे जिससे किसान धान की बंपर पैदावार हासिल कर सकते हैं।

 

उर्वरक और सही बीज का इस्तेमाल 


धान की बुवाई के लिए जितना खेत का अच्छी तरह (bumper production will be obtained )से तैयार करना जरूरी है उतना ही उर्वरक और सही बीज का इस्तेमाल करना भी जरूरी है। इन सबके अलावा फसल को कई तरह के कीटों और रोगों से खतरा होता है।

कीटों और रोगों से छुटकारा 


कीटों और रोगों की रोकथाम के लिए किसान (you will get relief from these diseases)अभी से परेशान हैं। लेकिन, कुछ आसान टिप्स का इस्तेमाल कर के किसान धान की बंपर पैदावार हासिल कर सकते हैं और कीटों और रोगों से छुटकारा हासिल कर सकते हैं।

कौन-कौन से है रोग एवं कीट


खरीफ के सीजन में किसान अपनी फसल को रोग एवं कीट से बचने के लिए उन्नत किस्म के बीज एवं अच्छे उर्वरक का प्रयोग करें। जिससे आपकी फसल कीटों (धान की बुवाई से पहले करें ये काम)और रोगों से बची रहेगी। तो आइए कृषि विशेषज्ञ से जानते हैं कि धान की फसल में लगने वाले रोग एवं कीट कौन-कौन से हैं

 

ये 7 प्रमुख रोग 
विशेषज्ञ बताते हैं कि धान की फसल में कई तरह (things before sowing paddy)के रोग लगते हैं। जिनमें 7 प्रमुख रोग हैं सफेद रोग, विषाणु झुलसा, शीथ झुलसा, भूरा धब्बा, जीवाणु धारी, झोका, खैरा रोग । इन सभी रोगों के प्रबंधन के लिए किसानों को कुछ प्रमुख बातों का ध्यान रखना जरूरी है।

 

5 प्रमुख कीट 
धान की फसल में कीट लगने का भी खतरा ज्यादा(5 कीटों और 7 रोगों का खतरा होगा कम ) बना रहता है। इसमें 5 प्रमुख कीट हैं पत्ती लपेटक, दीमक, गंधी बग,सैनिक कीट,तना बेधक कीट है ।जो धान की फसल की पैदावार को प्रभावित करते हैं। इनसे बचाव के लिए किसान फसल को खरपतवार से मुक्त रखें अच्छी उर्वरक का प्रयोग करें, कतार में पौधे की 20 ×20 सेमी की दूरी पर बुवाई करें।

समय-समय पर सिंचाई 
साथ ही यह भी ध्यान दें की 20 कतार के बाद एक कतार छोड़कर अगली कतार शुरू करें। समय-समय पर सिंचाई करते रहें, एवं पौधे की रोपाई के पहले ऊपरी भाग को नष्ट कर रोपाई करें। साथ ही (धान की खेती से फायदा )वह बताते हैं कि 1.5 लीटर प्रति हेक्टेयर नीम आधारित कीटनाशक का प्रयोग करें। जिससे आपकी फसल की पैदावार बढ़ेगी और फसल रोग एवं कीट मुक्त रहेगी